S M L

तो इसलिए रवि शास्त्री बने टीम इंडिया के हेड कोच!

शास्त्री को कप्तान और खिलाड़ियों के साथ अच्छे संबंध का फायदा मिला!

FP Staff Updated On: Jul 12, 2017 10:25 AM IST

0
तो इसलिए रवि शास्त्री बने टीम इंडिया के हेड कोच!

आखिरकार काफी लंबे इंतजार और कई मोड़ों के बाद भारतीय क्रिकेट टीम को अपना नया कोच मिल गया है. कप्तान विराट कोहली की पसंद रवि शास्त्री 2019 वर्ल्डकप तक टीम इंडिया के कोच रहेंगे.

रवि शास्त्री के अलावा जहीर खान को टीम का बॉलिंग कोच बनाया गया है, वहीं भारतीय क्रिकेट की दीवार कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ को विदेशी दौरो के लिए बल्लेबाजी कोच नियुक्त किया गया है. यह फैसला सलाहकार समिति के नेतृत्व में हुआ. तो आपको बताते हैं कि क्यों रवि शास्त्री को टीम इंडिया का कोच बनाया गया है.

विराट कोहली की पहली पसंद- रवि शास्त्री के हक में सबसे बड़ी बात ये गई कि खुद कप्तान विराट कोहली उन्हें कोच के पद पर चाहते थे. दरअसल रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली का व्यक्तित्व एक सा है. दोनों की क्रिकेट को लेकर सोच बिलुकल एक जैसी है.

शास्त्री और कोहली को आक्रामक, बेखौफ और बिंदास अंदाज में क्रिकेट खेलना पसंद है. इन दोनों का ही फंडा विरोधियों के बारे में ज्यादा ना सोचते हुए अपनी ताकत पर भरोसा करना है. साथ ही रवि शास्त्री कप्तान विराट कोहली को खुली छूट देते हैं, पूरी आजादी देते हैं जिसका नमूना हम उनके टीम डायरेक्टर रहते हुए कई बार देख चुके हैं.

खिलाड़ियों के साथ अच्छे संबंध-  रवि शास्त्री जब टीम इंडिया के डायरेक्टर थे तो उस दौरान सभी खिलाड़ी उनकी तारीफ करते नहीं थकते थे. रवि शास्त्री की सबसे खास बात उनका दोस्ताना व्यवहार था. रवि शास्त्री हर खिलाड़ी के साथ दोस्त की तरह रहते थे, उनकी खामियों को एक दोस्त की तरह ही समझाते थे.

यही नहीं रवि शास्त्री खिलाड़ियों को विश्वास दिलाते थे कि वो चैंपियन हैं और खराब फॉर्म सिर्फ एक पारी से दूर हो सकती है. खिलाड़ियों में जोश को कैसे बढ़ाना है वो शास्त्री अच्छे से जानते हैं.

 रवि शास्त्री का अनुभव- अनिल कुंबले के इस्तीफे के बाद अब रवि शास्त्री को कोच बनना इसलिए भी सही है क्योंकि वो दो साल तक टीम इंडिया के साथ टीम डायरेक्टर के तौर पर रह चुके हैं.

वो टीम इंडिया की ताकत और कमजोरियों से अच्छी तरह वाकिफ हैं. रवि शास्त्री को पता है कि टीम के किस खिलाड़ी को मेहनत की जरूरत है. खिलाड़ियों के कमजोर पक्ष पर काम करने में उन्हें ज्यादा समय नहीं लगेगा.

 टीम डायरेक्टर के तौर पर अच्छा प्रदर्शन- शास्‍त्री अगस्‍त 2014 से जून 2016 तक टीम डायरेक्‍टर पद संभाल चुके हैं. 2014 में इंग्लैंड से 4-0 से टेस्ट सीरीज हारने के बाद रवि शास्त्री की अगुवाई में ही टीम इंडिया ने अंग्रेजों को वनडे सीरीज में मात दी.

इसके बाद 2015 वनडे वर्ल्ड कप और 2016 में टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया सेमीफाइनल तक पहुंची. साथ ही टीम इंडिया ने श्रीलंका को उसी के घर पर 23 साल बाद मात दी. पहला टेस्ट गंवाने के बाद टीम इंडिया श्रीलंका से 2-1 से टेस्ट सीरीज जीती. यही नहीं भारतीय टीम टी-20 सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को 3-0 से हराने में भी कामयाब रही.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi