S M L

FIFA World Cup 2018: 52 साल बाद दुनिया को पता चला किसने चुराई थी 1966 फीफा वर्ल्‍ड ट्रॉफी

टूर्नामेंट शुरू होने से करीब तीन माह पहले ट्रॉफी चोरी हो गई थी, जो बाद में लंदन की गली में मिली

FP Staff Updated On: Jun 14, 2018 12:21 PM IST

0
FIFA World Cup 2018: 52 साल बाद दुनिया को पता चला किसने चुराई थी 1966 फीफा वर्ल्‍ड ट्रॉफी

दुनिया के सबसे बड़े खेल इवेंट में से एक फीफा वर्ल्‍ड कप शुरू होने में अब मात्र 21 दिन बचे हैं और इस महामुकाबले के शुरू होने से पहले 52 साल पुरानी एक गुत्‍थी भी सुलझ गई. 1966 में फीफा वर्ल्‍ड कप भले ही इंग्‍लैंड ने जीतकर इतिहास रचा था, लेकिन इस जीत के साथ मेजबान पर एक धब्‍बा भी लग गया था. दरअसल 1966 में टूर्नामेंट शुरू होने से पहले करीब तीन माह पहले ट्रॉफी चोरी हो गई थी.जो कुछ दिनों बाद लदंन के एक पार्क में मिली, लेकिन इसे किसने चुराया, कोई नहीं जान पाया. पुलिस भी कई दशकों तक चोर को खोजने में नाकाम रहीं. आखिरकार 52 साल बाद ट्रॉफी चुराने वाले उस गैंग का खुलासा गुरुवार को हो ही गया.

डेली मिरर की खबर के मुताबिक सिडनी क्यूगुलियर ने अपने भाई के साथ मिलकर टूर्नामेंट शुरू होने से ठीक पहले इसे चुरा लिया था. इस चोरी को सबसे बड़ी चोरी में से एक माना जाता है. उस समय 40 साल के क्‍यूगुलियर को पुलिस पकड़ भी नहीं पाई थी, यहीं नहीं 52 साल तक उसकी पहचान एक रहस्‍य बनी हुई थी. इस चोरी के बारे में सिर्फ तीन लोग ही जानते थे, जिसमें एक उसका भतीजा गैरी भी था. गैरी ने बताया कि कैसे क्‍यूगुलियर ने अपने भाई और गैरी के पिता की मदद से उस ट्रॉफी पर हाथ साफ किया.

फिरौती न  मिलने पर गली में छोड़ दी थी

क्यूगुलियर ने धमकी देकर 15 हजार पाउंड ( करीब 13 लाख, 72 हजार रुपए) की फिरौती मांगने की कोशिश की थी, लेकिन दोस्‍त के पकड़े जाने के बाद उनकी पूरी योजना बिगड़ गई. बात बिगड़ते देख क्‍यूगुलियन ने ट्रॉफी को लंदन के एक पार्क में कागज में लपेटकर कर फेंक दिय . उसके बाद इस ट्रॉफी को एक कुत्‍ते ने खोजा था, जो उनके मालिक के साथ वहां घूम रहा था. उस साल आम चुनाव के दौरान यह सबसे बड़ी कहानी बन गई थी. ट्रॉफी खोजने वाले कुत्‍ते के मालिक को ईनाम दिया गया, वहीं उस कुत्‍ते को जिंदगी भर मुफ्त में खाना पीना दिया गया. इन सभी को क्यूगुलियर अपने घर से देख रहा था, जिसका निधन 2005 में 79 साल की उम्र में कैंसर से हुआ. गैरी ने कहा कि सिडनी ने सिर्फ डराने के लिए यह सब किया था, ना कि आर्थिक लाभ के लिए, क्‍योंकि यह सब बहुत आसान था.

Football - 1966 FIFA World Cup - Final - England v West Germany - Wembley Stadium, London - 30/7/66 England captain Bobby Moore and Manager Alf Ramsey with the Jules Rimet trophy Mandatory Credit: Action Images / MSI PLEASE NOTE: FOR UK EDITORIAL SALES ONLY. CONTRACT CLIENTS: ADDITIONAL FEES MAY APPLY - PLEASE CONTACT YOUR ACCOUNT MANAGER - MT1ACI1579987

वर्ल्‍ड कप उठाने वाले पहले अंग्रेज बनना चाहते थे

1966 में इंग्‍लैंड ने पहली बार वर्ल्‍ड कप अपने नाम किया. एक अन्‍य सूत्र के मुताबिक सिडनी ने कई बार कहा था कि वह वर्ल्‍ड कप ट्रॉफी उठाने वाले पहले अंग्रेज हैं और उन्‍होंने बॉबी मूर से पहले इसे किया भी. क्यूगुलियर को एक अन्‍य चोरी के मामले में 25 साल की जेल भी हुई थी. उसी साल 20 मार्च 1966 में क्‍यूगुलियर ने ग्री‍क गॉडेस की मूर्ति चुराई थी.

इस तरह‍ से चुराई थी ट्रॉफी

एक सूत्र ने बताया कि ट्रॉफी को पब्लिक डिस्‍प्‍ले में रखे जाने की खबर को सुनकर क्‍यूगुलियर अपने घर से वेस्‍टमिंस्‍टर तक कई मील ड्राइव करके आया. क्‍यूगुलियर ने कहा कि जिस तरह के हैंडल्‍स स्‍कूल्‍स में मिलते हैं, वैसा ही वहां के गेट का हैंडल था, जिसे देखकर उसे महसूस हुआ कि वह उसे खोल सकता है और अंदर जा सकता है. वह पीछे के दरवाजे से ल‍कड़ी की एक पट्टी को हटाकर अंदर चले गए. क्‍यूगुलियर ट्रॉफी केबिनेट के रूम में चले गए. उसे यह देखकर बिल्‍कुल भी विश्‍वास नहीं हुआ कि सामने ग्‍लास वाले लकड़ी के कैबिनेट में उसे रखा गया है. वहां कोई भी सुरक्षा नहीं दिख रही थी. उसने चेन को काटा और सेकंड में कैबिनेट को खोल दिया. ट्रॉफी को देखकर खुद इसे उठाने को मजबूर हो गया. उसे उम्‍मीद थी कि ट्रॉफी बहुत भारी होगी, लेकिन वो हल्‍की थी. इसके बाद वह अपनी जैकेट को हाथ में लेकर दरवाजे से बाहर गली में आ गया. स्‍कॉटलैंड यार्ड ने उसे कप को जल्‍दी और सुरक्षित वापस लाने के लिए फिरौती देने का प्रस्‍ताव रखा, लेकिन जब एडवर्ड फिरौती लेने गया तो उसे पकड़ लिया गया, जिसे दो साल की जेल हुई. गैरी ने कहा कि मेरे पिता और अंकल को लोग इस जुर्म के लिए याद रखेंगे. 1966 में इंग्‍लैंड ने जर्मनी को हराने के बाद कप्‍तान मूर ने इस ट्रॉफी को हाथ में उठाया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi