S M L

स्पॉट फिक्सिंग का गुनाह कबूलने के बाद कनेरिया के खिलाफ फिर शुरू हो सकती है जांच

इस हफ्ते बोर्ड के चेयरमैन एहसान मनी चर्चा करेंगे कि कनेरिया के खिलाफ जांच दोबारा शुरू की जानी चाहिए या नहीं

Updated On: Oct 21, 2018 04:27 PM IST

FP Staff

0
स्पॉट फिक्सिंग का गुनाह कबूलने के बाद कनेरिया के खिलाफ फिर शुरू हो सकती है जांच

साल 2012 में इंग्लिश काउंटी क्रिकेट को हिला देने वाले मैच फिक्सिंग मामले के छह साल बाद इसके मुख्य साजिश कर्ता और पाकिस्तान के पूर्व स्पिनर दानिश कनेरिया ने इस मसले पर अपना गुनाह कबूल कर लिया है. कनेरिया ने अल जजीरा की एक डॉक्युमेंट्री में यह कबूलनामा किया था.

इस वाकए के सामने आने के बाद इंग्लिश क्रिकेट बोर्ड ने कनेरिया पर आजीवन पाबंदी लगा दी थी जिसे बाकी देशों के क्रिकेट बोर्ड भी फॉलो करते हैं और उसके बाद कनेरिया कभी फर्स्ट क्लास क्रिकेट नहीं खेल सके. स्पाट फिक्सिंग में लिप्त होने की बात स्वीकार करने वाले प्रतिबंधित कनेरिया के खिलाफ पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) फिर नई जांच शुरू कर सकता है.

पीसीबी ने 2012 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के भ्रष्टाचार रोधी प्रोटोकोल का अनुकरण करते हुए कनेरिया पर आजीवन प्रतिबंध को पुष्ट किया. कनेरिया इंग्लिश काउंटी मैचों में स्पॉट फिक्सिंग और अन्य खिलाड़ियों को स्पॉट फिक्स करने के दोषी पाए गए थे. कनेरिया ने आजीवन प्रतिबंध के खिलाफ कई बार अपील की और इसमें हार गए. अब उन्हें इस मामले के लिए ईसीबी को 100,000 पाउंड का भुगतान भी करना है.

पीसीबी के विश्वस्त सूत्र ने कहा, ‘कनेरिया का स्पॉट फिक्सिंग की बात स्वीकार करना गंभीर मसला है और इस हफ्ते बोर्ड के चेयरमैन एहसान मनी अपनी कानूनी टीम तथा बोर्ड के भ्रष्टाचार रोधी और सतर्कता अधिकारियों से चर्चा करेंगे कि कनेरिया के खिलाफ जांच दोबारा शुरू की जानी चाहिए या नहीं क्योंकि अब उन्होंने भ्रष्टाचार में शामिल होने की बात स्वीकार कर ली है.’

(एजेंसी इनपुट के साथ)

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi