S M L

बिहार की टीम 18 साल बाद रणजी ट्रॉफी में खेलेगी

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार क्रिकेट टीम का रणजी ट्रॉफी में खेलने का रास्ता साफ कर दिया है

Updated On: May 01, 2018 06:01 PM IST

FP Staff

0
बिहार की टीम 18 साल बाद रणजी ट्रॉफी में खेलेगी

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को बिहार क्रिकेट टीम का रणजी ट्रॉफी में खेलने का रास्ता साफ कर दिया है. बिहार की टीम 18 साल बाद इस प्रतिष्ठित घरेलू टूर्नामेंट में भाग लेगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस साल सितंबर से सभी टूर्नामेंट में बिहार की टीम खेलेगी. इसके साथ ही बिहार की टीम का रणजी और दूसरे अन्य घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट में खेलने का रास्ता भी साफ हो गया है.

सुप्रीम कोर्ट क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार की याचिका पर सुनवाई कर रहा था, जिसमें भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के पदाधिकारियों पर अदालत की अवमानना का मामला चलाने की मांग की गई है. याचिका में कहा गया है कि चार जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि बिहार को भी रणजी व अन्य प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने की इजाजत दी जाए, लेकिन बीसीसीआई ने विजय हजारे ट्रॉफी और आईपीएल  में बिहार के खिलाड़ियों को शामिल नहीं किया.

इसके अलावा बीसीसीआई ने मंगलवार को संविधान का मसौदा सुप्रीम कोर्ट को सौंप दिया. सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्य क्रिकेट एसोसिएशनों और बीसीसीआई पदाधिकारियों से कहा कि अगर किसी को इस पर अपनी राय देनी है तो अगली सुनवाई से पहले एमिक्स क्यूरी (न्याय मित्र) गोपाल सुब्रमण्यम को दे दें. न्यायालय ने कहा कि संविधान के मसौदे को अंतिम रूप देना उसके पिछले फैसले को वापस लेने की मांग करने वाली याचिकाओं पर उसके आदेश पर निर्भर करेगा.

इसके साथ ही बुधवार को होने वाले महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन (एमसीए) के चुनाव अब 11 मई तक नहीं होंगे. शीर्ष अदालत ने कहा कि अगर एमसीए  ने संविधान आदेश के मुताबिक नहीं बनाया तो ये मान्य नहीं होगा. सुप्रीम कोर्ट अब 11 मई को अगली सुनवाई करेगा. सुप्रीम कोर्ट एक राज्य, एक वोट के फैसले पर फिर से विचार करने को तैयार है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जो राज्य क्रिकेट से जुड़े हैं और जिन्होंने ऐतिहासिक भूमिका निभाई है, उन्हें छोड़ा नहीं जा सकता.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi