S M L

इंटरकॉन्टिनेंटल फुटबॉल कप : सुनील छेत्री ने डबल गोल लगाकर अपना 100वां अंतरराष्ट्रीय मैच बनाया यादगार

भारत ने केन्या को एकतरफा मुकाबले में 3-0 से शिकस्त देकर फाइनल में बनाई जगह

FP Staff Updated On: Jun 05, 2018 09:23 AM IST

0
इंटरकॉन्टिनेंटल फुटबॉल कप : सुनील छेत्री ने डबल  गोल लगाकर अपना 100वां अंतरराष्ट्रीय मैच बनाया यादगार

भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री ने अपने करियर के 100वें अंतरराष्ट्रीय मैच में दो शानदार गोल दागकर भारत को सोमवार को हीरो इंटरकांटिनेंटल कप के अपने दूसरे मैच में केन्या पर 3-0 से शानदार जीत दिलाई. लगातार दूसरी जीत के साथ भारत इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंच चुका है. पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया के बाद 100 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले सिर्फ दूसरे भारतीय बने छेत्री (68वें मिनट और 90 प्लस एक मिनट) के अलावा जेजे लालपेखलुआ ने 71वें मिनट में टीम की ओर से एक अन्य गोल किया.

भारत की टीम इस जीत से दो मैचों में दो जीत से छह अंक के साथ शीर्ष पर है. केन्या के दो मैचों में एक हार और एक जीत से तीन अंक है और वह दूसरे स्थान पर चल रहा है. भारत ने अपने पहले मैच में चीनी ताइपे को 5-0 से हराया था. मेजबान टीम के खिलाफ अब तक टूर्नामेंट में एक भी गोल नहीं हुआ है. भारत को अपने तीसरे और अंतिम राउंड रॉबिन मैच में सात जून को न्यूजीलैंड से भिड़ना है जबकि इसके अगले दिन केन्या की भिड़ंत चीनी ताइपे से होगी. टूर्नामेंट का फाइनल 10 जून को खेला जाएगा.

दर्शकों से खचाखच भरा था मुंबई फुटबॉल एरेना

छेत्री ने मैच से पहले लोगों से भारत के फुटबॉल मैच के लिए स्टेडियम में पहुंचने की भावुक अपील की थी जिसके बाद मुंबई फुटबॉल एरेना का स्टेडियम दर्शकों से खचाखच भरा रहा. मैच की शुरुआत तेज बारिश के बीच हुई और दोनों ही टीमों के खिलाड़ियों को परेशानी का सामना करना पड़ा. भारत की ओर से पहला अच्छा प्रयास सातवें मिनट में उदांता सिंह ने किया. वह बाएं छोर से आगे बढ़े लेकिन बॉक्स के अंदर उनका क्रास काफी धीमा था जिसे विरोधी गोलकीपर पैट्रिक मतासी ने आसानी से अपने कब्जे में ले लिया.

पहले हाफ में बने अच्छे मूव, लेकिन कोई गोल नहीं हुआ

केन्या ने इसके बाद पलटवार किया. डेनिस ओधियाम्बियो ने कॉर्नर किक पर हेडर से प्रहार किया, लेकिन गेंद गोल से दूरी रही. भारत को 14वें मिनट में फ्री किक मिली लेकिन अनिरुद्ध थापा ने इसे सीधे मतासी के हाथों में खेल दिया. भारत को गोल करने का पहला बड़ा मौका 22वें मिनट में मिला जब मैदान पर पानी भरा होने के कारण केन्या के डिफेंडरों से चूक हो गई और गेंद सीधे भारतीय कप्तान के पास पहुंच गई. छेत्री ने दनदनाता हुआ शॉट मारा, लेकिन गेंद क्रासबार के ऊपर से बाहर निकल गई. केन्या को भी 25वें मिनट में अच्छा मौका मिला, लेकिन भारतीय गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू ने पेटिलाह ओमोटो के प्रयास को नाकाम कर दिया. दोनों टीमों के खिलाड़ियों को मैदान पर काफी पानी जमा होने के कारण पासिंग में काफी परेशानी हो रही थी और कई अच्छे मूव बनाने के बावजूद कोई भी टीम गोल नहीं कर सकी जिससे मध्यांतर तक स्कोर 0-0 रहा.

छेत्री ने अपने गोलों की संख्या 61 तक पहुंचाई

दूसरे हाफ में केन्या ने तेज शुरुआत की. तीसरे ही मिनट में ओवेला ओचींग ने अच्छा मूव बनाते हुए भारत के सेंटर बैक को छकाया, लेकिन उनका शॉट गोल से दूर रहा. दो मिनट बाद मुतांबा ने भी संदेश झिंगन और अनस एडाथोडिका को छकाया, लेकिन उनका शॉट भी निशाने से दूर रहा. होलीचरण नार्जरी ने 55वें मिनट में शानदार मूव बनाते हुए गेंद छेत्री के पास पहुंचाई, लेकिन भारतीय कप्तान इसे गोल में बदलने में नाकाम रहे. केन्या के माइकल किबवागे ने इसके बाद छेत्री पर बॉक्स के अंदर फाउल किया जिससे भारत को पेनल्टी किक मिली और कप्तान ने इसे गोल में बदलने में कोई गलती नहीं करते हुए 68वें मिनट में मेजबान टीम को 1-0 से आगे कर दिया. यह छेत्री का 60वां अंतरराष्ट्रीय गोल था. तीन मिनट बाद नार्जरी ने एक और मूव बनाया और इस बार उनका शॉट बॉक्स के अंदर केन्या के डिफेंडर से टकराकर जेजे लालपेखलुआ के पास पहुंचा जिन्होंने इसे आसानी से गोल में पहुंचाकर भारत की बढ़त को 2-0 कर दिया. छेत्री ने इसके बाद इंजरी टाइम के पहले मिनट में एक और गोल दागकर भारत की 3-0 से जीत सुनिश्चित की.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi