S M L

ISL 2018-19 : क्या चार मैचों में दो हार ने बेंगलुरु एफसी से छीन लिया है अजेय टीम का तमगा!

एशियन कप के लिए हुए लंबे विंटर ब्रेक के बाद से हालांकि यह टीम चार मैचों में चार अंक जुटा पाई है. उसे मुंबई एफसी और चेन्नइयन एफसी के खिलाफ हार मिली

Updated On: Feb 11, 2019 06:47 PM IST

FP Staff

0
ISL 2018-19 : क्या चार मैचों में दो हार ने बेंगलुरु एफसी से छीन लिया है अजेय टीम का तमगा!

बेंगलुरु एफसी ने इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें सीजन की शुरुआत जिस अंदाज में की थी, अभी वह उससे बिल्कुल भिन्न टीम नजर आ रही है. बीते साल आईएसएल का फाइनल खेल चुकी इस टीम ने पांचवें सीजन की शुरुआत मौजूदा चैंपियन चेन्नइयन एफसी पर जीत के साथ की, लेकिन इसके बाद उसे जमशेदपुर एफसी के खिलाफ घर में 2-2 से ड्रॉ खेलना पड़ा. इसके बाद हालांकि यह टीम बिल्कुल अलग नजर आई और लगातार छह जीत के साथ अपनी ताकत का नजारा पेश किया. यह टीम जब फॉर्म में होती है तो विपक्षी को नेस्तनाबूत कर देती है और जब खराब दौर में होती है तो भी जीत हासिल कर लेती है.

एशियन कप 2019 के लिए हुए लंबे विंटर ब्रेक के बाद से हालांकि यह टीम चार मैचों में चार अंक जुटा पाई है. उसे मुंबई एफसी और चेन्नइयन एफसी के खिलाफ हार मिली. केरल के खिलाफ यह टीम बड़ी मुश्किल से एक अंक जुटा पाई. नार्थईस्ट युनाइटेड एफसी के खिलाफ यह टीम अपने गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू के शानदार खेल की बदौलत जीत हासिल कर पाई.

इस तरह का खराब परिणाम बेंगलुरु के साथ तालमेल नहीं बनाता. यह टीम 11 मैचों से अजेय रही और अब यह लचर दिखाई दे रही है. तो क्या इस टीम की खराब फॉर्म चिंता का विषय है या फिर यह इसकी किसी रणनीति का हिस्सा है.

Bengaluru FC Head Coach, Carles Cuadrat during match 62 of the Hero Indian Super League 2018 ( ISL ) between Mumbai City FC and Bengaluru FC held at The Mumbai Football Arena in Mumbai, India on the 27th January 2019 Photo by: Sandeep Shetty /SPORTZPICS for ISL

बेंगलुरू के कोच चार्ल्स कुआडार्ट ने कहा, ‘हम एक ही टीम के साथ खेल रहे थे. अब मीकू वापस आ गए हैं और अब हम खिलाड़ियों को रोटेट करेंगे और आराम देंगे. हमारे कई खिलाड़ी प्लेऑॅफ में काफी अहम साबित होंगे और यही कारण है कि मैंने कुछ खिलाड़ियों को आराम देने का फैसला किया है. आपके खिलाड़ी प्लेऑॅफ के दौरान फिट रहें, इसके लिए उन्हें रोटेट किया जाना बहुत जरूरी है. यही हमारा प्लान है.’

ये भी पढ़ें- अलग अंदाज में ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट अवॉर्ड फंक्शन में पहुंचे क्रिकेटर, जानें किसे मिला कौन सा अवॉर्ड

बेंगलुरु एफसी अभी टॉप पर है प्लेऑफ में पहुंचने के करीब है. इस टीम के 15 मैचों से 31 अंक हैं. बीते सीजन में इस टीम ने 30 अंकों के साथ प्लेऑफ खेला था. इस लिहाज से यह टीम पहले ही प्लेऑफ में पहुंच चुकी है. यही कारण है कि कुआडार्ट अपने खिलाड़ियों को आराम देने के पक्ष में हैं. साथ ही वह एडमंड लालरिंडिका, रीनो अंटो, गुरसिमत गिल, अजय छेत्री और कई अन्य खिलाड़ियों को मौका देना चाहते हैं.

चोट से वापसी के बाद मीकू अपने असल रंग में नहीं दिख रहे हैं. यही हाल नीशू कुमार का है, जो अब पूरी तरह फिट हो चुके हैं. कप्तान सुनील छेत्री ने बीते दो मैचों में दो गोल किए हैं, लेकिन वह लंबे समय तक खराब दौर से गुजरे हैं. यही नहीं, बेंगलुरु ने चेचनो गाएल्टसीन को लोन पर जाने दिया, जबकि इस खिलाड़ी ने उसके लिए चार अंक जुटाए थे. अब नए खिलाड़ी लुइसमा टीम में आए हैं, लेकिन वह पूरी तरह फिट नहीं दिख रहे हैं.

ये भी पढ़ें- शरणार्थी फुटबॉलर हकीम अल-अरेबी को थाईलैंड ने रिहा किया

बीते सीजन की तुलना में बेंगलुरु का बेंच स्ट्रेंथ उतना मजबूत नजर नहीं आ रहा है. बीते सीजन में उसके पास सुभाशीष बोस, आल्विन जॉर्ज, लेनी रॉड्रिग्वेज, जॉन जॉनसन, टोनी डोवेल और इदु गार्सिया जैसे खिलाड़ी थे, जिन्होंने समय-समय पर टीम के लिए योगदान दिया. अब बेंच पर उसके पास कोई बड़ा नाम नहीं है.

रेस्ट और रोटेशन प्लान का हिस्सा हो सकता है, लेकिन चार मैचों में दो हार ने इस टीम से अजेय रहने वाली टीम का तमगा छीन लिया है. अब टीमें यह सोच रही होंगी कि वे सुपर कप चैंपियन बेंगलुरु को हरा सकती हैं. बेंगलुरु को दूसरी टीमों को इस संबंध में विपरीत संकेत देने के लिए अपने बाकी के मैच जीतने होंगे और विपक्षी टीमों के मन में अपने लिए फिर से डर पैदा करना होगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi