S M L

फीफा अंडर17 वर्ल्डकप: ब्राजील और स्पेन खिताब से दूरी खत्म करने के इरादे से उतरेंगी

इन्हें ग्रुप डी की बाकी दो टीमों नॉर्थ कोरिया और नाइजर से कोई खास चुनौती मिलने की उम्मीद नहीं

Updated On: Oct 02, 2017 10:41 AM IST

Manoj Chaturvedi

0
फीफा अंडर17 वर्ल्डकप: ब्राजील और स्पेन खिताब से दूरी खत्म करने के इरादे से उतरेंगी

फीफा अंडर-17 फुटबॉल वर्ल्ड कप के किसी ग्रुप में दो ऐसी टीमें होंजिन्हें खिताब जीतने का मजबूत दावेदार माना जा रहा होउसे मजबूत ग्रुप कहेंगे. यह टीमें हैं ब्राजील और स्पेन. पर इन दोनों टीमों की खुश किस्मत यह है कि इन्हें ग्रुप डी की बाकी दो टीमों नॉर्थ कोरिया और नाइजर से कोई खास चुनौती मिलने की उम्मीद नहीं है. ब्राजील की 14 साल से खिताब से दूरी बनी हुई है और स्पेन कभी चैंपियन बन ही नहीं सकी है. लेकिन फिर भी दोनों टीमों को इस बार खिताब की दावेदार टीमों में शुमार किया जा रहा है. ब्राजील और स्पेन सात अक्टूबर को आपस में खेलकर अभियान की शुरुआत करेंगीइसलिए पहले मुकाबले से यह साफ हो सकता है कि ग्रुप में टॉप टीम कौन सी बनने जा रही है.

क्या खत्म होगी ब्राजील की खिताब से दूरी

ब्राजील को हमेशा ही दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों में गिना जाता है. वह 1997, 1999 और 2003 में चैंपियन भी रही है. इसके अलावा1995 और 2005 में फाइनल तक चुनौती पेश करके उपविजेता भी रही है. पर यह उनका दुर्भाग्य है कि वो 2003 के बाद चैंपियन नहीं बन सकी है. पिछले दो विश्व कपों में वह क्वार्टर फाइनल तक ही चुनौती पेश कर सकी है. इससे पहले यानी 2011 में उसने चौथा स्थन प्राप्त किया था. लेकिन इस बार माना जा रहा है कि यह लातिन अमेरिकी टीम खिताब से दूरी को खत्म कर सकती है.brazil u17 team

इसकी वजह यह है कि उन्होंने विश्व कप की तैयारी और क्वालीफाई करने के अभियान में कुल 24 मैच खेले और किसी भी विपक्षी टीम को जीतने का मौका नहीं दिया. यही नहीं अपने इस अभियान में उन्होंने सिर्फ पांच गोल खाए.

एलन सूजा हैं ब्राजील टीम की जान

फुटबॉल में आमतौर पर 10 नंबर की जर्सी सबसे महत्वपूर्ण खिलाड़ी को ही दी जाती है. ब्राजील के लिए पूर्व में यह जर्सी पेले और नेमार जैसे खिलाड़ियों ने पहनी है. इस टीम में यह जिम्मेदारी एलन सूजा को दी गई है. वह बहुत ही उम्दा अंदाज में पासों का वितरण करते हैं. सही मायनों में ब्राजील के हमले इस खिलाड़ी के इशारों पर चलते हैं. टीम के एक अन्य महत्वपूर्ण खिलाड़ी विनीसियस जूनियर के रियाल मैड्रिड से करार होने की बात कही जा रही है और कहा जा रहा है कि वह शायद अब इस चैंपियनशिप में नहीं खेलेंगे. इस स्थिति में एलन सूजा की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है.

स्पेन का इतिहास पलटने का इरादा

स्पेन को हमेशा ही दुनिया की दिग्गज टीमों में शुमार किया जाता है. वह तीन बार 1991, 2003 और 2007 में फाइनल तक चुनौती पेश कर चुकी है. पर उनकी किस्मत कभी चमक नहीं बिखेर सकी और उसकी खिताब से दूरी कभी खत्म नहीं हो सकी. पर इस बार स्पेनिश टीम के कोच सेंटियागो डेनिया को इतिहास पलटने का भरोसा है. उन्होंने कहा कि इस बार हम अच्छी तैयारी से आए हैं और हमारे सभी खिलाड़ी अच्छी फॉर्म में भी हैं. इसके अलावा हमारी टीम मानसिक रूप से भी मजबूत हैइसलिए इस बार भाग्य ने साथ दिया तो हम किस्मत पलट सकते हैं.

स्पेन को यह अच्छी तरह याद होगा कि 2003 में चैंपियन बनने के सपने को ब्राजील ने फाइनल में हराकर तोड़ा था. इसलिए वह ब्राजील पर जीत के साथ अभियान शुरू करके इस हार का हिसाब बराबर करने का इरादा रखते हैं. इस टीम के ज्यादातर खिलाड़ी रियाल मैड्रिड और बार्सिलाना क्लब से जुड़े हुए हैं. इसलिए उन्हें अनुभव की कोई कमी नहीं है. वह सिर्फ भाग्य का साथ पाना चाहते हैं, क्योंकि बाकी  काम उनके खिलाड़ी करने में सक्षम हैं.

बाकी दो में दम है कम

नॉर्थ कोरिया और नाइजर ग्रुप की बाकी दो टीमें हैंजिनके दावे में दम कम है. नॉर्थ कोरिया 17 में से सिर्फ पांच बार क्वालीफाई कर सकी है और नाइजर पहली बार क्वालिफाई करने में सफल हुई है. नॉर्थ कोरिया 2005 में क्वार्टर फाइनल में पहुंची थी और पिछली बार यानी 2015 में राउंड ऑफ 16 में पहुंची थी. इसलिए वह अपना दिन होने पर किसी टीम के समीकरण जरूर बिगाड़ सकती है. पर उसमें बहुत आगे जाने का माद्दा नहीं है. नाइजर से यह उम्मीद लगाना भी संभव नहीं है. वैसे वह 2009 में भी क्वालीफाई कर गई थी. पर उसे अयोग्य करार कर दिया गया था.

शुरुआत में ही दिखाना होगा जलवा

इस ग्रुप की दोनों दिग्गज टीमों को सात अक्टूबर को खेलने जाने वाले पहले ही मैच में अपना जलवा दिखाना होगा. यह मैच ब्राजील और स्पेन के बीच खेला जाना है. इस मैच में जीतने वाली टीम की ग्रुप में पहले स्थान पर रहने की संभावनाएं बढ़ जाएंगी. नॉर्थ कोरिया को 10 और 13 अक्टूबर को क्रमशब्राजील और स्पेन से खेलना है. इन मैचों से उसकी हालत का सही जायजा मिल जाएगा. वैसे ब्राजील और स्पेन की राह रोकने की ताकत तो बाकी दो टीमों में नहीं दिखती है. हांइतना जरूर है कि नॉर्थ कोरिया ने थोड़ा ठीक-ठाक प्रदर्शन कर दिया तो वह तीसरे स्थान पर रहने वाली सर्वश्रेष्ठ टीमों में स्थान बनाकर राउंड ऑफ 16 में स्थान बनाने की दावेदार बन सकती है.

ग्रुप डी मुकाबले

अक्टूबर

गोवा ब्राजील बनाम स्पेन- शाम बजे से, कोच्चि

नॉर्थ कोरिया बनाम नाइजर- शाम बजे सेकोच्चि

10 अक्टूबर

स्पेन बनाम नाइजर- शाम बजे सेकोच्चि

नॉर्थ कोरिया बनाम ब्राजील - शाम बजे सेकोच्चि

13 अक्टूबर

नाइजर बनाम ब्राजील- शाम बजे सेगोवा

स्पेन बनाम नॉर्थ कोरिया- शाम बजे सेकोच्चि

फोटो साभार: यूईएफए.कॉम

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi