S M L

Asian Games 2018, Tennis : जिस जोड़ी के बनने से शुरू हो गए थे विवाद, अब उसी ने देश को दिलाया छठा गोल्ड!

बोपन्ना और शरण ने टेनिस पुरुष डबल्स में स्वर्ण पदक जीता. प्रजनेश गुणेश्वरन को पुरुष सिंगल्स में कांसा

Updated On: Aug 24, 2018 10:06 PM IST

FP Staff

0
Asian Games 2018, Tennis : जिस जोड़ी के बनने से शुरू हो गए थे विवाद, अब उसी ने देश को दिलाया छठा गोल्ड!

अनुभवी टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना और दिविज शरण की जोड़ी ने शानदार प्रदर्शन कर जकार्ता में 18वें एशियन गेम्स में छठे दिन शुक्रवार को भारत को स्वर्ण पदक दिलाया. बोपन्ना और शरण की जोड़ी ने पुरुष डबल्स वर्ग का स्वर्ण पदक अपने नाम किया. भारतीय जोड़ी ने खिताबी मुकाबले में कजाखस्तान की एलेक्जेंडर बुबलिक और डेनिस येवसेव की जोड़ी को सीधे सेटों में 6-3, 6-4 से मात देकर जीत हासिल की. वही पुरुष सिंगल्स में अकेले भारतीय बचे प्रजनेश गुणेश्वरन को सेमीफाइनल में उज्बेकिस्तान के डेनिस इस्तोमिन से 2-6 2-6 से हारकर कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा. हालांकि यह मुकाबला स्कोरलाइन से ज्यादा प्रतिस्पर्धी रहा.

शुक्रवार को टेनिस स्पर्धा में दो पदक मिले. इनके अलावा अंकिता रैना ने महिला सिंगल्स में कांस्य पदक जीता था जिससे भारत का इन खेलों में अभियान समाप्त हो गया. इसमें कोई शक नहीं कि दिन के स्टार बोपन्ना और शरण रहे जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहली बार एक साथ खेल रहे थे. मौजूदा खेलों में टेनिस में यह भारत का पहला स्वर्ण है. इससे पहले सोमदेव देववर्मन और सनम सिंह ने 2010 में ग्वांग्झू में पीला तमगा जीता था. महेश भूपति और लिएंडर पेस ने 2002 और 2006 खेलों में स्वर्ण अपने नाम किया था. पेस ने इस बार अपना पसंदीदा जोड़ीदार नहीं मिलने के कारण ऐन मौके पर खेलों से नाम वापस ले लिया था. साकेत माइनेनी और सनम ने 2014 में रजत पदक जीता था.

फाइनल मैच में 20 मिनट के भीतर भारतीय टीम ने 4- 1 से बढ़त बना ली थी. इसके बाद बढ़त 5-3 की हो गई और बोपन्ना की सर्विस पर भारत ने पहला सेट जीता. कजाख खिलाड़ियों ने कई गलतियां कीं. दूसरी ओर बोपन्ना और शरण के बीच गजब का तालमेल देखने को मिला. बोपन्ना ने बेसलाइन से शानदार खेल दिखाया और अच्छे विनर लगाए.

दूसरे सेट में कजाख टीम ने बेहतर प्रदर्शन किया, लेकिन सहज गलतियों पर काबू नहीं पा सके. उन्होंने पांचवें गेम में डबल फाल्ट भी किया जिसका खामियाजा भुगतना पड़ा. कजाख टीम के पास रफ्तार थी तो भारतीयों के पास अनुभव. एक समय स्कोर 3-3 था, लेकिन बोपन्ना और शरण ने 5-3 की बढत बना ली. इसके बाद भारतीयों ने शानदार प्रदर्शन बरकरार रखते हुए सेट और मैच जीत लिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi