S M L

भारत-श्रीलंका दूसरा वनडे : रोहित के तीसरे दोहरे शतक के नाम रहा मोहाली वनडे

भारत ने श्रीलंका को 141 रन से धोया, सीरीज 1-1 से बराबर

FP Staff Updated On: Dec 13, 2017 09:06 PM IST

0
भारत-श्रीलंका दूसरा वनडे : रोहित के तीसरे दोहरे शतक के नाम रहा मोहाली वनडे

बुधवार को मोहाली में मैच देखने आए उन हजारों क्रिकेटप्रेमियों के पास भारत और श्रीलंका के बीच दूसरे वनडे में रोहित शर्मा के करियर के तीसरे दोहरे शतक की जो यादें होंगी उन्हें वे ताजिंदगी सहेजना चाहेंगे. रोहित का वनडे में खेलने का अंदाज किसी से छुपा नहीं है. लेकिन श्रीलंकाई टीम को धर्मशाला में अपने तेज गेंदबाजों के आगे नतमस्तक हुए भारतीय बल्लेबाजों से ऐसे पलटवार की उम्मीद शायद ही रही होगी. लेकिन उन्हें यूं ही हिटमैन नहीं कहा जाता. रोहित ने अपनी तूफानी पारी के दौरान 153 गेंदों में 12 छक्कों और 13 चौकों की मदद से नाबाद 208 रन बनाए जिससे भारत चार विकेट पर 392 रन का स्कोर खड़ा करने में सफल रहा.

श्रीलंका की टीम इसके जवाब में पूर्व कप्तान एंजेलो मैथ्यूज (नाबाद 111) के शतक के बावजूद लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल (60 रन पर तीन विकेट) और तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह (43 रन पर दो विकेट) के सामने आठ विकेट पर 251 रन ही बना सकी. मैथ्यूज ने 132 गेंद की अपनी पारी में तीन छक्के और नौ चौके लगाए. भारत ने इस एकतरफा मुकाबले में श्रीलंका को 141 रन से हराकर तीन मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर कर ली. भारत को धर्मशाला में पहले वनडे में सात विकेट से हार का सामना करना पड़ा था. तीसरा और निर्णायक मैच 17 दिसंबर को विशाखापट्ट्नम में खेला जाएगा.

रोहित के बल्ले से टूटे कई रिकॉर्ड 

रोहित के बल्ले से निकल रहे रनों के अंबार के बीच कई रिकॉर्ड टूटे. उन्होंने पिछला दोहरा शतक भी श्रीलंका के खिलाफ जड़ा था. रोहित ने पहला दोहरा शतक ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाया था. वनडे मैचों में यह रोहित की 150 रन से अधिक की पांचवीं पारी है, जिससे उन्हें महान भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और ऑस्ट्रेलिया के आक्रामक सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर के रिकॉर्ड की बराबरी की. रोहित ने इस साल छठी बार वनडे में 100 रन का आंकड़ा पार किया. बतौर कप्तान यह उनका पहला शतक है. रोहित ने अपना सैकड़ा 115 गेंद में पूरा किया और फिर अगले 100 रन सिर्फ 36 गेंद में पूरे किए.

पिछले दो दिन से यहां मौसम ठंडा था, लेकिन मैच से पहले धूप खिल गई और पिच से सारी नमी सोख ली. इससे बल्लेबाजों को स्ट्रोक्स खेलने में दिक्कतें नहीं आई. श्रीलंका ने धर्मशाला की ही तरह टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया, लेकिन जल्दी ही भारत ने मैच पर शिकंजा कस लिया. भारत का यह स्कोर इस मैदान पर वनडे में सर्वोच्च स्कोर है. इससे पहले दक्षिण अफ्रीका ने 2011 में नीदरलैंड के खिलाफ यहां पांच विकेट पर 351 रन बनाए थे.

दो शानदार साझेदारियां

पारी की शुरूआत करते हुए रोहित ने अपना समय लिया, क्योंकि शिखर धवन दूसरे छोर पर आक्रामक होकर खेल रहे थे. दोनों ने मिलकर 12वीं शतकीय साझेदारी करके बड़े स्कोर की नींव रखी. रोहित ने अपने साथी सलामी बल्लेबाज धवन (68) के साथ पहले विकेट के लिए 115 रन जोड़ने के अलावा श्रेयस अय्यर (88) के साथ दूसरे विकेट के लिए 213 रन की साझेदारी भी की. शिखर ने 69 गेंदों की अपनी पारी में नौ चौके लगाए. अपना दूसरा वनडे खेल रहे अय्यर ने रोहित का बखूबी साथ निभाते हुए 70 गेंद में नौ चौकों और दो छक्कों की मदद से 88 रन बनाए. उन्होंने रोहित को खुलकर खेलने का मौका दिया और खुद भी मौका मिलने पर उम्दा शॉट्स खेले. रोहित ने इस मैदान पर सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर का विराट कोहली का रिकॉर्ड भी तोड़ा, जिन्होंने पिछले साल न्यूजीलैंड के खिलाफ यहां 154 रन बनाए थे. चार गेंदों पर चार छक्के

रोहित और श्रेयस ने श्रीलंकाई गेंदबाजों को मैदान के चारों ओर पीटा. तेज गेंदबाज लकमल पूरी तरह से खराब फॉर्म में दिखे और उन्होंने कई नीची फुलटॉस गेंदें डाली जिन्हें रोहित ने आसानी से सीमारेखा के पार पहुंचाया. रोहित ने 43वें ओवर में लकमल को चार गेंदों पर चार छक्के लगाए और इस ओवर में कुल 26 रन बने. आखिरी दस ओवरों में भारत ने 147 रन बनाए जबकि तीन विकेट गिरे. तीनों विकेट कप्तान परेरा के खाते में गए जिन्होंने 80 रन देकर तीन विकेट चटकाए.

श्रीलंका की खराब शुरुआत लक्ष्य का पीछा करने उतरे श्रीलंका की शुरुआत खराब रही और टीम ने चौथे ओवर में ही उपुल थरंगा (07) का विकेट गंवा दिया. बुमराह ने इसके बाद दूसरे सलामी बल्लेबाज दनुष्का गुणतिलक (16) को विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के हाथों कैच कराके श्रीलंका का स्कोर दो विकेट पर 30 रन किया. पदार्पण कर रहे वाशिंगटन सुंदर (64 रन पर एक विकेट) ने लाहिरू तिरिमाने (21) को बोल्ड करके पहला अंतरराष्ट्रीय विकेट हासिल किया. चहल ने निरोशन डिकवेला (22) को सुंदर के हाथों कैच कराके पहला विकेट हासिल किया. चहल ने इसके बाद गुणारत्ने और तिसारा परेरा (05) को पवेलियन भेजा. धोनी ने गुणारत्ने को स्टंप किया जबकि परेरा का कैच लपका.

मैथ्यूज का शतक राहत भरा

श्रीलंका को अंतिम 10 ओवर में जीत के लिए 190 रन की दरकार थी. मैच में इस समय सिर्फ मैथ्यूज के शतक को लेकर ही रुचि बची थी और उन्होंने भुवनेश्वर कुमार (40 रन पर एक विकेट) पर दो रन के साथ 122 गेंद में शतक पूरा किया. वह इस पारी के दौरान वनडे में 5000 रन पूरे करने वाले श्रीलंका के 10वें बल्लेबाज बने.

(एजेंसी इनपुट के साथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi