live
S M L

बीसीसीआई ने फिर टाला क्रिकेटरों की वेतन वृद्धि का प्रस्ताव

बोर्ड की फाइनेंस कमेटी के चेयरमेन ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बोर्ड की आमदनी में खिलाड़ियों के शेयर के फॉर्मूले को फिर से निर्धारित करने की बात कही

Updated On: Oct 07, 2017 05:05 PM IST

FP Staff

0
बीसीसीआई ने फिर टाला क्रिकेटरों की वेतन वृद्धि का प्रस्ताव

बीसीसीआई ने क्रिकेटरों की फीस बढ़ाने के फैसले को एक बार फिर से टाल दिया है. शुक्रवार को बीसीसीआई की फाइनेंस कमेटी के चेयरमेन ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बोर्ड के कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी के प्रस्ताव को यह कह कर टाल दिया कि इसमें अभी और भी कई पहलुओं पर विचार करने की जरूरत है. जिसके बाद ही घरेलू स्तर पर क्रिकेटरों की आमदनी में बढ़ोत्तरी की जा सकती है.

अनिरुद्ध चौधरी ने टेस्ट और रणजी ट्रॉफी खेलने वाले ऐसे क्रिकेटरों के वेतन में बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव तैयार किया था जो आईपीएल के जरिए पैसा नहीं कमा पाते हैं.

इसके अलावा महिला क्रिकेटरों के वेतन में भी बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव था. अनिरुद्ध चौधरी के प्रस्ताव के मुताबिक महिला क्रिकेटरों के लिए भी तीन ग्रेड बना कर उन्हें 30 लाख, 15 लाख और 10 लाख रुपए के ग्रेड में बांटने की योजना थी. मौजूदा वक्त में महिला क्रिकेटरों को 10 लाख और 15 लाख के ग्रेड के हिसाब से ही पैसा मिलता है.

सिंधिया का तर्क था कि क्रिकेटरों के वेतन में बढ़ोत्तरी का फैसला खिलाड़ियों के ग्रॉस रेवन्यू शेयर (जीआरएस) यानी बीसीसीआई के लाभ में क्रिकेटरों के हिस्से में बढ़ोत्तरी करके ही किया जा सकता है जोकि इस वक्त 26 फीसदी है. या फिर जीआरएस के मानकों में बदलाव करके इन प्रस्तावों को मंजूरी दी जा सकती है. इसके अलावा महिला क्रिकेटरों के वेतन में बढ़ोत्तरी के लिए भी अलग से व्यवस्था करनी होगी.

महिला क्रिकेटरों को अभी जीआरएस के 26 फीसदी में से 1.3 हिस्सा ही मिलता है. और अगर इउनका शेयर बढ़ाया गया तो बाकी क्रिकेटरों का हिस्सा कम करना होगा. लिहाजा महिला क्रिकेटरों के भुगतान में बढोत्तरी के लिए किसी नए फॉर्मूले को ईजाद करना होगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi