S M L

ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन: कैसा होगा सायना-सिंधु का अगला दांव

क्वार्टर फाइनल में सायना का मुकाबला सुंग और सिंधु का ताइ जू यिंग से

Updated On: Mar 10, 2017 02:16 PM IST

Shirish Nadkarni

0
ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन: कैसा होगा सायना-सिंधु का अगला दांव

ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन में भारत की महिलाओं में दावेदारी मजबूत थी. वो अब भी मजबूत है. पुरुषों में अकेले खिलाड़ी एचएस प्रणॉय बचे थे. उन्होंने चीन के नंबर सात सीड ने सीधे गेम में हरा दिया.

नजरें महिलाओं में पुर्सला वेंकट सिंधु ने ठीक आधे घंटे में जीत दर्ज की. सायना ने भी अच्छा प्रदर्शन करते हुए मुकाबला जीता. इन तीनों मैचों को लेकर ज्यादा फिक्र की बात नहीं है. प्रणॉय को चीनी खिलाड़ी ने अपने सटीक खेल से परेशान किया. दूसरे गेम में तो ऐसा लगा कि मुकाबला हो ही नहीं रहा है. प्रणॉय हमेशा शटल का पीछा करते दिखाई दिए.

दोनों महिला खिलाड़ियों का मुकाबला उम्मीदों के मुताबिक था. उनके विपक्षी खिलाड़ी बैडमिंटन रैंकिंग के टॉप ब्रैकेट में नहीं थे. उनसे उम्मीद भी नहीं थी कि वे भारतीयों को परेशान कर पाएंगे.

सायना ने शुरुआती बढ़त लेने के बाद अपनी तन्मयता खोई. इसकी वजह से ही मैच थोड़ा मुश्किल बना लिया. उन्होंने 21 साल की विपक्षी खिलाड़ी को वापसी का मौका दिया. बल्कि उन्हें 13-12 की बढ़त भी लेने दी. एक समय स्कोर 17-17 था. आखिर भारत की 27 वर्षीय खिलाड़ी ने तीन लगातार अंक लेते हुए स्कोर 20-17 किया और फिर 21-18 से मैच जीत लिया.

इसके बाद सायना ने कोई मौका नहीं दिया और आराम से दूसरा गेम जीता. अब उनका मुकाबला कोरिया की तीसरी सीड सुंग जी ह्यून से होगा. 25 साल की कोरियाई खिलाड़ी के खिलाफ सायना का रिकॉर्ड 6-1 का है. उनके मां-बाप सुंग हैन कुक और किम यून जा दोनों ही बैडमिंटन खिलाड़ी थे. सुंग ने एकमात्र बार सायना को 2013 के डेनमार्क ओपन में हराया था, जब वो तीन गेम में जीती थीं.

यकीनन सुंग 2013 के मुकाबले अब बेहतर खिलाड़ी हैं. विश्व के टॉप टेन खिलाड़ियों के खिलाफ उनका रिकॉर्ड अच्छा है. दूसरी तरफ, सायना चोट से उबरकर आई हैं. ऐसी चोट, जो उनके करियर को खत्म करती दिखाई दे रही थी. इसके बावजूद सायना ने प्रीमियर बैडमिंटन लीग में दो महीने पहले हराया है. हालांकि वहां 11 पॉइंट फॉरमेट है, जो खेल को बिल्कुल अलग बना देता है.

21 साल की पीवी सिंधु ने 23 साल की दिनार दिया एयुस्टीन को आसानी से हराया. दो महिला खिलाड़ियों के बीच फर्क साफ दिखाई दे रहा है. सिंधु ने 4-4 की बराबरी के बाद लेमन ब्रेक तक 11-5 की बढ़त बना ली. वो हमेशा इंडोनेशियाई खिलाड़ी से आगे दिखाई दीं. पहला गेम 21-12 से जीता.

दूसरे में सब कुछ एकतरफा मामला था. सिंधु ने 9-0 की बढ़त ली. आसानी से जीतकर उन्होंने पहली बार ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप में दूसरी बाधा को पार करने में कामयाबी पाई. उन्हें अब टैलेंटेड ताइवानी खिलाड़ी ताइ जू यिंग से खेलना है, जो टॉप सीड हैं. उन्होंने स्पेन की कैरोलिना मरीन से टॉप खिलाड़ी का ताज छीना था. दुबई सुपर सीरीज ग्रैंड फाइनल्स से वो बेहतरीन फॉर्म में हैं.

पहले राउंड में ताइ को जापानी खिलाड़ी मिनात्सु मितानी के खिलाफ जूझना पड़ा. पहला गेम मशक्कत के बाद जीता. उसके बाद दूसरा गेम अच्छा रहा. सिंधु के खिलाफ उनका रिकॉर्ड 5-3 से का है. हालांकि पिछले छह मैचों में रिकॉर्ड बराबर है. इनमें से पांच मैच सीधे गेम में खत्म हुए हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi