S M L

तेंदुलकर की बराबरी करने के करीब है यह युवा बल्लेबाज

पृथ्वी शॉ ने अपने पहले ही दलीप ट्रॉफी मैच में बनाया शतक, पहले रणजी मैच में भी शतक जमाया था

Updated On: Sep 26, 2017 05:34 PM IST

FP Staff

0
तेंदुलकर की बराबरी करने के करीब है यह युवा बल्लेबाज

पृथ्वी शॉ का नाम सुना है? अगर क्रिकेट प्रेमी हैं, तो कैसे नहीं सुना होगा. वही पृथ्वी शॉ, जिसने करीब चार साल पहले 546 रन की पारी खेली थी. कई बार ऐसा होता है कि इस तरह का कमाल करने के बाद खिलाड़ी अपनी चमक नहीं बिखेर पाता. लेकिन कम से कम पृथ्वी के मामले में ऐसा नहीं हुआ है. चार साल बाद वो मास्टर ब्लास्टर के करीब हैं. जी हां, मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के.

पृथ्वी की उम्र अब वोटिंग अधिकार और ड्राइविंग लाइसेंस मिलने के करीब है. उनकी उम्र अब उसके भी करीब है, जहां वो सचिन तेंदुलकर की बराबरी पर खड़े दिखाई दे सकते हैं. मुंबई के इस बल्लेबाज ने लखनऊ में चल रही दलीप ट्रॉफी प्रतियोगिता में शतक जमाया है. शॉ का यह पहला दलीप ट्रॉफी मैच है. वह करियर के पहले रणजी ट्रॉफी मैच में भी शतक जमा चुके हैं. ऐसे में अगर उन्होंने ईरानी कप के पहले मैच में शतक जमाया, तो सचिन की बराबरी कर लेंगे. सचिन घरेलू क्रिकेट के इन तीनों फॉर्मेट के अपने पहले मैच में शतक जमाने वाले अकेले खिलाड़ी हैं.

जिस दिन यानी मंगलवार को शॉ ने दलीप ट्रॉफी में शतक जमाया है, उस रोज उनकी उम्र 17 साल 320 दिन है. यानी 18 से महज 45 दिन कम. इससे पहले के दो फर्स्ट क्लास मैच में वह एक शतक और एक अर्ध शतक जमा चुके हैं.

WORCESTER, ENGLAND - AUGUST 02: Prithvi Shaw of India U19's looks on during day three of the Second Under 19s Youth Test Series between England and India at New Road on August 2, 2017 in Worcester, England. (Photo by Nathan Stirk/Getty Images)

लखनऊ में वह इंडिया रेड टीम का हिस्सा हैं. यहां उन्होंने इंडिया ब्लू के खिलाफ हो रहे फाइनल मैच के पहले दिन शतक जमाया है. दलीप ट्रॉफी के अपने पहले मैच में शतक जमाने वाले सबसे युवा बल्लेबाज भी बन गए हैं. दिनेश कार्तिक की कप्तानी वाली इंडिया रेड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की. शॉ ने अखिल हरवाडकर के साथ 74 रन जोड़े. उसके बाद सूर्य कुमार यादव के जल्दी आउट होने के बाद उन्होंने कप्तान दिनेश कार्तिक के साथ शानदार साझेदारी के साथ अपना शतक पूरा कर लिया.

शॉ ने इससे पहले इग्लैंड का दौरा किया था. यूथ वनडे में उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया था. यूथ टेस्ट में भी उनके तीन अर्ध शतक थे. ऐसे में मुंबई से एक और बड़ा बल्लेबाज मिलने की उम्मीद बंधी है. इसलिए भी, क्योंकि चार साल पहले बड़ा स्कोर करने के बाद पृथ्वी शॉ का करियर भटका नहीं है. वो लगातार सही रास्ते पर हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi