S M L

ISL 2018-19 : जेजे ने हासिल की फॉर्म, लेकिन चेन्नइयन एफसी के लिए ये सीजन अच्छा नहीं रहा

Indian Super League का पांचवां सीजन मौजूदा विजेता चेन्नइयन एफसी और उसके स्टार खिलाड़ी जेजे लालपेखुलआ के लिए भुलाने वाला रहा है

Updated On: Feb 12, 2019 06:57 PM IST

FP Staff

0
ISL 2018-19 : जेजे ने हासिल की फॉर्म, लेकिन चेन्नइयन एफसी के लिए ये सीजन अच्छा नहीं रहा

इंडियन सुपर लीग ( Indian Super League) का पांचवां सीजन मौजूदा विजेता चेन्नइयन एफसी (Chennaiyin FC) और उसके स्टार खिलाड़ी जेजे लालपेखुलआ (Jeje Lalpheklua) के लिए भुलाने वाला रहा है. मौजूदा विजेता इस सीजन खिताब की रेस से बाहर हो गए हैं, लेकिन बेंगलुरु एफसी को मात देते हुए टीम ने अंततः कुछ हासिल तो किया है. बेंगलुरु पर जीत चेन्नइयन की इस सीजन में 15 मैचों में महज दूसरी जीत है. लेकिन यह जीत उस टीम के खिलाफ मिली जिसे मात देते हुए चेन्नइयन ने बीते साल खिताब जीत था. इस मैच की सबसे अहम बात यह रही कि वह गोल के सूखे को खत्म करने में सफल रहे और चेन्नइयन को बढ़त दिलाने में भी सफल रहा.

यह गोल हालांकि बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता क्योंकि नीशू कुमार गेंद को क्लीयर नहीं कर पाए और इसका फायदा उठाते हुए जेजे ने गोल किया. इसके बाद भी बेंगलुरु के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू अच्छा कर सकते थे, लेकिन गेंद उनके दस्तानों से स्लिप होकर नेट में चली गई. यह शायद जेजे और चेन्नइयन की किस्मत ही थी. जेजे इसी के साथ आईएसएल के सभी पांच सीजनों में गोल करने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं.

ये भी पढ़ें- Irani Cup, Vidarbha vs Rest of India : हनुमा विहारी और मयंक अग्रवाल ने शेष एकादश को चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंचाया

जेजे ने कहा, 'मैं काफी लंबे समय से मेहनत कर रहा था और अंततः गोल करने में सफल रहा. मैं सभी प्रशंसकों का मेरा समर्थन करने के लिए धन्यवाद देता हूं. यह गोल और जीत के हम हकदार थे. हम हर दिन मेहनत करते हैं.' इसमें कोई इत्तेफाक नहीं है कि जेजे का गोल न कर पाना चेन्नइयन के खिताबी रेस से बाहर होने का एक कारण भी है. बीते साल मिजो स्नाइपर के नाम से मशहूर इस खिलाड़ी ने अपनी टीम को खिताब दिलाने में मदद की थी. उन्होंने बीते साल 20 मैचों में नौ गोल किए थे.

इस सीजन में हालांकि चेन्नइयन के लिए कुछ भी अच्छा नहीं रहा है. जब टीम का मुख्य खिलाड़ी गोल करने में असफल रहता है तो वो संघर्ष करती है और यही इस सीजन में बड़ा कारण रहा है. इस सीजन में टीम की आक्रामक नीति लीग में अब तक की सबसे बुरी साबित हुई है.

ये भी पढ़ें- थाईलैंड से रिहा हुए फुटबॉलर हाकीम पहुंचे मेलबर्न, लोगों से कहा शुक्रिया

खराब फॉर्म से गुजरना स्ट्राइकर के लिए नई बात नहीं है, लेकिन जेजे का लंबे समय तक गोल न करना दिन ब दिन हर मैच में बिना गोल किए रहना खिलाड़ी के आत्मविश्वास में गिरावट लाता है. मिजोरम के रहने वाले जेजे हालांकि लीग में सबसे ज्यादा गोल करने वाले भारतीय खिलाड़ियों में शामिल हैं. बेंगलुरु के खिलाफ किए गए गोल से पहले उनके हिस्से 22 गोल थे. लीग के पहले दो सीजनों में जेजे की गोल कंवर्जन रेट 27 प्रतिशत थी जो इस सीजन में नीचे गिरते हुए 12 प्रतिशत पर आ गई है. इस गिरावट से निश्चित ही जेजे के आत्मविश्वास में कमी आई होगी.

बेंगलुरु के खिलाफ लीग का 23वां गोल करने के बाद जेजे हो सकता है कि अपना स्कोरिंग टच हासिल कर लें. इससे पहले उन्होंने एएफसी एशियन कप-2019 में थाईलैंड के खिलाफ गोल किया था. इन दो गोलों से उनके आत्मविश्वास में जरूर वृद्धि होगी. कौन जाने कि लंबे अंधकार के बाद सीजन के अंत में ही जेजे और चेन्नइयन के लिए कुछ सकारात्मकता छुपी हो. चेन्नइयन और जेजे अभी भी एएफसी कप और हीरो सुपर कप में शानदार प्रदर्शन कर सीजन का अच्छा अंत कर सकते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi