S M L

AFC Asian Cup 2019: टूर्नामेंट के पहले मैच में भारत के सामने होगी थाईलैंड की चुनौती

फीफा रैंकिंग में भारत 97वें जबकि थाईलैंड 118वें स्थान पर काबिज है लेकिन एशियन टूर्नामेंट में रैंकिंग का इतना महत्व नहीं होता

Updated On: Jan 06, 2019 04:02 PM IST

Bhasha

0
AFC Asian Cup 2019: टूर्नामेंट के पहले मैच में भारत के सामने होगी थाईलैंड की चुनौती

भारतीय फुटबॉल टीम जब रविवार को थाईलैंड के खिलाफ एएफसी एशिया कप में अपने अभियान की शुरूआत करेगी तो उसकी निगाहें हाल के महीनों में अपने प्रभावशाली नतीजों से प्रेरणा लेकर बेहतरीन प्रदर्शन करने पर लगी होंगी.

यह एशियन टूर्नामेंट अब पहली बार 24 टीमों के बीच खेला जाएगा जो पहले 16 टीमों का हुआ करता था. भारतीय टीम के पास नॉकआउट दौर में पहुंचने का मौका होगा जो 1964 में उप विजेता रह चुकी है. वर्ष 1984 और 2011 में भारत ग्रुप चरण में टूर्नामेंट से बाहर हो गया था. चार चार टीमों के छह ग्रुप में से प्रत्येक में से दो शीर्ष टीमें तथा तीसरे स्थान पर रहने वाली चार टीमें राउंड 16 के लिए क्वालिफाई करेंगी.

जारी रहेगा भारत का विजयी अभियान

चौथे एशियाई कप में भाग ले रही भारतीय टीम ने टूर्नामेंट से पहले चीन और ओमान से गोलरहित ड्रॉ खेला जबकि एशियाई कप से पहले तीसरे बड़े मैच में उसे जोर्डन से 1-2 की करीबी हार का सामना करना पड़ा. अंतरराष्ट्रीय फ्रेंडली मैचों में भी टीम को 13 मैचों में हार का सामना नहीं करना पड़ा और इसमें पिछले साल घरेलू मैदान पर इंटरकॉटिनेंटल कप की जीत भी शामिल है. कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन के खिलाड़ी 2011 चरण के प्रदर्शन को भी सुधारने के लिए बेताब होंगे जिसमें उसने अपने सभी ग्रुप मैच गंवा दिए थे.

indian team

थाईलैंड के खिलाफ होने वाले मैच का नतीजा टीम के लिए काफी अहम होगा क्योंकि सकारात्मक परिणाम से टीम के राउंड 16 में पहुंचने का मौका बढ़ जाएगा. अगर भारत इसमें जीत जाता है तो 10 जनवरी को यूएई और 14 जनवरी को बहरीन के खिलाफ होने वाले बचे हुए दो मैचों में ड्रॉ भी उन्हें नॉकआउट दौर में पहुंचा सकता है. थाईलैंड की टीम ने आसियान फुटबॉल फेडरेशन चैंपियनशिप में काफी गोल दागे थे जिससे भारत के लिये रक्षात्मक खेल अहम साबित हो सकता है.

यह भी पढ़ें-AFC Asian Cup 2019, Ind vs THA: कब, कहां और कैसे देख सकते हैं मैच, ऑनलाइन स्ट्रीमिंग हॉटस्टार पर

रैंकिंग में थाईलैंड से आगे है भारत

फीफा रैंकिंग में भारत 97वें जबकि थाईलैंड 118वें स्थान पर काबिज है लेकिन एशियन टूर्नामेंट में रैंकिंग का इतना महत्व नहीं होता. बल्कि ग्रुप में यूएई के बाद भारत दूसरी सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग की टीम है. भारत और थाईलैंड एक दूसरे से 24 बार आमने सामने हो चुके हैं जिसमें से थाईलैंड ने 12 मौकों पर जीत हासिल की है. वहीं भारत पांच बार जीता है जबकि बचे हुए सात मैच ड्रॉ रहेय हालांकि हाल के दिनों में दोनों टीमों ने एक दूसरे के खिलाफ काफी कम मैच खेले हैं. पिछली बार दोनों टीमें 2010 में भिड़ीं थीं. थाईलैंड ने दोनों मैचों में 2-1 और 1-0 से जीत दर्ज की थी. पिछली बार जब भारत ने थाईलैंड को हराया था, वह 1986 में कुआलालम्पुर में मर्डेा कप में था.

भारतीय टीम की निगाहें गोल के लिए करिश्माई स्ट्राइकर सुनील छेत्री पर लगी होंगी जबकि उनके स्ट्राइक जोड़ीदार जेजे लालपेखलुवा की हालिया फार्म चिंता का विषय हो सकती है. संदेश झिंगन डिफेंस की अगुवाई करेंगे और बैकलाइन में अनस इडाथोडिका उनके जोड़ीदार होंगे. गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू शानदार फॉर्म में हैं. कांस्टेनटाइन अपनी पहली पसंद के विंगर उदांता सिंह और हलीचरण नार्जरी को उतारेंगे जो अग्रिम पंक्ति में छेत्री और लालपेखलुवा को मौके मुहैया कराते रहें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi