S M L

ब्‍लड कैंसर और थैलेसिमिया से जूझ रहे लोगों की मदद के लिए वीवीएस लक्ष्मण बने ब्लड-स्टेम सेल डोनर

लक्ष्मण ने एक गैर-लाभकारी संस्था में अपना पंजीकरण कराया है. यह संस्थान अपनी मर्जी से ब्लड स्टेम सेल दान करने वालों की सूची रखता है

Updated On: Oct 28, 2018 08:27 PM IST

Bhasha

0
ब्‍लड कैंसर और थैलेसिमिया से जूझ रहे लोगों की मदद के लिए वीवीएस लक्ष्मण बने ब्लड-स्टेम सेल डोनर
Loading...

भारत के दिग्गज बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने रविवार को ब्लड-स्टेम सेल डोनर के रूप में पंजीकरण कराने के बाद कहा कि सभी को दाता बनना चाहिए ताकि रक्त कैंसर से जूझ रहे हजारों लोगों को जीवनदान मिल सके. लक्ष्मण ने एक गैर-लाभकारी संस्था में अपना पंजीकरण कराया है. यह संस्थान अपनी मर्जी से ब्लड स्टेम सेल दान करने वालों की सूची रखता है और रक्त कैंसर और थैलेसिमिया जैसी रक्त संबंधी बीमारियों से जूझ रहे लोगों की मदद करता है. लक्ष्‍मण ने पीटीआई से कहा कि मुझे लगता है कि जिंदा रहते हुए बहुत कम लोगों को जीवन बचाने का मौका मिलता है. जो व्यक्ति सिर्फ आपकी वजह से जीवित है, उससे मिलना जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि है. उन्होंने कहा कि 1.35 अरब जनसंख्या वाले देश में महज 3 लाख 72 हजार लोग दात्री के साथ पंजीकृत हैं.

लक्ष्मण ने कहा कि हजारों की संख्या में मरीज, दाताओं (डोनर) का इंतजार कर रहे हैं. उन्होंने सभी से आगे आने और इस दिशा में प्रयास करने का अनुरोध किया. मुझे हाल ही में पता चला कि रक्त कैंसर और ऐसी कई जानलेवा बीमारियों को सामान्य ब्लड स्टेम सेल के जरिए ठीक किया जा सकता है. दान करने की प्रक्रिया बहुत आसान है.किसी की जान बचाने के लिए बस आपके कुछ घंटे खर्च होने हैं. लक्ष्‍मण ने कहा कि जब वह थैलेसिमिया से पीड़ित कुछ बच्चों से मिले तो यह जानकर काफी दुख हुआ कि इनमें से कई को महज 20 दिन पर ब्लड ट्रांसफ्यूजन की जरूरत होती है और उनकी जिंदगी की बहुत कम उम्मीद बची है

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi