S M L

ISL 2018-19: एक साल बाद, मुम्बई में सबका ड्रीम फाइनल

खिताबी मुकाबला आईएसएल की दो बेहतरीन टीम बेंगलुरू एफसी और एफसी गोवा के बीच खेला जाएगा.

Updated On: Mar 14, 2019 02:20 PM IST

FP Staff

0
ISL 2018-19: एक साल बाद, मुम्बई में सबका ड्रीम फाइनल

इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के फाइनल मुकाबलों ने समय-समय पर लोगों को चौंकाया है. प्लेऑफ का परिणाम चाहें कुछ भी रहा हो, इस साल मुंबई के फुटबॉल प्रेमियों को एक फाइनल मुकाबला और वह भी ड्रीम फाइनल देखने को मिल रहा है.

इसमें कोई शक नहीं कि बेंगलुरू एफसी और एफसी गोवा इस समय आईएसएल की दो बेहतरीन टीमें नहीं हैं. बीते सीजन में भी ये लीग की सबसे आकर्षक और फालोड टीमें रही थीं लेकिन सब लोगों की पसंद का फाइनल होना लोगों की किस्मत में नहीं था क्योंकि चेन्नइयन एफसी ने गोवा को हराकर बाहर कर दिया था. इस सीजन में गोवा ने मुंबई को हराया और बेंगलुरू ने तमाम मुश्किलों का सामना करते हुए नॉर्थईस्ट युनाइटेड एफसी पर जीत हासिल कर फाइनल में जगह बनाई.

सर्गियो लोबेरा की गोवा की टीम का सामना चालर्स कुआडार्ट के बेंगलुरू एफसी से होने जा रहा है और यह एक बेहतरीन फाइनल होगा, इसमें कोई शक नहीं. लोबेरा ने कहा कि मैं समझता हूं कि 180 मिनट के बाद फाइनल में जो भी पहुंचा है, वह उसका हकदार है. दोनों टीमों ने अच्छा खेल दिखाया है और अब खिताब के करीब हैं. हमारी कोशिश इस बार ट्रॉफी उठाने की होगी.

इस साल फाइनल में पहुंचने वाली दोनों टीमों की झोली अब तक खाली है. बेंगलुरू को बीते सीजन में फाइनल में चेन्नई से हार मिली थी. कुआडार्ट ने इस पर कहा कि सभी फाइनल स्पेशल हैं. काफी टेंशन है. हम अपने प्लांस पर बने रहना चाहते हैँ. हम शारीरिक और मानसिक तौर पर तैयार हैं. फुटबॉल में कई बाते होती हैं, जो मैच का रुख बदल देती हैं.

यह सीजन दोनों टीमों के लिए काफी अच्छा रहा है. दोनों ने खूब गोल किए हैं और सबसे अधिक जीत हासिल करने वाले क्लबों में एक रहे हैं. गोवा ने जहां इस सीजन में 42 गोल किए हैं वहीं बेंगलुरू के नाम 35 गोल हैं.

इस दोनों टीमों का खेलने का तरीका भी लगभग समान है. ये अटैक पर यकीन करती हैं और सीटी बजने के साथ भी विपक्षी टीम के पोस्ट की ओर भागने लगती हैं. एक तरफ जहां कई टीमों को काउंटर अटैक और डिफेंसिल अप्रोच पसंद रहा है वहीं गोवा और बेंगलुरू ने हमेशा से सीधे आक्रमण की बात की है.

ऐसे में जबकि इस सीजन का फाइनल तटस्थ स्थान पर हो रहा है, दोनों क्लबों को मैदान में समर्थन की जरूरत होगी. 2014 में जब आईएसएल की शुरुआत हुई थी, तब मुंबई ने फाइनल मुकाबले की मेजबानी थी और वह फाइनल में पहुंचीं दोनों टीमों के लिए घरेलू मैदान नहीं था. एक बार फिर फाइनल मुंबई में है और दो ऐसे क्लबों के बीच है, जो श्रेष्ठ फुटबॉल खेलती हैं. तो हर लिहाज से यह एक ड्रीम फाइनल है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi