S M L

CWG 2018: तो क्या इस बार ऑल इंडिया रेडियो पर नहीं सुनाई देगा इन खेलों का आंखों देखा हाल...

सूचना प्रसारण मंत्रालय के साथ तनातनी के चलते वित्तीय संकट से जूझ रहा प्रसार भारती बोर्ड ऑल इंडिया रेडियो से कॉमनवेल्थ खेलों की कवरेज को रद्द करने के लिए कह सकता है

FP Staff Updated On: Mar 23, 2018 10:58 AM IST

0
CWG 2018: तो क्या इस बार ऑल इंडिया रेडियो पर नहीं सुनाई देगा इन खेलों का आंखों देखा हाल...

शायद ही कभी ऐसा हुआ होगा जब कॉमनवेल्थ खेलों का आयोजन हुआ हो और आकशवाणी यानी ऑल इंडिया रडियो ने उसका सीधा प्रसारण ऩहीं किया हो. सभी इंवेंट ना सही लेकिन हॉकी जैसे राष्ट्रीय महत्व और भारत की मजबूत पोजिशन वाले खेलों का आंखों देखा हाल तो भारतीय खेल प्रेमियों को आकाशवाणी पर हमेशा सुनाई देता रहा है.

लेकिन इस बार ऐसे हालात बनते दिख रहे हैं कि चार अप्रेल से ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में शुरू हो रहे कॉमनवेल्थ खेलों का आंखों देखा हाल आकाशवाण पर ना सुनाई दे. समाचार पत्र टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक सूचना प्रसारण मंत्रालय और प्रसार भारती के बीच पिछले कुछ वक्त से चल रही तनातनी की कीमत भारत के आम खेल प्रेमियों को चुकानी पड़ सकती है.

प्रसार भारती उठा सकता है कदम

अखबार की खबर है कि प्रसार भारती ऑल इंडिया रेडियो से गोल कोस्ट में कॉमनवेल्थ खेलों के लिए की गई एडवांस बुकिंग को रद्द करने के लए कह सकता है. आकाशवाणी प्रसारण अधिकारों और बुकिंग के लिए अब तक 1.6 करोड़ रुपए का भुगतान कर चुका है. ऑल इंडिया रेडियो ने खेलों के टेलीकास्ट करने के लिए 13 सदस्यीय़  टीम को भेजने और उसके खर्चे के लिए करीब 50 लाख रुपयों की और मांग की है. खबर के मुताबिक अगर कवरेज को रद्द करने का फैसला होता है तो आकाशवाणी को महज 30 लाख रुपए ही वापस मिलेंगे.

दरअसल सूचना प्रसारण मंत्रालय के साथ तनातनी के चलते प्रसार भारती इस वक्त वित्तीय संकट से जूझ रहा है और उसे अपने जरूरी खर्चों के लिए कंटिंजेंसी फंड का इस्तेमाल करना पड़ रहा है. ऐसे में प्रसार भारत के एक सूत्र ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया है कि बोर्ड आकाशवाणी के इस कवरेज को रद्द करने के लिए कह सकता है.

ऑल इंडिया रेडियो ने इन खेलों की ओपनिंग और क्लोसिंग सेरेमनी के अलावा हॉकी और बैडमिंटन के खेलो की लाइव कवरेज की योजना बनाई है . इसके अलावा जिन खेलों में भारतीय एथलीट अच्छा प्रदर्शन करके मेडल के करीब पहुंचेंगे तो उनके इवेंट का भी लाइव टेलीकास्ट कराया जा सकता है.

ऐसे में अब देखना होगा कि क्या ऑल इंडिया रेडियो की इस कवरेज प्लानिंग को हरी झंडी मिल पाती है या नहीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi