S M L

ISL FINAL 2017-18, Bengaluru FC vs Chennaiyin FC: फाइनल की जंग में इतिहास रचने उतरेगी बेंगलुरु

बेंगलुरु एफसी पहली बार आईएसएल में खेल रही है और अंक तालिका में टॉप पर रहकर फाइनल में पहुंची है

FP Staff Updated On: Mar 17, 2018 10:06 AM IST

0
ISL FINAL 2017-18, Bengaluru FC vs Chennaiyin FC: फाइनल की जंग में इतिहास रचने उतरेगी बेंगलुरु

बेंगलुरु एफसी पहली बार हीरो इंडियन सुपर लीग में खेल रही है और अब वह शनिवार को  श्रीकांतीरावा स्टेडियम में खेले जाने वाले चौथे सत्र के फाइनल में पूर्व विजेता चेन्नइयन एफसी को हराकर खिताब जीतकर इतिहास रचना चाहेगी.

प्रतिष्ठित फेडरेशन कप और दो बार आई लीग जीतने वाली बेंगलुरु की टीम खिताब की प्रबल दावेदार मानी जा रही है, लेकिन उसके प्रशंसक जानते हैं कि घर में खेलने वाली टीम कभी भी आईएसएल फाइनल नहीं जीती है. गोवा को 2015 में चेन्नइयन से ही मात खानी पड़ी थी तो 2016 में केरला ब्लास्टर्स को एटीके ने उसके घर में मात देकर दूसरा खिताब जीता था.

आंकड़े नहीं दे रहे बेंगलुरु का साथ

इसके अलावा एक और आंकड़ा बेंगलुरु को चिंता में डाल सकता है. 2014 में लीग की शुरुआत से वो टीम कभी भी आईएसएल का खिताब नहीं जीती जिसने लीग दौर का अंत पहले स्थान पर रहते हुए किया हो.

बेंगलुरु इस आईएसएल में सबसे शानदार टीम रही है. उन्होंने अभी तक 38 गोल किए हैं और वह लीग में गोल करने के मामले में गोवा से एक स्थान पीछे है. लेकिन उनका डिफेंसिव रिकॉर्ड और भी शानदार है. उसने 20 मैचों में सिर्फ 17 गोल खाए हैं. इस मामले में वह आगे हैं.

बेंगलुरू के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू ने विपक्षी टीमों के लिए गोल करना मुश्किल कर दिया है. टीम अपनी इसी फॉर्म को फाइनल में भी जारी रखना चाहेगी. बेंगलुरू अपने आखिरी 10 मैचों में अपराजित रही है जिसमें से आठ मैच उसने जीते हैं.

कोच ग्रेगरी को है टीम पर भरोसा

बेंगलुरु एफसी के पक्ष में हालांकि सब कुछ नहीं रहा है. चेन्नइयन ने बेंगलुरु को 2-1 से उसके ही घर में मात दी है. इस मैच में धनपाल गणेश ने आखिरी पलों में गोल करते हुए चेन्नइयन को जीत दिलाई थी.

जॉन ग्रेगरी की टीम ने अपने आप को साबित किया है और बताया है कि वह उन मैचों को जीतना जानते हैं जो उनके लिए अहम होते हैं. एफसी गोवा के खिलाफ सेमीफाइनल में चेन्नइयन के शानदार डिफेंस ने फेरान कोरोमिनास और मैनुएल लैंजोरेते की जोड़ी को रोके रखा था और अब फाइनल में उसकी कोशिश बेंगलुरु के कप्तान सुनील छेत्री और मीकू की जोड़ी को रोकने की होगी. इन दोनों ने मिलकर टीम के लिए 27 गोल दागे हैं.

ग्रेगरी भाग्यशाली हैं कि उनकी टीम में ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने पहले आईएसएल में हिस्सा लिया है और विजेता बने हैं. मैलिसन अल्वेस, राफेल अगस्तो, जेजे लालपेखलुआ, करणजीत सिंह 2015 में खिताब जीतने वाली चेन्नइयन का हिस्सा रह चुके हैं. वह एक बार फिर बेंगलुरु के खिलाफ उस प्रदर्शन को दोहराने की कोशिश करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi