S M L

Asian Games 2018 : मुक्केबाज सरजूबाला पदक के करीब पहुंचीं, मनोज और शिव हुए बाहर

सरजूबाला देवी ने शानदार प्रदर्शन कर महिलाओं की 51 किलोवर्ग फ्लाईवेट स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया है. लेकिन अनुभवी मनोज कुमार और शिव थापा दूसरे दौर में शिकस्त के साथ बाहर हो गए

Updated On: Aug 26, 2018 08:43 PM IST

FP Staff

0
Asian Games 2018 : मुक्केबाज सरजूबाला पदक के करीब पहुंचीं, मनोज और शिव हुए बाहर

पहली बार एशियन गेम्स में हिस्सा ले रहीं विश्व कप की पूर्व रजत पदक विजेता 25 वर्षीय भारतीय मुक्केबाज सरजुबाला देवी ने शानदार प्रदर्शन कर महिलाओं की 51 किलोवर्ग फ्लाईवेट स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया है. लेकिन अनुभवी मनोज कुमार और शिव थापा प्रीक्वार्टर फाइनल में शिकस्त के साथ रविवार को मुक्केबाजी स्पर्धा से बाहर हो गए.

फ्लाइवेट 51 किग्रा वर्ग में चुनौती पेश कर रही सरजूबाला ने ताजिकिस्तान की मदीना घाफोरोवा को 5-0 से हराया, लेकिन जीत के अंतर की तुलना में मुकाबला अधिक कड़ा था. गत राष्ट्रीय चैंपियन सरजूबाला को कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा और उन्होंने लय में आने में भी समय लिया. पहले दिन शुरुआत में विरोधी खिलाड़ी के हावी रहने के बाद मणिपुर की सरजूबाला ने अगले दो दौर में जोरदार वापसी की. उन्होंने सीधे और दमदार मुक्के लगाए जिससे जजों ने उन्हें सर्वसम्मति से विजेता घोषित किया.

मनोज के पास नहीं था अब्दुरअखमानोव का जवाब

इससे पहले मनोज को वेल्टरवेट 69 किग्रा वर्ग के प्रीक्वार्टर फाइनल में किर्गिस्तान के अब्दुअखमान अब्दुरअखमानोव के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा. राष्ट्रमंडल खेलों के दो बार के पदक विजेता मनोज के पास अब्दुरअखमानोव की चुनौती का कोई जवाब नहीं था. भारतीय मुक्केबाज के मुक्कों में ताकत कम थी और पहले दो दौर में उन्हें अब्दुरअखमानोव के डिफेंस को भेदने के लिए जूझना पड़ा. किर्गिस्तान के मुक्केबाज ने अंतिम तीन मिनट में आक्रामक खेल दिखाया मनोज पर दबदबा बनाते हुए जीत दर्ज की.

एक मिनट के अंदर हार गए शिव थापा

शाम के सत्र में तीन बार के एशियाई चैंपियन और विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाले शिव को लाइटवेट 60 किग्रा वर्ग में चीन के जुन शान ने एक मिनट के अंदर हरा दिया. चीन के मुक्केबाज के दबदबे को देखते हुए रैफरी ने मैच को रोक कर शान को विजेता घोषित किया. शिव को शान ने पहले दौर में ही दो बार गिरा दिया जिसके बाद रैफरी ने मैच उनके नाम कर दिया.

भारतीय मुक्केबाजी के हाई परफॉर्मेंस निदेशक और पुरुषों के मुख्य कोच सैंटियागो निएवा ने कहा, ‘उसके दाएं हिस्से में दमदार पंच लग गया जो निर्णायक साबित हुआ, लेकिन उसे वापसी करनी होगी. सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को भी ऐसे दिन देखने पड़ते हैं. सबसे जरूरी यह है कि हारने वाले में वापसी करने का दमखम होना चाहिए.’ निएवा ने कहा, ‘ यह मुक्केबाजी है, यह खेल है, सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों का भी बुरा दिन होता है और आज हमारे पुरुष खिलाड़ियों के लिए बुरा दिन था. मुझे सरजूबाला पर फख्र है और उम्मीद है कि सोमवार को पुरुष खिलाड़ी अच्छा करेंगे.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi