S M L

asian games 2018 : बोपन्ना-शरण और अंकिता ने भारत के लिए दो पदक पक्के किए

अंकिता की रैंकिंग विरोधी खिलाड़ी से 400 से भी अधिक स्थान बेहतर थी और यह अंतर प्रदर्शन में भी दिखाई दिया

Updated On: Aug 22, 2018 10:24 PM IST

FP Staff

0
asian games 2018 : बोपन्ना-शरण और अंकिता ने भारत के लिए दो पदक पक्के किए

रोहन बोपन्ना और दिविज शरण की शीर्ष वरीय पुरुष डबल्स जोड़ी और अंकिता रैना ने बुधवार को सेमीफाइनल में जगह बनाकर एशियन गेम्स की टेनिस स्पर्धा में भारत के लिए कम से कम दो कांस्य पदक पक्के किए. दुनिया की 189वें नंबर की खिलाड़ी अंकिता ने हांगकांग की युडाइस चोंग को 6-4 6-1 से हराकर महिला सिंगल्स के अंतिम चार में जगह बनाई. सेमीफाइनल में हारने वाले खिलाड़ियों को भी कांस्य पदक मिलेगा.

अंकिता की रैंकिंग विरोधी खिलाड़ी से 400 से भी अधिक स्थान बेहतर थी और यह अंतर प्रदर्शन में भी दिखाई दिया. अंकिता को दुनिया की 92वें नंबर खिलाड़ी थाइलैंड की लुकसिका कुमकुम की हार का भी फायदा मिला.

एशियन गेम्स की महिला सिंगल्स स्पर्धा में यह भारत का तीसरा पदक होगा. इससे पहले सानिया ने 2006 में रजत और 2010 में कांस्य पदक जीता. अंकिता पहले सेट में एक समय 1-4 से पिछड़ रही थी, लेकिन इसके बाद वह वापसी करते हुए 54 मिनट में सेट जीतने में सफल रही. उन्होंने दूसरा सेट सिर्फ 27 मिनट में जीता.

अंकिता रैना

अंकिता रैना

भारतीय कप्तान और कोच जीशान अली ने कहा, ‘अंकिता फाइटर है और उसने इतनी तेज गर्मी में तीनों स्पर्धाओं में खेलने की पेशकश की थी. वह अच्छा खेली. उसके ड्रॉ में थाइलैंड की खिलाड़ी हार गई जिससे उसकी स्थिति बेहतर हो गई.’

बोपन्ना और शरण को एक साथ खेलने का अधिक अनुभव नहीं है लेकिन यांग सीह और यांग सुंग हुआ की चीनी ताइपे की जोड़ी के खिलाफ इन्होंने ठोस खेल दिखाया. भारतीय जोड़ी ने 6-3 5-7 10-1 से जीत दर्ज की.

पुरुष डबल्स में दूसरे वरीय रामकुमार रामनाथन हालांकि अंतिम 16 के मुकाबले में उज्बेकिस्तान के जुराबेक करिमोव के खिलाफ हार गए. दुनिया के 134वें नंबर के भारतीय खिलाड़ी को 428वें नंबर के खिलाफ के खिलाफ 6-3 4-6 3-6 से हार झेलनी पड़ी.

रामकुमार रामनाथन

रामकुमार रामनाथन

अली ने कहा, ‘रणनीतिक रूप से राम ने सब कुछ गलत किया. कोर्ट धीमे थे और सर्व एवं वाली की जरूरत नहीं थी. वह लगातार ऐसा करता रहा और उसे इसका नुकसान उठाना पड़ा. राम जैसी क्षमता के व्यक्ति से यह उम्मीद नहीं थी.’

प्रजनेश गुणेश्वरन ने हालांकि क्वार्टर फाइनल में जगह बनाकर पदक की ओर कदम बढ़ाए. उन्होंने वियतनाम के ली होआंग नैम को 6-3 5-7 6-4 से हराया.

अंकिता और प्रार्थना थोंबारे की महिला डबल्स जोड़ी को हालांकि डेनिलिना और एनितदिनोवा गोजाल की कजाखस्तान की जोड़ी के खिलाफ 1-6 3-6 से शिकस्त का सामना करना पड़ा. सुमित नागल और रामकुमार की पुरुष युगल जोड़ी भी हार के साथ टूर्नामेंट से बाहर हो गई. मिक्स्ड डबल्स में दारोमदार बोपन्ना और अंकिता के कंधों पर हैं. इस जोड़ी ने वोंग चुन हुन और चोंग की हॉन्गकॉन्ग की जोड़ी को 6-4 6-4 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi