S M L

आज का दिन: दो साल पहले की उस आखिरी गेंद को शायद ही भूल पाए होंंगे भारत और बांंग्‍लादेश के लोग

भारत में 2016 में हुए टी 20 वर्ल्ड कप में बांग्लादेश को भारत ने 1 रन से हराया था

Updated On: Mar 23, 2018 12:50 PM IST

Kiran Singh

0
आज का दिन: दो साल पहले की उस आखिरी गेंद को शायद ही भूल पाए होंंगे भारत और बांंग्‍लादेश के लोग

अगर 2016 टी 20 वर्ल्ड कप से पहले देखा जाए तो भारत और बांग्लादेश के बीच खेला लाने वाले मैच एक तरफा ही रहे है, लेकिन 2016 के बाद से दोनों देशों के बीच खेले गए ज्यादातर मैच हाई वोल्टेज मैच रहा, जिसकी कड़ी शुरू हुई थी 23 मार्च 2016. भारत में हुए टी 20 वर्ल्ड कप में सुपर 10 में जब दोनों टीमें आमने सामने हुई थी तो माना जा रहा था कि मैच भारत के पक्ष में एक तरफा होगा, लेकिन इस मैच को मेजबान भारत ने एक रन से जीता और इस मैच ने हर उन दर्शकों की सांसों को कुछ पल में लिए अटका दिया था, जिन्हें क्रिकेट शायद अधिक पसंद न हो.

  जीत के करीब पहुंच गई थी बांग्लादेश

पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने निर्धारित ओवर में सात विकेट पर 146 रन बनाए. लक्ष्य का पीछा करने उतरी बांग्लादेश की टीम से भले ही तमीम इकबाल 35 के अलावा कोई खिलाड़ी बड़ी पारी नहीं खेल पाया, लेकिन पूरी टीम के सहयोग से बांग्लादेश मेजबान को चुनौती देने के काफी करीब पहुंच गई थी. 17 ओवर तक बांग्लादेश ने 120 रन बना लिए थे और अब उसे जीत के लिए 18 गेंदों पर 27 रन की जरूरत थी और अभी भी उसके हाथ में पांच विकेट थे.

  18 ओवर में दो चौके और एक विकेट

19 ओवर की दूसरी गेंद पर सौम्य सरकार ने आशीष नेहरा की गेंद पर चौका लगाया और पांचवीं गेंद पर कप्तान कोहली के हाथों कैच आउट हो गए. ओवर की आखिरी गेंद पर महमूदुल्लाहा ने चौका लगाया और अब बांग्लादेश को चाहिए थे 12 गेंद पर 17 रन, देखने में लग रहा था कि बांग्लादेश इस मैच को अपने नाम कर लेगाा.

19 वें ओवर में छह रन जोड़े

19 वें ओवर में भारत को कोई सफलता नहीं मिली, जसप्रीत बुमराह के इस ओवर में महमूदुल्लाहा ने संभलते हुई बल्लेबाजी की और हर गेंद पर सिंगल लेकर इस ओवर से छह रन जोड़े. अब बांग्लादेश को जीत के लिए 11 रन की जरूरत थी और गेंद बची पूरी छह, हाथ में विकेट भी चार थे. भारतीय खेमे में लगभग उदासी दिखने लगी थी.

अंतिम तीन गेंदों पर बदला खेल

आखिरी ओवर हार्दिक पांड्या को दिया गया, स्ट्राइक पर मौजूद थे महमूदुल्लाहा.

पहली गेंद: एक रन लिया, अब जीत के लिए 5 गेंदों पर 10 रन.

दूसरी गेंद: मुश्फिकुर रहीम ने चौका जड़ा और इसके बाद बांग्लादेश को चार गेंदों पर 6 रन बनाए थे.

तीसरी गेंद: रहीम ने एक ओर चौका जड़कर भारतीय टीम के लिए परेशानी खड़ी कर दी थी और अब बांग्लादेश को जीत के लिए तीन गेंदों पर सिर्फ दो रन चाहिए थे. दिखने में सभी को यह लक्ष्य आसान लग रहा था. यहां भारतीय टीम ने भी उम्मीद छोड़ दी, लेकिन कौन जाने अगली गेंद पर किसका नाम लिखा था.

चौथी गेंद: इस गेंद पर भारतीय टीम का नाम लिखा था. पांड्या की इस गेंद पर रहीम डीप मिड विकेट पर शिखर धवन के हाथों कैच आउट हो गए और अब बांग्लादेश को जीत के लिए 2 गेंद पर 2 रन बनाने थे. अगली गेंद पर हो सकता था कि बांग्लादेश चौका लगाकर या सिर्फ दो रन लेकर पूरा खेल ही खत्म कर दे.

indi vs ban 1

पांचवीं गेंद: महमूदुल्लाहा के मन में कुछ ऐसा ही चल रहा था, बड़ा शॉट खेलना चाहते थे और रविन्द्र जडेजा को अपना कैच थमा दिया. पारी और मैच की आखिरी गेंद. बांग्लादेश को जीत के लिए चाहिए थे दो रन और गेंद बची थी सिर्फ एक, यहां रन का कोई मौका नहीं छोड़ा जा सकता था. बड़ा शॉट खेलेंगे, अगर नहीं खेल पाए तो रन लेने के लिए तो भागेंगे जरूर, दो रन ना सही एक रन तो जरूर ही लेंगे. टीम ये बात बखूबी जानती थी, विकेटकीपर धोनी तैयार थे, अपने एक हाथ का ग्लव्स हटाकर, उन्हें मालूम था क्या करना है. नेहरा ने पांड्या को सलाह दी, रणनीति बनाई गई.

छठीं गेंद: स्ट्राइक पर मौजूद थे सुवाकटा, पांड्या नेे गेंद फेंकी, सुवाकटा ने गेंद हिट किया और रन लेने के लिए दौड़े, पीछे खड़े धोनी ने उससे कहीं ज्यादा तेजी से गिल्लियां उड़ा दी और यहां रहमान रन आउट हो गए. भारत ने इस मैच को एक रन से जीता था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi