S M L

भारतीय फुटबॉलर प्रणव छोड़ रहा है ऑस्ट्रेलिया में अपने प्रदर्शन की छाप

पिता प्रदीप ने कहा, 'उसका लक्ष्य एक दिन देश के लिए खेलना है और इसके लिए वह कड़ी मेहनत कर रहा है'

Bhasha Updated On: Jul 26, 2018 04:03 PM IST

0
भारतीय फुटबॉलर प्रणव छोड़ रहा है ऑस्ट्रेलिया में अपने प्रदर्शन की छाप

ऑस्ट्रेलिया में जूनियर स्तर पर टीम पेशेवर फुटबॉल खेलने वाले पहले भारतीय प्रणव कोटरा ने अपने प्रदर्शन की छाप छोड़ी है. लेकिन उनका इरादा इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) में पदार्पण करने का है. प्रणव पेशेवर फुटबॉल खेलने के अपने सपनों को पंख देने 2016 में छात्र वीजा पर एडीलेड गए थे. उन्होंने वहां चार क्लबों में चयन के लिए आवेदन किया और सभी में उनका चयन हो गया. फिलहाल वह नार्दर्न डेमोंस एफसी एडीलेड के लिए ऑस्ट्रेलियाई घरेलू लीग का दूसरा चरण खेल रहे हैं जो अगले महीने खत्म होगा.

प्रणव की प्रतिभा को शुरुआत में ही पहचानने वाले भारत के पूर्व फुटबॉलर अनादि बरूआ ने कहा,‘ वह ऑस्ट्रेलियाई टीम पेशेवर फुटबॉल खेलने वाला पहला भारतीय है. मैंने पहले ही दिन जान लिया था कि यह अच्छा फुटबॉलर बनेगा और उसकी मेहनत रंग ला रही है.’

छह फुट ढाई इंच कद वाले गोलकीपर प्रणव ऑस्ट्रेलिया में कोव एफसी, एडीलेड यूनिवर्सिटी सॉकर क्लब, एडीलेड एफसी और साउथ एडीलेड पैंथर्स एफसी क्लब के लिए 70 से अधिक मैच खेल चुके हैं.  उनके पिता प्रदीप ने कहा, ‘दस बरस की उम्र से उसका रुझान फुटबॉल की तरफ होने लगा था. उन्होंने नोएडा में बरूआ सर की अकादमी के बाद कोलकाता में मोहन बागान जूनियर अकादमी में खेला, फिर सालगांवकर जूनियर क्लब के लिए भी खेला. इसके बाद हमने लंदन में उसे ब्रिटिश फुटबॉल जूनियर अकादमी भी भेजा.’

प्रदीप ने कहा,‘ फुटबॉल के लिए उसका जुनून इतना है कि ऑस्ट्रेलिया जाते ही मैदान पर उसके पैर में गंभीर चोट लग गई थी और लग रहा था कि वह दोबारा खड़ा भी नहीं हो सकेगा, लेकिन तीन महीने अकेले अपने कुछ दोस्तों के सहारे उसने आपरेशन कराया और उसी क्लब के लिए मैदान पर लौटा. वह सिर्फ फुटबॉल खेलता ही नहीं है, बल्कि वहां दस बरस से कम उम्र के बच्चों को कोचिंग भी देता है. वहां कोचों ने उसे नागरिकता लेकर फुटबॉल में करियर बनाने की पेशकश भी की, लेकिन उसका लक्ष्य भारत के लिए खेलना है.’

उन्होंने कहा,‘ भारत में यह फुटबॉल के लिए अच्छा दौर है. उम्मीद है कि वह इंडियन सुपर लीग में पदार्पण कर सकेगा. कुछ टीमों से बात चल रही है और सकारात्मक जवाब भी मिले हैं. उसका लक्ष्य एक दिन देश के लिए खेलना है और इसके लिए वह कड़ी मेहनत कर रहा है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi