S M L

भारत-इंग्लैंड, मुंबई टेस्ट : वी से विराट, वी से विजय, वी से विक्ट्री

इंग्लैंड के 400 रन के जवाब में भारत सात पर 451

Updated On: Dec 11, 2016 10:31 AM IST

Shailesh Chaturvedi Shailesh Chaturvedi

0
भारत-इंग्लैंड, मुंबई टेस्ट : वी से विराट, वी से विजय, वी से विक्ट्री

कितनी बार, कितने तरीके से, किन शब्दों में लिखा जाए. शब्द कम पड़ते जा रहे हैं. कद विराट होता जा रहा है. एक बार फिर विराट कोहली. ये कितनी बार लिखना पड़ेगा. क्रिकेट लेखक इस समय मुश्किल में हैं. विराट का रनों का भंडार जैसे-जैसे बढ़ रहा है. लेखक और रिपोर्टर के शब्दों का भंडार खाली हो रहा है. मुंबई का वानखेडे स्टेडियम यही कहानी कहता है. तीसरे दिन का खेल खत्म हुआ, तो भारत का स्कोर सात विकेट पर 451 है. विराट कोहली 147 पर बैटिंग कर रहे हैं. साथ में जयंत यादव हैं, जिन्होंने 30 रन बनाए हैं. दोनों के बीच 87 रन की साझेदारी हो चुकी है. भारत ने इंग्लैंड पर पहली पारी में 51 रन की बढ़त बना ली है.

एक और कप्तानी पारी. क्या ये कहना ठीक होगा? नहीं, इससे कहीं आगे की पारी थी ये. जब हर बल्लेबाज सांप की तरह फुंफकारती गेंदों के सामने मुश्किल में था, विराट का खेल देखकर लगा कि पिच कितनी आसान है. एक समय सचिन तेंदुलकर के लिए ये बात कही जाती थी. वो 90 का दशक था. जब तक सचिन खेलते थे, पिच आसान दिखती थी. वही बात विराट के लिए है. यही उनके करियर के 15वें टेस्ट शतक में भी दिखाई दिया.

Mumbai: India batsman Murali Vijay celebrates his century on the third day of the fourth Test match against England in Mumbai on Saturday. PTI Photo by Santosh Hirlekar(PTI12_10_2016_000046B)

मुरली विजय.

विराट की इस पारी ने जैसे लोगों को भुला दिया कि सुबह की शुरुआत मुरली विजय ने की थी. उनकी पारी के बगैर भी भारत मुश्किलों में होता. विजय ने बेहतरीन स्ट्रोक्स खेले. भारत के लिए दिन की शुरुआत एक विकेट पर 146 से हुई थी. इसी स्कोर पर चेतेश्वर पुजारा आउट हो गए. यहां से विजय और विराट के बीच 116 रन की साझेदारी शुरू हुई.

विजय ने 231 गेंदों पर अपना शतक पूरा किया. उन पर गहरा दबाव होगा, जिससे उबरते हुए विजय ने अपना शतक पूरा किया. पिछली कई पारियों से उनका बल्ला खामोश था. शनिवार को वानखेडे स्टेडियम में 20 हजार लोगों के सामने बोला ही नहीं, गरजा. आखिर वो 136 रन बनाकर आउट हुए.

Mumbai: England bowler Jake Bell celebrates the wicket of Pujara with his teammates on the third day of the fourth Test match against India in Mumbai on Saturday. PTI Photo by Santosh Hirlekar(PTI12_10_2016_000042B)

पुजारा को आउट करने के बाद खुशी जताते जेक बॉल.

अगले 45 रन पर भारत के चार विकेट निकल गए. विजय के बाद करुण नायर एलबीडब्ल्यू हुए. फिर अचानक टर्न और बाउंस लेती गेंद पर पार्थिव पटेल विकेट के पीछे कैच दे बैठे. अश्विन का आक्रामक शॉट फॉरवर्ड शॉर्ट लेग पर खड़े जेनिंग्स के हाथ में समा गई.

विराट कोहली को जडेजा का साथ मिला. दोनों ने आक्रामक रुख अपनाया. जडेजा ने एक छक्का भी लगाया. एक और छक्का लगाने की कोशिश में वो आउट हुए. इसके बाद जयंत यादव के साथ जो साझेदारी शुरू हुई, वो दिन खत्म होने तक कायम रही. जयंत यादव ने दिखाया कि उनका टेंपरामेंट किसी भी टॉप ऑर्डर बैट्समैन जैसा है. जयंत ने सहयोगी या क्रिकेट की भाषा में ‘नॉन स्ट्राइकर’ का रोल निभाया. दूसरी तरफ से विराट लगातार भारतीय टीम को मजबूत करते दिखाई दे.

वानखेडे स्टेडियम की पिच पर बल्लेबाजी यकीनन आसान नहीं है. ऐसे में चौथे दिन सुबह भारतीय पारी में जितने रन जुड़ेंगे, वो टीम को जीत की तरफ ले जाने में कारगर साबित होंगे. यकीनन ये दिन वी फैक्टर का था. विजय और विराट, जिन्होंने मिलकर टीम को वी से विजय यानी विक्ट्री की तरफ ले जाने का काम किया है. उसमें भी विराट पारी पर विजय की पारी परछाईं में दब गई दिखाई देती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi