S M L

डेब्यू में शतक लगाने के बाद भी दिग्गजों की कसौटी पर खरे नहीं उतरते शॉ!

शॉ ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में डेब्यू करते हुए एक मंझे हुए बल्लेबाज की तरह से बल्लेबाजी की और शतक बनाया

Updated On: Oct 07, 2018 05:40 PM IST

Bhasha

0
डेब्यू में शतक लगाने के बाद भी दिग्गजों की कसौटी पर खरे नहीं उतरते शॉ!

पृथ्वी शॉ भारत की तरफ से डेब्यू मैच में शतक जड़कर अपेक्षाओं पर पूरी तरह से खरा उतरे लेकिन पूर्व क्रिकेटरों का मानना है कि विदेशों की कड़ी चुनौतियों से निबटने के लिए इस किशोर बल्लेबाज को अपनी तकनीक में और सुधार करने की जरूरत है. शॉ ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में डेब्यू करते हुए एक मंझे हुए बल्लेबाज की तरह से बल्लेबाजी की और शतक बनाया. उन्होंने मजबूत आक्रमण का सामना नहीं किया लेकिन फिर भी यह करियर की शानदार शुरुआत रही.

बैकफुट पर जाकर लगाए गए उनके शॉट से वेस्टइंडीज के ऑलराउंडर कार्ल हूपर को कैरेबियाई क्रिकेट की याद आ गई लेकिन उनका मानना है कि शॉ की आक्रामक शैली और वर्तमान तकनीक के साथ इस 18 वर्षीय बल्लेबाज के लिए विदेशों की कड़ी परीक्षा में पास होना आसान नहीं होगा.

India's Prithvi Shaw celebrates after scoring a century (100 runs) during the first of the first Test cricket match between India and West Indies at the Saurashtra Cricket Association stadium in Rajkot on October 4, 2018.  / AFP PHOTO / INDRANIL MUKHERJEE / ----IMAGE RESTRICTED TO EDITORIAL USE - STRICTLY NO COMMERCIAL USE----- / GETTYOUT

पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज और 2003-04 के आस्ट्रेलिया दौरे में नई गेंद का अच्छी तरह से सामना करने वाले आकाश चोपड़ा की राय शॉ की तकनीक को लेकर भिन्न है. उनका भी मानना है कि शॉ को अपने खेल में पैनापन लाने की जरूरत है लेकिन उन्होंने कहा कि अगर वीरेंद्र सहवाग अपरंपरागत तरीके से सफल हो सकता है तो फिर यह किशोर खिलाड़ी भी उसके साथ सफलता हासिल कर सकता है.

चोपड़ा ने कहा, ‘हमने अभी जो देखा वह अभी केवल ट्रेलर है. वह काफी प्रतिभावान लग रहा है. आप इसमें विपक्ष और पिच के सपाट होने जैसे नुक्स नहीं निकाल सकते हो. लेकिन उसकी परीक्षा विदेशों में होगी और मुझे विश्वास है कि वह इससे अवगत होगा.’

उन्होंने कहा, ‘‘अभी एक दो चीजें और मुझे पूरा विश्वास है कि वह इन पर काम रहा होगा. इनमें से एक उनका मूवमेंट है जो कि अभी आईपीएल से भिन्न लग रहा है. मैं बहुत चिंतित नहीं हूं. उसने शानदार शुरुआत की थी.’ शॉ को बहुत करीब से देखने वाले मुंबई के अमोल मजूमदार का मानना है कि अभी इस युवा बल्लेबाज की तकनीक को लेकर टिप्पणी करना सही नहीं होगा और इसके लिए उनके विदेशों में खेलने तक इंतजार करना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi