S M L

Asian games 2018: हाथ आए मेडल को जैसे ही भारत ने गंवाया, हर किसी को याद आई 1986 की 'गोल्डन रेस'

मैन्स 10 किमी में भारत के लक्ष्मणन ने 29.44.91 का समय लेकर ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था

Updated On: Aug 27, 2018 02:07 PM IST

FP Staff

0
Asian games 2018: हाथ आए मेडल को जैसे ही भारत ने गंवाया, हर किसी को याद आई 1986 की 'गोल्डन रेस'
Loading...

एशियन गेम्स के 8वें दिन जहां एथलेटिक्स में भारत को जश्न मनाने का मौका दिया, वहीं मैन्स 10 हजार में हर खेल प्रेमी का दिल उस टूट गया, जब भारत को हाथ आया मेडल गंवाना पड़ा और इसी के साथ इस रेस ने 1986 सियोल एशियन गेम्स की गोल्डन रेस की यादों को भी एक बार फिर जिंदा कर दिया.

मैन्स 10 हजार मीटर में भारत के गोविंदन लक्ष्मणन पर सबकी निगाहें थी. लक्ष्मण ने 29.44.91 का समय लेकर ब्रॉन्ज जीता और सबको जश्न मनाने का मौका भी दे दिया, लेकिन एक जश्न कुछ ही पल के लिए था. लक्ष्मणन को डिस्क्वालिफाई कर दिया गया दरअसल रेस के दौरान उनका पैर लेन से बाहर हो गया था और इसके साथ ही भारत से मेडल भी छिन गया, लेकिन इस रेस ने एक बार वर्षों पहले हुई गोल्डन रेस की यादों को ताजा कर दिया.

1986 सियोल एशियन गेम्स में भारतीय खिलाड़ी के साथ कुछ ऐसा ही हुआ था और वहां भारत ने गोल्ड गंवा दिया था. उस एशियाड में जब शाइनी अब्राहम  ट्रेक पर उतरी थी तो हर भारतीय को उनसे गोल्ड की ही उम्मीद थी और उन्होंने ऐसा किया भी, लेकिन रेस पूरी होने के बाद जैसे ही उन्हें डिस्क्वालिफाई किया गया, पूरे देश को एक झटका लगा. दरअसल उन्होंने रेस के दौरान काफी जल्दी ही अपनी लेन बदल दी थी.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi