S M L

तीन साल तक रहे टेंट में, फिर बेचे गोल-गप्पे तब जाकर मिला 'टीम इंडिया' का टिकट

तीन साल तक यशस्वी मुस्लिम यूनाइटेड क्लब के टेंट में रहे

Updated On: Oct 10, 2018 08:39 AM IST

FP Staff

0
तीन साल तक रहे टेंट में, फिर बेचे गोल-गप्पे तब जाकर मिला 'टीम इंडिया' का टिकट

सीनियर टीम के बाद भारतीय अंडर19 क्रिकेट टीम भी अंडर 19 एशिया कप जीतने में कामयाब रही.  भारतीय टीम के ओपनर यशस्वी ने फाइनल मैच में 85 रनों की पारी खेली थी. साथ ही उन्होंने तीन मैचों में 214 रन बनाए जो टूर्नामेंट में किसी बल्लेबाज के सर्वाधिक रन हैं. यशस्वी के खेल की जितनी तारीफ हो रही है उतनी ही तारीफ उनके संघर्ष की हो रही है. अंडर-19 टीम तक पहुंचने के लिए यशस्वी ने कई मुश्किलों का सामना किया है

दो भाइयों में छोटा यशस्वी उत्तर प्रदेश के भदोही का रहने वाला है. उसके पिता वहीं एक छोटी सी दुकान चलाते हैं. यशस्वी, कम उम्र में ही क्रिकेट का सपना लेकर मुंबई पहुंच गया था. उनके पिता के लिए परिवार को पालना मुश्किल हो रहा था इसलिए उन्होंने एतराज़ भी नहीं किया. मुंबई में यशस्वी के चाचा का घर इतना बड़ा नहीं था कि वो उसे साथ रख सकें. इसलिए चाचा ने मुस्लिम यूनाइटेड क्लब से अनुरोध किया कि वो यशस्वी को टेंट में रहने की इजाज़त दें.

अगले तीन साल के लिए वो टेंट ही यशस्वी के लिए घर बन गया. पूरी कोशिश यही होती कि मुंबई में उनकी संघर्ष से भरी ज़िंदगी की बात मां-बाप तक नहीं पहुंचे. अगर उनके परिवार को पता चलता तो क्रिकेट करियर का वहीं अंत हो जाता. उनके पिता कई बार पैसे भेजते लेकिन वो कभी भी काफी नहीं होते. राम लीला के समय आज़ाद मैदान पर यशस्वी ने गोल-गप्पे भी बेचे. लेकिन इसके बावजूद कई रातों को उन्हें भूखा सोना पड़ता था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi