S M L

FIFA World Cup 2018 : यह हार किसकी है.... मेसी की, अर्जेंटीना की या कोच की कमजोर रणनीति की

क्रोएशिया के खि्लाफ 0-3 से हारकर वर्ल्ड कप 2018 से बाहर होने के कगार पार आ गई है मेसी की टीम

Updated On: Jun 22, 2018 04:34 PM IST

priyansh

0
FIFA World Cup 2018 : यह हार किसकी है.... मेसी की, अर्जेंटीना की या कोच की कमजोर रणनीति की
Loading...

चंद मिनट बाकी थे. लेकिन उम्मीदें खत्म हो चुकी थीं. लियोनेल मेसी सेंटर सर्कल में खड़े थे. खेल शुरू होने का इंतजार कर रहे थे. मन में चल रहा होगा कि काश, मैच अब तक खत्म हो जाता. कप्तान कमर पर हाथ रखे खड़े थे. अर्जेंटीनी प्रशंसकों का दिल मानो धड़कना बंद करने की तरफ बढ़ रहा था. जिंदगी धीरे-धीरे सिकुड़ती, सिमटती जा रही थी.

दुनिया के सबसे बड़े फुटबॉल स्टार के फेल होने की कहानी आगे बढ़ रही थी. लगातार दूसरे मैच में मेसी ने ऐसा कुछ नहीं किया, जिसके बारे में बात की जाए. पूरी शाम मेसी सोच की मुद्रा में ही नजर आए. अगले कुछ दिनों में और भी बहुत कुछ होगा, जब अर्जेंटीना ग्रुप स्टेज में बाहर होने की प्रक्रिया से बचने की कोशिश करेगी.

आखिर किस कन्फ्यूजन में थी अर्जेंटीना की टीम!

क्रोएशिया के मैनेजर ज्लादको दालिक ने मैच के बाद कहा, ‘अर्जेंटीनी टीम कनफ्यूज नहीं थी. हम बहुत अच्छे थे.’ लेकिन अर्जेंटीनी कैंप में हर चेहरे पर कनफ्यूजन साफ-साफ पसरा हुआ था. यह समझ से बाहर था कि टीम अपने मैनेजर होर्गे संपाओली के प्लान को मैदान पर उतारने में नाकाम रही. महज इतना सा प्लान कि गेंद मेसी को दी जाए. ऐसा नहीं हुआ और कप्तान लाचार नजर आए. टहलते, जॉगिंग करते. कुछ कदम बाएं, कुछ कदम दाएं. गेम पर कोई असर डाले बिना. जैसा लुका मोद्रिच ने मैच के बाद कहा, ‘हमने मेसी की पासिंग लाइन काट दी. इससे सबसे खतरनाक खिलाड़ी की क्रिएटिविटी को नियंत्रित किया.’

मेसी को घेरा तो मानो पूरी टीम घिर गई

मेसी तभी खतरनाक हो सकते थे, अगर उन्हें गेंद लेने की इजाजत मिली होती. दिलचस्प है कि मेसी को इस हालात का अंदाजा था. तभी उन्होंने मार्च में संपाओली को बारबीक्यू के लिए घर बुलाया था. बार्सिलोना के इस स्टार ने कोच से कहा था कि 3-5-2 का कॉम्बिनेशन न उतारें, इससे उन पर उन क्षेत्र में जाने पर अंकुश लग जाता है, जहां जाने से वो ज्यादा बेहतर साबित हो सकते हैं. उनकी इच्छा 4-4-1-1 के फॉर्मेशन की थी. इससे वो स्ट्राइकर के पीछे प्लेमेकर के रोल में आते, जो मैच पर ज्यादा असर डालता.

कोच का 'गुनाह' भी कम नहीं है

संपाओली ने मेसी के सुझाव को उस वक्त माना. लेकिन उसके बाद अपना फैसला बदल दिया. इससे हुआ यह कि जब मेसी के पास गेंद थी भी, तो वो एक घेरे में सिमट कर रह गए. वो दूरी तय करना आसान नहीं रहा. पहले हाफ में एक वक्त क्रोएशिया के  हाफ से फ्री किक मिला. इस पर मानो अनमने तरीके से मेसी ने गेंद विडा को बढ़ा दी.

Soccer Football - World Cup - Group D - Argentina vs Croatia - Nizhny Novgorod Stadium, Nizhny Novgorod, Russia - June 21, 2018 Croatia's Danijel Subasic makes a save as Argentina's Lionel Messi and Maximiliano Meza are in action REUTERS/Carlos Barria - RC1B15E1F500

दूसरे हाफ में भी एक समय सर्गियो एग्वेरा ने मेस की तरफ गेंद बढ़ाई, जिसे उन्हें रफ्तार बढ़ाकर हासिल करना था. लेकिन मेसी दूर से महज इसे देखते ही रह गए. मेसी ने मैच में 27 पास कंप्लीट किए. इनमें आठ एंजो पेरेज के लिए थे. सिर्फ एक बार मेसी विपक्षी टीम के पेनल्टी एरिया में सेंध लगा पाने में कामयाब हुए. तब तक तीन चौथाई मैच खत्म हो चुका था. जब मैच खत्म हुआ, तब मेसी के लिए गेंद छीनने (दो बार) के मुकाबले खोने का नंबर (तीन बार) ज्यादा बड़ा था.

संपाओली ने आखिरी आधे घंटे में 4-2-4 का फॉर्मेशन अपनाया, जो अजीब था. अगर मेसी पेले जितने महान होते, तो भी यह साल 1958 नहीं, 2018 है. क्रोएशिया ने विपक्षी टीम से मिले तोहफे का पूरा फायदा उठाया. यकीनन यह कभी अच्छी बात नहीं है कि आप एक इंसान पर निर्भर रहें. खासतौर पर ऐसे दिन, जब मेसी पर विपक्षी पेनल्टी बॉक्स में घुसने से पूरी तरह रोक दिया गया था. आइसलैंड मुकाबले में कम से कम उन्होंने नौ बार कोशिश की थी. यहां तो वो भी नहीं हुआ. मैच से पहले वॉर्म अप में वो 20 गज से किक लेने की प्रैक्टिस कर रहे थे, लेकिन वो भी मैच में किसी काम नहीं आया.

Soccer Football - World Cup - Group D - Argentina vs Croatia - Nizhny Novgorod Stadium, Nizhny Novgorod, Russia - June 21, 2018 Argentina's Lionel Messi in action REUTERS/Carlos Barria - RC1409BC5960

संपाओली का जो सिंपल प्लान था, वो बेहद जटिल साबित हुआ. मैनेजर की छेड़छाड़ ने अर्जेंटीना को हारी हुई टीम बना दिया. मेसी के अलावा इस टीम में किसी की भी जगह तय नहीं है. कुछ इसलिए हैं, क्योंकि विकल्प नहीं है. इसमें ताज्जुब नहीं होना चाहिए कि संपाओली ने पिछले साल जब से चार्ज संभाला है, उनके साथ खेले 13 मैचों में अर्जेंटीना ने एक जैसी लाइन-अप नहीं रखी है.

आखिर मेसी और कोच के बीच तालमेल क्यों नहीं है!

ऐसे हालात में अर्जेंटीनी प्रशंसकों का मेसी-मेसी जाप करना और स्वाभाविक हो जाता है. वही तय नाम हैं. चाहे अच्छा वक्त हो या बुरा. लोग आवाज लगाते रहे- मेसी...मेसी... मेसी. जवाब नहीं मिला. हजारों लोगों के शरीर पर उस जर्सी का वजन हर क्षण बढ़ता जा रहा होगा, जिस पर मेसी का नाम लिखा था.

खिलाड़ियों में भी हताशा बढ़ रही है. एग्वेरा जब गुरुवार की रात स्टेडियम से निकले, तो उन्होंने कुछ शब्द बोले, जो टीम में तनाव को दिखाते हैं. उनसे पूछा गया कि संपाओली ने माना है कि उनकी प्लानिंग गड़बड़ थी, इस पर एग्वेरो का जवाब था- वो जो चाहते हैं, उन्हें कहने दो.

प्लानिंग से असहमति बढ़ती जा रही है. टीम ऑर्गनाइजेशन संपाओली साहस नहीं दिखा पा रहे, जो उनके चरित्र से मेल नहीं खाता. गुरुवार को भी मैनेजर को यह समझ पाने में खासा वक्त लगा कि उनकी रणनीति गड़बड़ है, जबकि क्रोएशियाई टीम ने यह गड़बड़ बहुत पहले समझ ली और इसी के मुताबिक खेल खेला. उन्हें चंद मिनट ही लगे. दूसरी तरफ संपाओली करीब एक घंटे तक तीन खिलाड़ियों को डिफेंस में खिलाते रहे. शायद ही कोई मैनेजर से असहमत होगा, जब उन्होंने कहा कि हार के लिए वही जिम्मेदार हैं.

हालांकि मैच के बाद मेसी के बारे में उनके विचार से बाकी टीम पर दोष जाता दिखाई देता है. उन्होंने कहा, ‘टीम की सच्चाई ने मेसी के कमाल को ढक दिया है. लियो बंधे हुए दिखे, क्योंकि टीम ठीक ‘जेल’ यानी एकजुट होकर नहीं खेल पाई.’ लेकिन यह भी सच है कि जैसे-जैसे टीम फिसली, टीम लीडर और ज्यादा अपने में सिमटता दिखा. थोड़ी आक्रामक रणनीति होने के बाद जरूर मेसी में ऊर्जा दिखी. लेकिन फिर जल्दी ही वो निराशा के भंवर में जाते नजर आए.

मेसी 2016 में रिटायर हो गए थे, जब उनकी टीम लगातार तीसरी बार हारी थी. वापस आए. अब अगर मंगलवार को उनकी टीम वर्ल्ड कप से बाहर होती है, तो खुद से सवाल जरूर पूछेंगे. उनके साथियों ने 2014 के वर्ल्ड कप, 2015 और 16 को कोपा अमेरिका टूर्नामेंट में हार की जिम्मेदारी ली थी. क्या संपाओली ऐसे शख्स के तौर पर याद किए जाएंगे, जिसने 2018 में मेसी को रोका? हमें जल्द ही पता चल जाएगा.

 

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi