S M L

चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी : भारत ने पाकिस्तान को सिखाया सबक, चार मैदानी गोल से दर्ज की जीत

शनिवार को इस जीत के बाद अब भारत का अगला मुकाबला रविवार को अर्जेंटीना के खिलाफ

Shailesh Chaturvedi Shailesh Chaturvedi Updated On: Jun 24, 2018 12:48 AM IST

0
चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी : भारत ने पाकिस्तान को सिखाया सबक, चार मैदानी गोल से दर्ज की जीत

चैंपियंस ट्रॉफी आखिरी है. लेकिन भारत के लिए यह टूर्नामेंट शुरुआत की तरह है. पिछले दिनों बेहद कमजोर प्रदर्शन के बाद कोच बदला गया था. ऐसे में देखा जाना था कि नए कोच हरेंद्र सिंह के साथ टीम ने क्या सुधार किया है. कम से कम पहले टेस्ट में टीम पूरे अंकों के साथ पास हुई है. पाकिस्तान के खिलाफ चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी मुकाबले में उसने 4-0 से जीत दर्ज की है. नेदरलैंड्स के शहर ब्रेडा में खेला गया यह मैच नतीजे के मुकाबले कहीं ज्यादा नजदीकी था. लेकिन आखिर में नतीजा देखा जाता है. जब भी इस मैच का जिक्र होगा, रिकॉर्ड बुक में अंकित होगा कि भारतीय टीम ने बड़ी जीत दर्ज की.

पिछले कुछ समय में भारत और पाकिस्तान के बीच मुकाबले में पाक टीम के लिए मुश्किलें आती रही हैं. लेकिन कॉमनवेल्थ गेम्स में कोच रोलंट ओल्टमंस के साथ टीम ने जैसा प्रदर्शन किया था, उससे चैंपियंस ट्रॉफी में भारत के खिलाफ इस मैच को खासा मुश्किल माना जा रहा था. यह परख का मैच था. श्योर्ड मरीन्ये को हटाए जाने के बाद हरेंद्र सिंह के लिए परीक्षा की घड़ी थी कि वे टीम को कितना सुधार पाए हैं. दिलचस्प है कि मरीन्ये के समय जिन बातों को टीम इंडिया की कमजोरी मान गया, वही इस मैच में टीम की ताकत साबित हुईं.

गोल तो रमनदीप सिंह, दिलप्रीत सिंह, मनदीप सिंह और ललित उपाध्याय ने किए. लेकिन गोल से कहीं ज्यादा यह मैच अहम रहा भारतीय डिफेंस के लिए. भारतीय डिफेंस में सुरेंदर कुमार, वरुण कुमार, हरमनप्रीत सिंह हर किसी ने अच्छा प्रदर्शन किया. पिछले कोच की गुड बुक्स में नहीं होने की वजह से बाहर हुए बिरेंद्र लाकड़ा ने प्रभावित किया. श्रीजेश ने 2-3 अच्छे बचाव किए. लेकिन उन्हें राहत मिली होगी कि डिफेंस की दीवार ने उन तक गेंद को आने नहीं दिया. खासतौर पर तीसरे क्वार्टर में जब पाकिस्तान पूरी तरह चढ़कर खेल रही थी.

BREDA - Rabobank Hockey Champions Trophy India - Pakistan Photo: Rashid Mehmood. COPYRIGHT WORLDSPORTPICS FRANK UIJLENBROEK

पहला क्वार्टर एक तरह से एक-दूसरे को परखने में काम आया. भारतीय टीम हावी रही. लेकिन गोल नहीं कर पाई. दूसरे क्वार्टर में गोल हुआ. ललित उपाध्याय और सिमरनजीत सिंह का हमला था. रमनदीप के पास डिफ्लेक्ट करने की जिम्मेदारी थी, जो उन्होंने बखूबी निभाई. मैच के 26वें मिनट में इस गोल की वजह से भारतीय टीम हाफ टाइम पर 1-0 की बढ़त के साथ गई.

इसके बाद खेल शुरू हुआ, तो ऐसा लगा जैसे पाकिस्तान सब कुछ झोंक देना चाहता है. इस क्वार्टर में भारतीय डिफेंस की तारीफ करनी पड़ेगी, जिसने पाक टीम को कोई मौका नहीं दिया. शायद यहां की निराशा पाकिस्तानी खिलाड़ियों पर भी रही होगी. कुछ थकान भी, जिसकी वजह से चौथे क्वार्टर में दोनों टीमों के हमले बराबर रहे. आपसी हमलों के बीच 17 साल के दिलप्रीत ने गोल किया. सुरेंदर कुमार ने पाकिस्तानी हमले को नाकाम करते हुए सिमरनजीत को पास दिया था, जिन्होंने डी के करीब दिख रहे दिलप्रीत के लिए गेंद बढ़ाई. दिलप्रीत को सिर्फ गोलकीपर को छकाना था, जो उन्होंन किया.

BREDA - Rabobank Hockey Champions Trophy India - Pakistan Photo: Mandeep Singh scored and celebrates. COPYRIGHT WORLDSPORTPICS FRANK UIJLENBROEK

इस गोल के बाद ओल्टमंस ने गोलकीपर इमरान बट्ट को हटाने का फैसला किया. टीम बगैर गोलकीपर के खेली. इसका पूरा फायदा भारत ने उठाया. मनदीप लगातार डी के आसपास मंडरा रहे थे. उन्हें पास मिला, तो महज एक डिफेंडर को छकाना था, वो उन्होंने कर दिया. हूटर बजने से एक सेकेंड पहले रमनदीप के पास पर ललित उपाध्याय ने स्कोर 4-0 कर दिया.

भारत के लिए मैदानी खेल शानदार रहा. लेकिन यह ध्यान रखना होगा कि सिर्फ दो पेनल्टी कॉर्नर मिले. इनमें से एक को भी नहीं भुनाया जा सका. पाकिस्तान जैसी टीम के साथ तो यह चल जाता है, क्योंकि वो भारत जैसा ही खेलते हैं. लेकिन रविवार को अर्जेंटीना के खिलाफ इसमें सुधार करना पड़ेगा. उनके डिफेंस के सामने पेनल्टी कॉर्नर बरबाद होना भारत को भारी पड़ सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi