S M L

CWG 2018: सायना नेहवाल की धमकी के बाद उनके पिता को मिली खेल गांव में रहने की इजाजत

स्टार शटलर सायना नेहवाल ने कॉमनवेल्थ गेम्स से हटने की धमकी दे डाली थी

Updated On: Apr 03, 2018 10:33 PM IST

FP Staff

0
CWG 2018: सायना नेहवाल की धमकी के बाद उनके पिता को मिली खेल गांव में रहने की इजाजत

भारत की स्टार शटलर सायना नेहवाल के पिता हरवीर सिंह का गोल्ड कोस्ट में एक्रेडिटेशन संबंधी मामला मंगलवार को सुलझ गया. लेकिन इसके लिए जो घटनाएं घटीं उनसे माहौल में कड़वाहट पैदा हुई. कहा जा रहा है कि भारतीय ओलंपिक संघ( आईओए) को सायना के पिता का एक्रेडिटेशन  बनवाने के लिए इसलिए मजबूर होना पड़ा, क्योंकि इस बैडमिंटन खिलाड़ी ने कॉमनवेल्थ गेम्स से हटने की धमकी दे डाली थी.

दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स 2010 की स्वर्ण पदक विजेता सायना ने गोल्ड कोस्ट में मौजूद आईओए के एक वरिष्ठ पदाधिकारी को पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने लिखा था कि अगर उनके पिता को ‘एक अधिकारी’ के रूप में मंजूरी नहीं दी गई तो वह इन खेलों में हिस्सा नहीं लेंगी. सायना ने पत्र में लिखा, ‘ मैंने आपको संदेश भेजा और आपसे बात करने की भी कोशिश की, लेकिन आपने मेरा फोन नहीं उठाया. मेरे पिता को लेकर बड़ा मुद्दा बना दिया गया है. अगर उनका एक अधिकारी के रूप में एक्रेडिटेशन नहीं होता है तो मैच नहीं खेलूंगी.’ आईओए के एक अधिकारी ने पुष्टि की कि सायना ने पत्र लिखा है.

आईओए के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘खिलाड़ियों की मदद करना हमारा कर्तव्य है. उन्हें पदक जीतने पर ध्यान देना चाहिए. हां, सायना ने वरिष्ठ अधिकारी को पत्र लिखा था, लेकिन हम इसे मुद्दा नहीं बनाना चाहते हैं. हमने अभी समस्या का निवारण कर दिया है. हम पत्र की भाषा पर टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं.’ भारतीय दल के प्रमुख विक्रम सिसौदिया ने कहा, ‘ मुझे उनका कोई पत्र नहीं मिला है. उन्होंने केवल मुझे समस्या से अवगत कराया और कहा कि इसे सुलझाने के लिए क्या कुछ किया जा सकता है.’

खेल मंत्रालय ने साफ किया था कि सायना और रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता पीवी सिंधु के माता-पिता सरकारी खर्च पर गोल्ड कोस्ट नहीं जाएंगे. लेकिन उन्हें भारतीय दल का हिस्सा बनने की मंजूरी दे दी गई

saina 1

थी.

सायना ने सोमवार को कई ट्वीट करके अपनी नाराजगी जाहिर की थी. उन्होंने लिखा था, ‘ यह देखकर हैरानी हुई कि जब हम कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 के लिए भारत से रवाना हुए तो मेरे पिता की टीम अधिकारी के रूप में पुष्टि की गई थी और मैंने इसके लिए पूरा भुगतान किया. लेकिन जब हम खेल गांव पहुंचे तो उनका नाम टीम अधिकारियों की सूची से काट दिया गया था.... और वह यहां तक कि मेरे साथ भी नहीं रह सकते हैं.’

इस पर आईओए ने जवाब में लिखा था कि उन्होंने लगातार भारतीय बैडमिंटन संघ (बाइ) को बताया था कि अतिरिक्त अधिकारी के लिए भुगतान में खेल गांव में बिस्तर की व्यवस्था शामिल नहीं है. आईओए ने लिखा, ‘प्रिय सायना, हरवीर सिंह का एक्रेडिटेशन अतिरिक्त अधिकारी के रूप में हुआ है. जैसा कि गोल्ड कोस्ट 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स के नियमावली में लिखा गया है. जिसके बारे में लगातार भारतीय बैडमिंटन संघ को बताया गया कि अतिरिक्त अधिकारी के लिए खेल गांव में बिस्तर की व्यवस्था नहीं है.’

(एजेंसी इनपुट के साथ)

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi