S M L

रंगास्वामी ने कहा, डायना एडुल्जी को निशाना बनाने के लिए मुझे इस्तेमाल किया गया

पूरी प्रक्रिया के दौरान सीओए के मुखिया विनोद राय और एडुल्जी के बीच शाब्दिक जंग जारी रही

Updated On: Dec 21, 2018 10:07 PM IST

FP Staff

0
रंगास्वामी ने कहा, डायना एडुल्जी को निशाना बनाने के लिए मुझे इस्तेमाल किया गया

बीसीसीआई के कार्यवाहक कोषाध्यक्ष अनिरूद्ध चौधरी और प्रशासकों की समिति (सीओए) की सदस्य डायना एडुल्जी ने एक दिन पहले भारतीय महिला क्रिकेट कोच की चयन प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए सीओए प्रमुख विनोद राय को आड़े हाथों लिया था. लेकिन शुक्रवार को इस मामले ने नया रंग ले लिया. कोच चुनने वाली समिति की सदस्य पूर्व कप्तान शांता रंगास्वामी का मानना है कि महिला क्रिकेट का मसला उनकी पूर्व साथी डायना एडुल्जी को निशाना बनाने के लिए इस्तेमाल किया गया.

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की पहली कप्तान और भारत के लिए 16 टेस्ट और 19 वनडे खेल चुकीं 64 बरस की रंगास्वामी उस तीन सदस्यीय समिति में थीं जिसने डब्ल्यू वी रमन को भारतीय टीम का नया कोच चुना. पूरी प्रक्रिया के दौरान सीओए के मुखिया विनोद राय और एडुल्जी के बीच शाब्दिक जंग जारी रही. सुप्रीम कोर्ट से नियुक्त सीओए में कोच चयन प्रक्रिया को लेकर मतभेद थे. एडुल्जी पोवार को बनाए रखना चाहती थीं, जबकि राय ने बीसीसीआई के शीर्ष पदाधिकारियों को नए आवेदन मंगवाने के निर्देश दिए थे. पोवार के साथ मतभेद सार्वजनिक होने पर भारत की वनडे कप्तान मिताली राज ने एडुल्जी पर पक्षपात का आरोप लगाया था.

ये भी पढ़ें- महिला कोच चयन को लेकर सीओए प्रमुख पर बरसे चौधरी और एडुल्जी

साक्षात्कार की प्रक्रिया रोकने के लिए कहा था एडुल्जी ने 

एडुल्जी ने राय को पत्र लिखकर साक्षात्कार की प्रक्रिया रोकने के लिए कहा था. लेकिन भारत के पूर्व नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश बीएम श्रीकृष्णा से राय लेने के बाद साक्षात्कार प्रक्रिया जारी रखने की अनुमति दे दी. बीसीसीआई के कार्यवाहक कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी भी एडुल्जी के साथ थे और उन्होंने विनोद राय को आड़े हाथों लिया. चौधरी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की अगली सुनवाई 17 जनवरी को होनी है और इसलिए किसी तरह के कानूनी मामले से बचने के लिए बेहतर होता कि साक्षात्कार सुनवाई के बाद किए जाते.

अनिरूद्ध चौधरी भी एल्डुजी के साथ

बीसीसीआई के कार्यवाहक कोषाध्यक्ष अनिरूद्ध चौधरी ने सीओए प्रमुख विनोद राय को आड़े हाथों लिया था. सुप्रीम कोर्ट की अगली सुनवाई 17 जनवरी को होनी हैं और इसलिए कोषाध्यक्ष का कहना था कि किसी तरह के कानूनी मामले से बचने के लिए बेहतर होता कि कोच पद के लिए साक्षात्कार सुनवाई के बाद किए जाते.

रंगास्वामी ने किया एडुल्जी का समर्थन

एडुल्जी ने कहा कि रंगास्वामी ने उस ईमेल में उनका समर्थन किया है जो सीओए और बीसीसीआई सचिव अमिताभ चौधरी को भेजा गया. उन्होंने आरोप लगाया, ‘शांता रंगास्वामी ने हमें भेजे ईमेल में कहा है कि महिला क्रिकेट का मसला सीओए सदस्य पर हमला करने के लिए इस्तेमाल किया गया क्योंकि वह सीईओ के खिलाफ खड़ी हुई थी.’ एडुल्जी ने कहा कि महिला क्रिकेट का पूरा मसला बीसीसीआई सीईओ राहुल जौहरी पर लगे यौन उत्पीड़न के कथित आरोपों पर से ध्यान हटाने के लिए इस्तेमाल किया गया.

(भाषा के इनपुट के साथ)

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi