S M L

टेस्ट क्रिकेट को अपने सब्र का इम्तिहान मानते हैं युवा राशिद खान

उन्होंने ने कहा , ‘यह सब्र का इम्तिहान होगा. इस बात की भी संभावना है कि मुझे विकेट ही नहीं मिले

Bhasha Updated On: Jun 05, 2018 09:00 AM IST

0
टेस्ट क्रिकेट को अपने सब्र का इम्तिहान मानते हैं युवा राशिद खान

ताबड़तोड़ क्रिकेट के शहजादे अफगानिस्तान के लेग स्पिनर राशिद खान भारत के खिलाफ अपने देश के पहले टेस्ट क्रिकेट मैच में ‘सब्र के इम्तिहान’ के लिए तैयार हैं. अफगानिस्तान का यह ऐतिहासिक पहला टेस्ट 14 जून से बेंगलुरु में रैंकिंग में शीर्ष पर काबिज भारतीय टीम से होगा जिसके लिए 19 साल के राशिद पूरी तरह तैयार हैं.

राशिद ने कहा , ‘टेस्ट क्रिकेट वनडे और टी 20 खेलने से बहुत ज्यादा अलग नहीं है. मुझे चार दिवसीय मैचों में जब भी मौका मिला मैंने अच्छा प्रदर्शन किया. अगर मैं टेस्ट मैच के बारे में सोच कर अपनी गेंदबाजी में बदलाव करूंगा तो यह मेरे लिए सही नहीं होगा. मैं उसी रफ्तार से गेंदबाजी करूंगा जिससे अब तक करता रहा हूं.’

सब्र रखकर खेलना होगा जरूरी

उन्होंने कहा , ‘मुझे यह सुनिश्चित करना होगा कि मैं सब्र रखूं. मुझे पता है ऐसा भी समय होगा जब मुझे 20 ओवर तक कोई विकेट नहीं मिलेगा. और ऐसा भी हो सकता है कि मुझे दो ओवर में दो विकेट मिल जाए. यही टेस्ट क्रिकेट है.’

उन्होंने ने कहा , ‘यह सब्र का इम्तिहान होगा. इस बात की भी संभावना है कि मुझे विकेट ही नहीं मिले.’

राशिद पिछले एक साल से अपने देश नहीं गए है और हाल ही में उन्होंने आतंकवादी हमले में अपने एक दोस्त को खोया है. वह अपने देश के लोगों के लिए मैदान में सही सोच के साथ उतरना चाहते हैं.

उन्होंने कहा , ‘मैं एक साल से घर नहीं गया हूं. मुझे अपने परिवार और दोस्तों की काफी कमी महसूस होती है. वहां धमाके की खबरों से मुझे काफी दुख होता है. आईपीएल के दौरान भी मेरे गृहनगर में धमाका हुआ. मैंने उसमें अपने एक दोस्त को खो दिया. मैं काफी दूखी हूं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi