S M L

बल्ला साइड में रख कर ही सचिन के सौ शतकों का रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं विराट

विराट श्रीलंका की ट्राइएंगुलर सीरीज का हिस्सा नहीं होंगे, उन्होंने खुद को आराम देने के लिए यह फैसला किया है

Updated On: Feb 28, 2018 12:13 PM IST

Jasvinder Sidhu Jasvinder Sidhu

0
बल्ला साइड में रख कर ही सचिन के सौ शतकों का रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं विराट

हार्दिक पांड्या के हर सीरीज के बाद बदलते बालों के रंग को देख कर कर शायद कई लोग उन्हें गंभीरता से न लें. लेकिन यह खिलाड़ी अपने दिमाग की सुनता है और फैसले करता है. वरना कौन क्रिकेटर होगा जो 24 साल की उम्र में कहेगा कि वह फलां सीरीज में आराम करना चाहता है.

यह जानते हुए भी कि मौके का इंतजार करने वालों की लाइन लंबी है और वे तैयार हैं लपकने को. जैसे दिल्ली की मेट्रो में लोग खाली सीट पर कब्जे के लिए दौड़ते हैं. पिछले साल श्रीलंका के खिलाफ सीरीज से पहले पांड्या ने यह फैसला किया था.

कोहली ने श्रीलंका सीरीज से लिया आराम

अब इस तरह का फैसला विराट कोहली ने किया है. हालांकि दोनों के फैसलों में कोई तुलना नहीं हो सकती. दोनों के कद में भी कोई तुलना नहीं की जा सकती. लेकिन उनका फैसला भी हिम्मत भरा है. विराट कोहली की फॉर्म इस समय 22 कैरेट सोने के दाम की तरह है, जो ऊपर चढ़ने के बाद नीचे उतरना भूल गया है. इस जबरदस्त फॉर्म में कोई भी बल्लेबाज बाहर बैठने का फैसला नहीं करेगा. लेकिन विराट ने श्रीलंका के अगले दौरे से बाहर बैठे अपने जिस्म पर ही नहीं, बल्कि भारतीय क्रिकेट पर एहसान किया है और उनके इस फैसले की हिम्मत पर उनकी जितनी तारीफ की जाए कम है.

kohlii

विराट के पिछले दो साल के रिकॉर्ड पर निगाह डालने के बाद अंदाजा होता है कि वह उस मिल की मशीन की तरह लगातार काम कर रहे हैं जिसकी चिमनी से धुंआ कभी निकलना बंद नहीं होता. विराट ने पिछले 14 महीनों में  टेस्ट, वनडे, टी-20 इंटरनेशनल और आईपीएल के मिला कर 73 मैच खेले हैं. इनमें वह 883 ओवरों पर क्रीज पर रहे और पांच हजार के करीब रन बनाए हैं.

यह सिर्फ मैदान के बीच का हिसाब है. इन मैचों के लिए ट्रैवल, जिम, नेट सेशन, फील्डिंग-कैचिंग ड्रिल्स, योग, स्विमिंग का समय का हिसाब करने पर साफ दिखेगा कि विराट के पास अपने शरीर को आराम का कितना समय रहा होगा.

फिर मैदान पर बतौर कप्तान टेंशन भी किसी भी बड़े खिलाड़ी को जेहनी तौर पर तोड़ने के लिए काफी है. इसमें कोई दोराय नहीं है कि विराट इस समय जबरदस्त फिट हैं. इस फिटनेस की बदौलत ही वह लगातार मशीन की तरह क्रिकेट खेल रहे हैं. भारतीय कप्तान के चाहने वालों ने उनका नाम रन मशीन भी रख दिया है.

बहुत व्यसत है बीसीसीआई का आगे का कार्यक्रम

पिछले दिसंबर बीसीसीआई ने फैसला किया कि 2019 से 2013 के दौरान पांच साल में खेल के दिनों को 390 से घटा कर 306 कर दिया जाएगा. इस फैसले में 2021 की चैपिंयस ट्रॉफी और 2023 के विश्व कप को शामिल नहीं किया गया है.

साथ ही बीसीसीआई में घर पर होने  वाले 51 मैचों की संख्या को बढ़ा कर 81 करने का फैसला किया है. फिर 50 दिनों के भीतर आईपीएल के 50 मैच भी हैं.

बीसीसीआई ने 2019-2023 में और ज्यादा टी-20 इंटरनेशनल खेलने पर अपनी मुहर लगा दी है. तो.. कुल मिला कर तस्वीर साफ है. खिलाड़ियों के लिए राहत इन पूरी योजनाओं में कहीं नहीं दिखाई देती.

विराट 29 साल के हैं और 2023 तक वह 34-35 साल में प्रवेश करेंगे. इस उम्र में फिटनेस पर उम्र भारी पड़नी शुरू हो जाती है. और कैरियर को लंबा खींचने के लिए क्रिकेटर को प्राथमिकताएं तय करनी पड़ती हैं. पांड्या ने कोहली को रास्ता दिखाया है.

Kolkata: Indian skipper Virat Kohli exults as he celebrates his century during the final day of the 1st cricket test match against Sri Lanka at Eden Gardens in Kolkata on Monday. PTI Photo by Ashok Bhaumik (PTI11_20_2017_000062B)

सभी जानकार दावा कर रहे हैं कि विराट ही हैं जो सचिन के सौ शतकों का रिकॉर्ड तोड़ेंगे. जिस तरह की बल्लेबाजी विराट कर रहे हैं, वह इस रिकॉर्ड के आसपास खड़े दिखाई दे रहे हैं. लेकिन वहां तक पहुंचने और भारतीय क्रिकेट के लिए जरूरी है कि विराट खुद को बचा कर रखें और यह आराम करने व बेमतलब की सीरीज से बाहर बैठने के फैसले से ही संभव हो सकता है.

बशर्ते उनके खुद के निजी व्यवसायिक करार और बीसीसीआई के बाकी देशों व टीवी प्रसारण अधिकार हासिल करने वाली कंपनी के बीच करार उन्हें ऐसा करने की इजाजत दें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi