S M L

FIFA World Cup 2018: जब दो टीम फुटबॉल मैच छोड़ करनी लगी थी किकबॉक्सिंग, अपने जूतों से कुचल दी थी खेल भावना और इसकी गरिमा

1962 फीफा विश्‍व कप के ग्रुप दो चरण में चिली और इटली की टीम शायद भूल गई थी कि वह फुटबॉल मैच खेलने मैदान पर उतरी है ना कि किकबॉक्सिंग का मुकाबला

Kiran Singh Updated On: Jun 14, 2018 12:30 PM IST

0
FIFA World Cup 2018: जब दो टीम फुटबॉल मैच छोड़ करनी लगी थी किकबॉक्सिंग, अपने जूतों से कुचल दी थी खेल भावना और इसकी गरिमा

कुछ दिन में दुनिया के सबसे बड़े टूर्नामेंट में से एक फीफा विश्‍व कप शुरू होने वाला है और अब तक पूरी दुनिया पर फुटबॉल का रंग चढ़ गया है. जितनी टीमें उतना बड़ा टूर्नामेंट और उतने ही किस्‍से कहानियां होते हैं. 1930 से शुरू होने इस विश्‍व कप के 32 टीमें रूस में आमने सामने होंगी. वैसे इस टूर्नामेंट को सभी तैयार रहते हैं, फिर चाहे खिलाड़ी हो या प्रशसंक, मैच के दौरान तो कई बार प्रशंसक इतने आक्रामक हो जाते हैं कि पुलिस को हस्‍तक्षेप करना पड़ता है. कई बार तो इनकी वजह से मैच में भी खलल पड़ा. फुटबॉल में प्रशंसको का यूं आपस में भिड़ना अब आम बात हो गई है, लेकिन मैच के दौरान खिलाडि़यों की लड़ाई आज की तारीख में बड़ी है. भले ही मैदान पर अभी भी खिलाडि़यों के बीच अधिकतर बार तीखी कहासुनी होती रहती है, लेकिन विश्‍व कप के इतिहास में एक ऐसा भी मैच लिखा हुआ है, जिसने खेल भावना को ही शर्मसार कर दिया और यह बात 20वीं सदी की है. जब दोनों टीमें भूल गई थी कि वह फुटबॉल का मैच खेलने मैदान पर उतरी है, अगर उन्‍हें यह याद रहता तो शायद वह किकबॉक्सिंग ना खेलने लग जाती.

fifa 1962 2

1962 फीफा विश्‍व कप जीतने वाली टीम ब्राजील को उतना याद नहीं किया जाता, जितना उस टूर्नामेंट के बीच हुई खिलाडि़यों की लड़ाई के लिए याद किया जाता है. उस मैच में दोनों टीम खेल की गरिमा और खेल भावना को अपने जूते से कुचलते हुए इतिहास के पन्‍नों में दर्ज हो गई.

बैटल ऑफ सेंटियागो के लिए कुख्‍यात है 1962 का विश्‍व कप

fifa 1962 4

1962 में दक्षिण अमेरिका देश चिली में हुए सातवें फीफा विश्‍व कप बैटल ऑफ सेंटियागो (सेटिंयागो की लड़ाई) के लिए जाना जाता है. 30 मई से 17 जून तक चले इस विश्‍व कप में दो जून को ग्रुप दो के मैच में सेंटियागो में चिली और इटली आमने सामने हुई और इस बीच मैच में वह सब हुआ, जो इतिहास में काले अक्षरों में लिखा गया. मैच फुटबॉल का था, लेकिन यहां खिलाडि़यों के बीच लात घूंसे चले. दो खिलाड़ी को मैदान से बाहर भेज दिया गया. इस लड़ाई को रोकने के लिए पुलिस को हस्‍तक्षेप करना पड़ा.

fifa 1962 1

इटली के जॉजियो फेरिनी और चिली के होनोरिनो लांडा के बीच भिडंत से खेल की शुरुआत हुई. फेरिनी को मैदान से बाहर भेजा गया, लेकिन उन्‍होंने जाने से मना कर दिया. इसके बाद तो पुलिस उन्‍हें घसीटते हुए बाहर ले गई. किसी खिलाड़ी को यूं मैदान से बाहर ले जाना भी काफी शर्मनाक रहा. अभी यह मामला ठीक से ठंडा हुआ भी नहीं था कि चिली के लियोन सांचेज ने इटली के मारियो डेविड को पंच मारा, इंग्लिश रेफरी ने इसे अनदेखा कर दिया. सांचेज के पंच के जवाब में डेविड ने उन्‍हें किक मारी और रेफरी ने उन्‍हें भी बाहर भेज दिया.

fifa 1962

यही नहीं रूकी लड़ाई, इसके बाद मैदान पर खिलाडि़यों ने दिखाया इतिहास का सबसे अपमानजनक प्रदर्शन

खिलाडि़यों के बीच यह लड़ाई यहां पर नहीं रूकी ओर इसके बाद तो दोनों टीमों के खिलाडि़यों ने सीमा को लांघ दिया और खेल की गरिमा को अपने जूतो से कुचलते हुए खेल का ही अपमान कर डाला. चिली ने सांचेज ने इटली के हंबर्टो माशियो की नाक तोड़ दी, लेकिन इसके बावजूद उन्‍हें मैदान से बाहर नहीं भेजा गया. इसके बाद दोनों टीमों के बीच हाथापाई हुई, यहां तक कि मैदान पर ही एक दूसरे के उपर थूंकते रहे. पुलिस को तीन बार बीच बचाव करने के लिए मैदान पर आना पड़ा. हालांकि चिली ने 2-0 से इस मैच को जीता.

फोटो साभार : यू ट्यूब 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi