S M L

इंटरकॉन्टिनेंटल फुटबॉल कप: फाइनल में केन्या के खिलाफ गलती दोहराना भारत को पड़ सकता है महंगा

पिछले मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ उनकी सात खिलाड़ियों को बदलने की रणनीति उनके खिलाफ गई थी, जिसमें टीम को हार मिली थी

FP Staff Updated On: Jun 10, 2018 02:03 PM IST

0
इंटरकॉन्टिनेंटल फुटबॉल कप: फाइनल में केन्या के खिलाफ गलती दोहराना भारत को पड़ सकता है महंगा

सुनील छेत्री के नेतृत्‍व में भारतीय फुटबॉल टीम रविवार को केन्या के खिलाफ इंटरकांटिनेंटल कप के फाइनल खेलने उतरेगी और टीम चाहेगी कि इस मैच के लिए स्टेडियम खेल प्रेमियों से भरा हो ताकि घरेलू खिलाड़ी अच्छा खेल दिखाने को प्रेरित हो सके. गोल करने में तीसरे नंबर पर काबिज छेत्री ने तीन मैचों में गोल दागे हैं , जिसमें चीनी ताइपे के खिलाफ हैट्रिक और केन्या के खिलाफ दो गोल शामिल हैं.

लीग मैचों में केन्या को हराया था भारत ने

मेजबान भारत इस टूर्नामेंट को अगले साल जनवरी में होने वाले एएफसी एशियाई कप की तैयारियों के तौर पर खेल रहा है और अगर उसे इस टूर्नामेंट के फाइनल में जीत मिलती है तो इससे निश्चित रूप से उसके आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी. भारत ने लीग मैचों में केन्या को 3-0 से पस्त किया था, जो कप्तान छेत्री का देश के लिए 100 वां मैच भी था और भारतीय कप्तान ने भी दो गोल कर इस मैच को यादगार बना दिया था. अब टीम इस अफ्रीकी टीम के खिलाफ अपने लीग मैच के प्रदर्शन को फाइनल में भी दोहराना चाहेगी. मेजबान टीम ने पूरे टूर्नामेंट में आक्रामक खेल दिखाया है, लेकिन स्टीफन कांस्टेनटाइन की टीम केन्या को हल्के में नहीं ले सकती. क्योंकि उसने न्यूजीलैंड को 2-1 से और शुक्रवार को  चीनी ताइपे को 4-0 से शिकस्त दी.

सर्वश्रेष्‍ठ शुरुआती एकादश उतारना चाहेंगे कांस्‍टेनटाइन

कांस्टेनटाइन सुनिश्चित करेंगे कि उनकी सर्वश्रेष्ठ शुरुआती एकादश रविवार को मैदान पर उतरे, क्योंकि पिछले मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ उनकी सात खिलाड़ियों को बदलने की रणनीति उनके खिलाफ गई थी, जिसमें टीम को 1-2 से हार मिली थी.

छेत्री पर होंगी सबकी निगाहें

सभी की निगाहें फिर से छेत्री पर लगी होंगी, जिनके नाम पर 62 गोल हैं और वह भी इनमें इजाफा करना चाहेंगे. वह और जेजे लालपेखलुवा किसी भी मजबूत डिफेंस के सामने चुनौती पेश कर सकते हैं और केन्या भी इससे अलग नहीं होगी. भारत के पास उदांता सिंह , अनिरूद्ध थापा , प्रणय हलदर और हलीचरण नारजरी जैसे मिडफील्डर मौजूद हैं. अगर केन्या के शारीरिक रूप से मजबूत खिलाड़ियों को पस्त करना है तो उन्हें अपनी भूमिका बेहतर ढंग से निभानी होंगी. वहीं टीम में अनुभवी डिफेंडर जैसे संदेश झींगन और प्रीतम कोटल मौजूद हैं.

भारतीय टीम इस प्रकार है :

गोलकीपर : गुरप्रीत सिंह संधू , अमरिंदर सिंह , विशाल केथ

डिफेंडर : प्रीतम कोटल , अनास एडाथोडिका , सलाम रंजन सिंह , संदेश झींगन , लालरूथारा , नारायण दास , जेरी लालरिनजुआला , सुभाशीष बोस

मिडफील्डर: उदांता सिंह , आशिक करूनियान , रॉलिन बोर्जेस , अनिरूद्ध थापा , प्रणय हलदर , मोहम्मद रफीक , हलीचरण नरजारी , लालदानमाविया राल्टे

फारवर्ड : सुनील छेत्री , जेजे लालपेखलुआ , बलवंत सिंह और एलेन देवरी

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi