S M L

समय और अनुभव के साथ खुद को मजबूत बनाया: पंकज सिंह

पंकज सिंह घरेलू क्रिकेट में 400 से ज्यादा विकेट लेने वाले केवल चौथे तेज गेंदबाज हैं

Updated On: Jan 31, 2017 07:14 PM IST

Jigar Mehta

0
समय और अनुभव के साथ खुद को मजबूत बनाया: पंकज सिंह

आपको पंकज सिंह याद है? लंबे कद का गेंदबाज जो 2012 के इंग्लैंड दौरे पर भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट खेल चुका है. अपने पहले ही टेस्ट मैच में सबसे खराब आंकड़ों का रिकॉर्ड बनाने वाले पंकज को सबसे दुर्भाग्य गेंदबाज भी कहा गया.

पंकज को अपना पहला टेस्ट विकेट लेने के लिए 69 ओवर, 36 स्पैल और 415 गेंद का इंतजार करना पड़ा. पंकज ने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है. हाल के शानदार प्रदर्शन के बाद उनकी निगाहें फिर से भारतीय टीम में जगह बनाने पर है.

पंकज सिंह घरेलू क्रिकेट में 400 से ज्यादा विकेट लेने वाले केवल चौथे तेज गेंदबाज है.3 साल से भारतीय टीम से बाहर पंकज को टीम में जगह मिलने की पूरी उम्मीद है.

पंकज ने इस साल रणजी सीजन में 41 विकेट लिए हैं. 31 साल की उम्र में उनका प्रदर्शन और निखर रहा है. पंकज सिंह ने फ़र्स्टपोस्ट से अपने दिल की बात की.

फ़र्स्टपोस्ट- आपके क्रिकेट करियर की शुरुआत कैसे हुई?

जवाब- सभी युवाओं की तरह मैं भी गली में क्रिकेट खेलता था. 17 18 साल की उम्र में मैंने सोचा की मुझे क्रिकेट में ही करियर बनाना है. असद अहमद ने मुझे मुनवार अली से मिलवाया. जो मेरी जिंदगी का टर्निंग पॉइंट रहा.

फ़र्स्टपोस्ट- आपको कब अहसास हुआ कि आप इंटरनेशनल क्रिकेट खेल सकते हैं.

जवाब- मैं बेंगलुरु में प्रैक्टिस कर रहा था. मैं क्लब क्रिकेट से आया था और इंडिया ए की तरफ से राहुल द्रविड़ के साथ प्रैक्टिस कर रहा थे. मेरे साथ इरफान पठान और वसीम जाफर जैसे खिलाड़ी भी थे. उस समय मुझे लगा कि शायद मैं अच्छा कर रहा हूं. तभी इन खिलाड़ियों के साथ हूं. सभी ने उस वक्त मेरे हौंसला बढ़ाया.

agelo

फ़र्स्टपोस्ट- आपको 2007-08 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिली थी. आपको कैसा लगा था?

जवाब- मैं इंडिया ए की टीम में शामिल था, और सबसे ज्यादा विकेट मेरे नाम थे, प्रक्टिस मैच में भी मैंने अच्छी गेंदबाजी की थी. मेरी प्लानिंग के हिसाब से सब अच्छा चल रहा था. जब उस दौरे पर मुझे प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिली तो मुझे पहले बार बुरा लगा.जब आप एक बार टीम से बाहर हो जाते हो तो वापसी में बहुत समय लगता है.

फ़र्स्टपोस्ट- ऑस्ट्रेलिया दौरे से आपने कुछ खास सीखा?

जवाब- जी बिल्कुल, मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला.आप देश के बेस्ट 10 15 खिलाड़ियों के साथ अभ्यास करते है तो आप बहुत कुछ सीखते हैं. उस दौरे पर बहुत से विवाद हुए थे. और मैं वहां मौजूदा था. ये आपको मानसिक तौर पर भी मजबूत बनाता है.

फ़र्स्टपोस्ट- अपने पहले टेस्ट मैच के बारे में कहा कहेंगे?

जवाब- साल 2008-09 मेरे करियर का सर्वश्रेष्ठ समय था. उस समय सब कुछ सही चल रहा था. इस समय मेरा आत्मविश्वास भी चरम पर था. टेस्ट मैच खेलना मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा सपना था और वह इंग्लैंड में पूरा हुआ. मेरे सालों की मेहनत का फल मुझे मिला था. मेरे पहले टेस्ट मैच के बाद सबने बोला कि मैंने अच्छी गेंदबाजी की लेकिन नतीजा मेरे पक्ष में नहीं गया. उस समय मुझे खुद को समझाना था कि यहीं क्रिकेट है हर चीज आपके पक्ष में नहीं जाती. 15-20 मैचों में यह एक बार होता है लेकिन दुर्भाग्यवश मेरे पहले ही टेस्ट मैच में हो गया.

फ़र्स्टपोस्ट- खेल खत्म होने के बाद धोनी आपसे बात करते थे?

जवाब- जी हां, सिर्फ दिन खत्म होने बाद ही नहीं बल्कि मैच खत्म होने के बाद भी वह बात करते थे. उन्होंने कहा कि मैंने अच्छी गेंदबाजी की है. मैच के बाद भी उन्होंने मेरी तारीफ की थी. फील्ड पर भी उन्होंने कहा कि इतना आसान नहीं है, ये क्रिकेट है. धोनी ने मुझसे लगातार कहा कि मैं कोशिश करता रहूं.

फ़र्स्टपोस्ट- आप खुद को मोटिवेट कैसे करते हैं?

जवाब- जब भी मैं खुद को कमजोर महसूस करता हूं तो यही सोचता हूं कि अभी तक मेरे सपने पूरे नहीं हुए है. जैसा की महान एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा है कि सपने वह नहीं होते जो आप सोते वक्त देखते हैं, सपने वह होते हैं जो आपको सोने नहीं देते. मैं बस यही सोचता हूं कि मुझे फिर से भारतीय टीम में जगह बनानी है.

फ़र्स्टपोस्ट- आपको अब तक की सबसे बेस्ट सलाह क्या मिली है?

जवाब- धोनी ने मुझसे एक बार कहा था कि किस्मत कुछ नहीं होती. लोगों ने मेरे लिए अनलकी शब्द का उपयोग किया. धोनी ने मुझसे कहा कि आपको खुद की किस्मत खुद बनानी होती है. ये मेरे लिए सर्वश्रेष्ठ सलाह थी.

फ़र्स्टपोस्ट- पंकज सिंह की भविष्य की क्या प्लानिंग है?

जवाब- मेरा पूरा ध्यान अभी भारतीय टीम में फिर से जगह बनाने पर है और मैं इसके लिए कड़ी मेहनत कर रहा हूं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi