S M L

Ranji Trophy 2018-19: ठीक से सांस नहीं ले पा रहे बेटे को पवेलियन भेजने के लिए पिता को बनानी पड़ रही रणनीति

दिल्‍ली में मुंबई और रेलवे के बीच रणजी ट्रॉफी का मैच खेला जा रहा है और मुंबई के सिद्धेश लाड ने आक्रामक पारी खेली

Updated On: Nov 02, 2018 12:44 PM IST

Bhasha

0
Ranji Trophy 2018-19: ठीक से सांस नहीं ले पा रहे बेटे को पवेलियन भेजने के लिए पिता को बनानी पड़ रही रणनीति
Loading...

किसी पिता के लिए बेटे को आउट करने की रणनीति बनाना मुश्किल काम हो सकता है, लेकिन रेलवे क्रिकेट टीम के पर्यवेक्षक दिनेश लाड को मुंबई के खिलाफ रणजी ट्रॉफी के पहले दिन बेटे सिद्धेश लाड को पवेलियन भेजने की योजना बनानी पड़ी. रोहित शर्मा के बचपन के कोच के तौर पर पहचाने जाने वाले पश्चिमी रेलवे के पूर्व खिलाड़ी दिनेश को रेलवे ने अपनी सीनियर टीम का पर्यवेक्षक नियुक्त किया है.

दिल्‍ली के करनैल सिंह स्टेडियम में खेले जा रहे मैच के बारे में दिनेश ने पीटीआई से कहा कि मुझे मैच शुरू होने से एक दिन पहले ही बताया गया कि मैं इस सत्र में रेलवे का पर्यवेक्षक रहूंगा. मुझे अभी तक नियुक्ति पत्र भी नहीं मिला है.

जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्होंने रेलवे के गेंदबाजों को सिद्धेश को आउट करने के लिए कोई सलाह दी है तो उन्होंने हंसते हुए कहा कि किसी पिता के लिए यह काफी मुश्किल काम है. मुझे अपनी टीम के बारे में सोचना है और उसी समय एक पिता के तौर पर भी. मैं नहीं चाहूंगा की मेरे बेटा असफल हो.

उन्होंने कहा कि यह पहली बार नहीं है कि उन्हें ऐसी स्थिति का सामना करना पड़ रहा है. टाइम्स शील्ड टूर्नामेंट के दौरान मैं पश्चिमी रेलवे का कोच था जबकि सिद्धेश भारतीय तेल निगम के लिए खेलता था.

इस मैच में बल्लेबाजी करने उतरे सिद्धेश प्रदूषण से बचने के लिए मास्क लगाए दिखे. दिल्ली के प्रदूषण से निपटने के लिए लंच के बाद सद्धेश ने बल्लेबाजी करते समय काले प्रदूषण रोधी मास्क के साथ बल्लेबाजी की. उनके साथ बल्लेबाजी कर रहे सूर्यकुमार यादव और रेलवे के क्षेत्ररक्षकों ने हालांकि बिना मास्क के लिए अपना खेल जारी रखा.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi