S M L

महज कांस्टेबल बनने के काबिल हैं हरमनप्रीत, फर्जी डिग्री ने छीनी डीएसपी की वर्दी

पंजाब पुलिस इस मसले पर अगर एफआईआर दर्ज कराए तो महिला टीम इंडिया की कप्तान का अर्जुन अवॉर्ड भी छिन सकता है

Updated On: Jul 10, 2018 02:23 PM IST

FP Staff

0
महज कांस्टेबल बनने के काबिल हैं हरमनप्रीत, फर्जी डिग्री ने छीनी डीएसपी की वर्दी
Loading...

फर्जी डिग्री के चलते विवाद में आई भारत की महिला टी20 टीम की कप्तान हरमनप्रीत को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ी है. पंजाब सरकार ने उनकी डिग्री की जांच के बाद इसे फर्जी पाते हुए उनसे डीएसपी की रैंक को छीन लिया है.

समाचार पत्र टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक पंजाब सरकार ने हरमनप्रीत को लिखा है, ‘आपकी एजूकेशन को अब 12वीं कक्षा तक ही माना जा सकता है लिहाजा पंजाब पुलिस के नियमानुसार आपको कांस्टेबल के तौर पर ही रखा जा सकता है.’

दरअसल इसी साल मार्च में हरमनप्रीत को पंजाब पुलिस में बतौर डीएसपी नियुक्त किया गया था और इसके लिए उन्होंने 2011 में मेरठ की चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री जमा कराई थी जो पुलिस वेरीफिकशन में फर्जी पाई गई है.

29 साल की हरमनप्रीत को अर्जुन अवॉर्ड भी मिल चुका है और अगर पंजाब पुलिस उनके खिलाफ इस मसले पर एफआईआर दर्ज कराती है तो यह अवॉर्ड  छिन सकता है. हालांकि पंजाब सरकार इस मूड में दिखाई नहीं दे रही है. खबर के मुताबिक सरकार के एक अधिकारी का कहना है, ‘वह एक इंटरनेशनल लेवल की खिलाड़ी हैं और उन्हें यह नौकरी खेल के मैदान पर उनके अचीवमेंट्स के मद्देनजर दी गई थी.’

वहीं हरमनप्रीत के मैनेजर की ओर से कहा गया है कि उन्हें अबतक पंजाब सरकार की ओर से कोई लिखित आदेश नहीं मिला है.

 

हरमनप्रीत पिछले साल महिला वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में धुंआधार बल्लेबाजी करने का बाद चर्चा में आई थीं. इसके बाद पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की निजी कोशिशों के बाद भारतीय रेलवे ने उन्हें कार्यमुक्त किया था जिसके बाद ही वह पंजाब पुलिस में डीएसपी की वर्दी पहन सकी थीं.

हरमनप्रीत ने हाल ही में इंग्लैंड की टीम लंकाशायर थंडर के साथ 2018 के सीजन के लिए करार किया है और वह 15 जुलाई को इंग्लैंड रवाना होने वाली हैं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi