S M L

आज का दिन, 21 मार्च : गावस्कर ने पहला शतक लगाकर दिखाई थी महानता की झलक

1971 के कैरेबियाई दौरे के तीसरे टेस्ट में सुनील गावस्कर ने लगाया था करियर का पहला शतक

Updated On: Mar 21, 2018 09:04 AM IST

Sachin Shankar

0
आज का दिन, 21 मार्च : गावस्कर ने पहला शतक लगाकर दिखाई थी महानता की झलक

एक समय ऐसा भी था जब वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम की दुनिया में तूती बोलती थी. वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाजों से दुनिया भर के बल्लेबाज खौफ खाते थे. हालांकि 37 साल पहले भारतीय टीम के कैरेबियाई दौरे ने क्रिकेट जगत को एक ऐसा बल्लेबाज दिया, जिनसे वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज खौफ खाने लगे थे. ये बल्लेबाज और कोई नहीं सुनील गावस्कर हैं, जिन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी.

1971 किया था डेब्यू

1971 में टीम इंडिया पांच टेस्ट मैच खेलने के लिए वेस्टइंडीज के दौरे पर गई थी. गावस्कर का सलामी बल्लेबाज के रूप में टीम में चयन हुआ. गावस्कर कद से छोटे थे तो ऐसे में वेस्टइंडीज के लंबे गेंदबाजों के सामने सफल हो पाएंगे या नहीं इसे लेकर सवाल उठ रहे थे. पहले टेस्ट मैच में गावस्कर को अंतिम एकादश में मौका नहीं मिला था. दूसरे टेस्ट में गावस्कर को पदार्पण का मौका मिला. अपने करियर के पहले टेस्ट में उन्होंने बखूबी कैरेबियाई पेस बैटरी का सामना किया. उछाल भरी पिच पर तेज गेंदबाजों के खिलाफ उनकी  बल्लेबाजी अविश्वसनीय थी. गावस्कर ने अपने पहले टेस्ट की दोनों पारियों में अर्धशतक लगाया था.

ये तो इस महान सलामी बल्लेबाज की प्रतिभा की नुमाइश भर थी. उनका असली रूप तो अभी दुनिया के सामने आना बाकी था. लेकिन इसके लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा. वेस्टइंडीज दौरे के तीसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में गावस्कर ने शतक ठोक दिया. ये उनके करियर का पहला शतक था. गावस्कर ने 11 चौकों के साथ 116 रन बनाए थे. वेस्टइंडीज की टीम पहले खेलते हुए 363 रन बना सकी थी. भारत ने गावस्कर के शतक से पहली पारी में 376 रन बनाकर 13 रन की बढ़त ले ली थी. मेजबान टीम ने दूसरी पारी 307 रन पर घोषित कर भारत को 295 रन का लक्ष्य दिया था. भारतीय टीम ने बिना विकेट खोए 123 रन बनाए और मैच ड्रॉ हो गया. गावस्कर ने दूसरी पारी में नाबाद अर्धशतक (64) लगाया.

वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज में बनाए 774 रन

गावस्कर का बल्ला यही नहीं रुकने वाला था. इस सीरीज में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली आठ पारियों में गावस्कर का स्कोर इस तरह 65,67,116,64,01,117,124,220 रहा. गावस्कर तीन बार नाबाद भी रहे. उन्होंने इस सीरीज में 774 रन बनाए. गावस्कर के खेल की बदौलत भारतीय टीम वेस्टइंडीज से सीरीज जीतने में कामयाब हुई थी. यह भारत की वेस्टइंडीज पर पहली जीत थी. भारत की ओर से किसी सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड गावस्कर के नाम ही दर्ज है. गावस्कर का करियर 1971 से लेकर 1987 तक चला. उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 125 मैचों में 51.12 के औसत से 10122 रन बनाए. उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 236 नाबाद था. गावस्कर ने इस दौरान 34 शतक भी बनाए. वह टेस्ट में 10 हजार रन बनाने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज थे.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi