S M L

Asian Games 2018, Shooting: सटीक निशाना लगाने में कितने सफल रहेंगे युवा

कॉमनवेल्‍थ की तुलना में एशियाई खेलों की चुनौती अधिक कड़ी है और देखना होगा कि वे दबाव में कैसा प्रदर्शन करते हैं.

Updated On: Aug 18, 2018 02:46 PM IST

FP Staff

0
Asian Games 2018, Shooting: सटीक निशाना लगाने में कितने सफल रहेंगे युवा

शनिवार से यहां शुरू होने वाले एशियन गेम्‍स की निशानेबाजी इवेंट में पदक हासिल करने का प्रयास करेंगे, लेकिन उनके लिए चीन और साउथ कोरिया कड़ी चुनौती होंगी. अनीश 15 साल और मनु 16 साल के हैं. दोनों ने कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स की 25 मीटर रैपिड फायर पिस्टल और 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में गोल्‍ड जीतकर सुर्खियों में आए थे, लेकिन कॉमनवेल्‍थ की तुलना में एशियाई खेलों की चुनौती अधिक कड़ी है और देखना होगा कि वे दबाव में कैसा प्रदर्शन करते हैं.

मनु भाकर ने इस साल मैक्सिको विश्व कप में दोहरा स्वर्ण पदक जीतकर झंडे गाड़ दिए थे. उन्होंने 10 मीटर एयर पिस्टल और प्रकाश मितरावल के साथ इसकी मिक्सड टीम स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीते थे. दिलचस्प बात यह है कि मनु भाकर ने अप्रैल 2016 में निशानेबजी को अपनाया और डेढ़ साल के भीतर विश्व कप में दोहरे गोल्ड पर निशाना साध दिया, ऐसा कम ही देखने को मिलता है. मनु भाकर इन एशियाई खेलों में एयर पिस्टल, स्पोर्ट्स पिस्टल और एयर पिस्टल मिक्सड में भाग ले रही हैं. इसलिए वह कम से कम दो व्यक्तिगत स्पर्धाओं में पीला तमगा ला ही सकती हैं.

भारत ने गोल्ड कोस्ट में सात गोल्‍ड जीते थे और देश ने एशियाई खेलों के इतिहास में इतने ही स्वर्ण पदक हासिल किए हैं. केवल चार निशानेबाज जसपाल राणा, रोंजन सोढी, रणधीर सिंह और जीतू राय ही यहां सोने का तमगा जीत सके हैं. जसपाल कोच के तौर पर यहां टीम के साथ हैं, वह पहले ही युवाओं पर दिए जा रहे गैरजरूरी ध्यान के बारे में बात कर चुके हैं. हालांकि वह उनके पदक जीतने की संभावनाओं से इनकार नहीं करते. मनु शुरुआती दिन अभिषेक वर्मा के साथ पिस्टल मिक्‍स्‍ड टीम में उतरेंगी. वह पहले ही इंटरनेशनल स्तर पर सफलता का स्वाद चख चुकी हैं, उन्होंने मार्च में गुआदालाजारा विश्व कप में दो स्वर्ण पदक जीते और इसके बाद वह गोल्ड कोस्ट में पोडियम पर रहीं.

Shooting - Gold Coast 2018 Commonwealth Games - Men's 25m Rapid Fire Pistol - Finals - Belmont Shooting Centre - Brisbane, Australia - April 13, 2018. Anish of India celebrates his win. REUTERS/Eddie Safarik - UP1EE4D0CNE3W

वहीं अनीष ने जूनियर विश्व चैम्पियनशिप में दो स्वर्ण पदक हासिल किए और उन्हें सीनियर स्तर पर अपनी काबिलियत साबित करनी है, जिससे एशियाई खेल उनके लिए बड़ी परीक्षा होंगे. वहीं 19 वर्षीय इलावेनिल भी शानदार निशानेबाज हैं, जिन्होंने साल के शुरू में विश्व रिकॉर्ड के साथ सिडनी जूनियर विश्व कप की 10 मीटर राइफल स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीतकर सुर्खियां बटोरीं थीं. संजीव राजपूत गोल्ड कोस्ट में 50 मीटर राइफल थ्री पाजीशन में गोल्‍ड मेडल जीतने के बाद यहां भी उसी प्रदर्शन को दोहराने की कोशिश करेंगे.

अपूर्वी चंदेला और रवि कुमार रविवार को जकाबारिंग शूटिंग रेंज में मिक्‍स्‍ड टीम इवेंट से राइफल में भारत का अभियान शुरू करेंगे. टीम में काफी युवा निशानेबाज हैं, लेकिन सीनियर जैसे हीना सिद्धू (पिस्टल), मानवजीत सिंह संधू (ट्रैप) और श्रेयसी सिंह (ट्रैप) भी अच्छा प्रदर्शन करने को बेताब होंगे. भारत ने शूटिंग में चार साल पहले इंचियोन एशियाई खेलों में एक गोल्‍ड, सिल्‍वर और सात ब्रॉन्‍ज मेडल जीतकर इवेंट में 8वां स्‍थान हासिल किया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi