S M L

इनसे मिलिए, ये हैं विराट कोहली का 'ट्रंप कार्ड'

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में बने मैन ऑफ द सीरीज

Updated On: Mar 28, 2017 02:03 PM IST

Lakshya Sharma

0
इनसे मिलिए, ये हैं विराट कोहली का 'ट्रंप कार्ड'

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को चौथे टेस्ट में 8 विकेट से हराकर बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी पर कब्जा जमा लिया. इस टेस्ट मैच में रवींद्र जडेजा के ऑलराउंडर खेल की बदौलत भारत सीरीज जीतने में कामयाब रहा. जडेजा ने इस मैच में 4 विकेट लेने के साथ ही पहली पारी में 63 रन की महत्वपूर्ण पारी खेली.

भारतीय टेस्ट टीम वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर वन है. भारतीय टीम इस समय शानदार प्रदर्शन कर रही है. इसका पूरा श्रेय आर अश्विन को मिला और मिलना भी चाहिए क्योंकि पिछले 2 साल में उनका प्रदर्शन शानदार रहा है.

लेकिन इस सफलता के पीछे एक खिलाड़ी का भी बहुत बड़ा हाथ है. उस खिलाड़ी का नाम है रवींद्र जडेजा. इंग्लैंड के खिलाफ आर अश्विन ने खुद माना था कि मेरी पूरी सफलता का पूरा श्रेय जडेजा को जाता है.

अश्विन से बेहतर जडेजा

अगर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा सीरीज में जडेजा के प्रदर्शन को देखें तो वह अश्विन से भी बेहतर है. जडेजा ने इस सीरीज में 4 मैचों में 25 विकेट लिए हैं वो भी 19 से कम की औसत से. अगर भारतीय टीम इस सीरीज में बनी हुई है तो उसका सबसे बड़ा कारण ही रवींद्र जडेजा हैं क्योंकि आर अश्विन इस सीरीज में उस तरह का प्रदर्शन नहीं कर पाए जिसकी उम्मीद हम क्रिकेट फैंस कर रहे थे.

 

खैर बात इसी सीरीज की नहीं है. पिछले कुछ सालों में जडेजा अपनी गेंदबाजी में जबरदस्त सुधार किया है. सीरीज दर सीरीज जडेजा का प्रदर्शन सुधर रहा है. पिछले 19 टेस्ट मैचों में उन्होंने 100 से ज्यादा विकेट लिए है. जडेजा की सबसे अच्छी बात ये है कि वह तेज गति से भी गेंद को टर्न करवा सकते हैं. विकेट टू विकेट गेंदबाजी करने में तो उनका कोई सानी नहीं है.

आसान नहीं था सफर

लेकिन जडेजा के लिए यह सब इतना आसान भी नहीं था. एक समय का जब आलोचक उनके ऊपर तीखी नजर लगाए बैठते थे. एक दो मैचों के खराब प्रदर्शन के बाद ही उन्हे टीम से बाहर करने की आवाज उठने लगती.

उनके ऊपर आरोप लगते रहे है कि अगर धोनी टीम के कप्तान न होते तो वह टीम में ही जगह नहीं बना पाते. कभी उनकी बल्लेबाजी पर सवाल उठते तो कभी उनकी गेंदबाजी पर. अगर सब कुछ सही रहा तो उनके लापरवाही भरे रवैये पर ही सवाल उठ जाते.

jadeja

जडेजा ने जब अपने इंटरनेशनल क्रिकेट की शुरुआत कि तो उन्हे एक डिफेंसिव गेंदबाज का दर्जा मिला. कहा गया कि ये टीम इंडिया का मुख्य गेंदबाज नहीं बन सकता. ये वह गेंदबाज है जो थोड़ी गेंदबाजी के साथ थोड़ी बहुत बल्लेबाजी कर लेता है. लेकिन पहले धोनी और विराट. इन दोनों को पता था कि जडेजा किस स्तर का खिलाड़ी है. हालांकि इनकी फील्डिंग की काबिलियत पर कभी किसी ने शक नहीं किया.

 धर्मशाला टेस्ट मैच के बाद रवींद्र जडेजा ने कहा कि'कुछ लोग कहते थे कि मैं टेस्ट के स्तर का खिलाड़ी नहीं हूं. ये प्रदर्शन उन लोगों के लिए एक जवाब है'.

लेकिन अब समय बदल चुका है. अब जडेजा के बिना भारतीय टीम की कल्पना भी नहीं की जा सकती. खासकर उप महाद्वीप. वनडे और टेस्ट मैचों में जडेजा कप्तान की पहली पसंद होते हैं.

भारत की पिचों पर वह सबसे खतरनाक गेंदबाज हैं. इनकी गेंदबाजी में विविधता लगतार बढ़ रही है. कोई भी बल्लेबाज उन्हे आसानी से नहीं खेल सकता क्योंकि सटीक और तेज गति से टर्न होती गेंद को खेलना किसी के लिए आसान नहीं हैं. तभी तो स्पिन के मास्टर माने जाने वाले एलिस्टर कुक, माइकल क्लार्क, हाशिम अमला और स्टीवन स्मिथ को उन्होंने कई बार आउट किया.

विदेश में खराब प्रदर्शन पर उठे सवाल

अब लोगों का तर्क हो सकता है कि विदेशी पिचों पर उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहता. उन्हे विदेश में जितने भी मौके मिले उसमे वह प्रभावित करने में नाकाम रहे.

इन लोगों का मतलब है कि इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और साउथ अफ्रीका में जडेजा बेहतर गेंदबाज नहीं हैं. अब शायद इन लोगों को यह नहीं पता कि इन देशों में तो अनिल कुंबले, हरभजन सिंह और अश्विन जैसे गेंदबाजों का प्रदर्शन फीका रहा था. आपको रिकॉर्ड्स से बताते है कि इन महान गेंदबाजों का विदेशों में कैसा प्रदर्शन रहा है.

भारत के सबसे सफल गेंदबाज अनिल कुंबले का विदेशों में औसत 35 से ऊपर का है. हरभजन सिंह का यहीं औसत करीब 39 के करीब का है. वहीं आर अश्विन का विदेशों में औसत करीब 34 का है. हालांकि जडेजा का औसत 41 का है लेकिन उन्होने अभी भारत के बाहर केवल 8 टेस्ट मैच खेले है. जिसके दम पर हम उनकी क्षमता पर सवाल नहीं उठा सकते.

हमे यह भी नहीं भूलना चाहिए कि जडेजा अभी युवा हैं. अनुभव के साथ उनके प्रदर्शन में और निखार आएगा. और गेंदबाजी के साथ कई मौकों पर उन्होने बल्लेबाजी से भी टीम इंडिया को मुश्किल से निकाला है इसलिए ये मान लेना चाहिए कि कम से कम भारत में तो वह भारतीय टीम की रीढ़ की हड्डी है

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi