S M L

आईएसएल 2018-19: लीग के बीच में ही खिताब गंवाने की कगार पर चेन्नइयन

रविवार को मौजूदा चैंपियन का सामना दो बार की विजेता एटीके से होगा

Updated On: Dec 01, 2018 07:18 PM IST

FP Staff

0
आईएसएल 2018-19: लीग के बीच में ही खिताब गंवाने की कगार पर चेन्नइयन

मौजूदा चैंपियन चेन्नइयन एफसी का खिताब बचाने का प्रयास इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें सीजन के मध्य में ही दम तोड़ता नजर आ रहा है. आईएसएल के इतिहास में अब तक कोई भी टीम खिताब की रक्षा नहीं कर सकी है, लेकिन यह भी सच है कि खिताब बचाने का प्रयास करने वाली टीमों में से किसी ने भी इतनी जल्दी दम नहीं तोड़ा है.

चेन्नइयन एफसी अभी 10 टीमों की तालिका में आठवें स्थान पर है. नौ मैचों से उसने पांच अंक जुटाए हैं. अब उसके सामने रविवार को दो बार की चैंपियन एटीके होगी और देखना यह होगा कि दो चैंपियन टीमों के बीच वर्चस्व किसका कायम होता है.

विदाई के कगार पर पहुंची चेन्‍नइयन

चेन्नइयन के कोच जॉन ग्रेगोरी हर विभाग में विफल रहे हैं. इस सीजन में चेन्नइयन ने अपने घर में एक भी मैच नहीं जीता है और अगर रविवार को यह टीम हार जाती है तो फिर इसकी लीग के असयम और दुर्भाग्यपूर्ण विदाई भी हो सकती है.

ग्रेगोरी ने कहा कि किसी टीम को आगे ले जाने के क्रम में असीम मेहनत और संयम की जरुरतत होती है. हमें अपने आप में यकीन करना होगा. केरल के खिलाफ हमारे खिलाड़ियों का बॉडी लैंग्वेज सकारात्मक था, क्योंकि वे अच्छा खेले थे. एक खिलाड़ी के तौर पर जब मैदान में आते हैं और अच्छा खेलते हैं तो आपको यह किसी को बताने की जरुरत नहीं पड़ती.

मौकों को भुनाने में नाकाम रही चेन्‍नइयन

चेन्नइयन के डिफेंस ने अब तक बेहद खराब प्रदर्शन किया है और जब उसने अच्छा खेल दिखाया है तब अटैक नहीं चला है. मिडफील्ड ने भी कमी दिखी है और इसी कारण ग्रेगोरी इनिगो काल्डेरॉन को कई मौकों पर सेंट्रल मिडफील्डर के तौर पर खिलाना पड़ा है. ग्रेगोरी को सबसे अधिक परेशान करने वाली बात यह है कि यह मौकों को भुनाने में नाकाम रही है.

बीते मैच में गुरुवार को केरल के खिलाफ इस टीम ने कई मौके बनाए लेकिन उन्हें भुना नहीं सकी. ग्रेगोरी ने कहा कि स्टीप कोपेल की टीम के खिलाफ खेलना हमेशा से कठिन रहा है. हमने बीते सीजन में उनके खिलाफ दो मैच खेले है और तीन गोल किए. इनमें से एक गोल पेनल्टी पर हुआ. यह टीम काफी कठिन रही है और अब आंद्रे बिके की वापसी के बाद यह और भी मजबूत हो गई है. इस टीम को तोड़ पाना काफी कठिन है.

सिर्फ 8 गोल खाए है एटीके ने

Chennaiyin FC players practise before the start of the match 43 of the Hero Indian Super League 2018 ( ISL ) between Chennaiyin FC and Kerala Blasters held at the Jawaharlal Nehru Stadium, Chennai, India on the 29th November 2018 Photo by: Vipin Pawar /SPORTZPICS for ISL

स्टीव कोपेल की एटीके डिफेंस के मामले में लीग की सबसे कंजूस टीमों में से एक है. इस टीम ने अब तक सिर्फ आठ गोल खाए हैं और इस सीजन में यह एकमात्र ऐसी टीम है, जिसने एफसी गोवा के खिलाफ एक भी गोल नहीं खाया है. बिके और जॉन जॉनसन डिफेंस की रीढ़ हैं और अपने अनुभव के दम पर दूसरी टीमों को बांधे रखते हैं. एटीके के लिए खराब खबर यह है कि प्रणॉय हल्धर निलम्बन के कारण चेन्नइयन के खिलाफ नहीं खेल पाएंगे.

कोपेल ने कहा कि हमें अधिक गोल करने की जरूरत है क्योंकि हमें अधिक से अधिक मैच जीतते हुए अधिक से अधिक अंक बटोरने हैं. कालू उचे और इमिलियानो एल्फारो को खोने के बाद हम मुश्किल में हैं लेकिन हमारे खिलाड़ी इनकी भरपाई करते हुए मौकों को भुनाने की कोशिश करेंगे.

कोपेल ने कहा कि हर टीम के लिए ब्रेक से पहले मैच काफी अहम होते हैं. क्रिसमस से पहले हम अच्छी स्थिति बनाना चाहते हैं. हमारा लक्ष्य ब्रेक पर जाने से पहले अंतिम-4 में रहना है. हम हर मैच को इसी नजरिए से देख रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi