S M L

क्रिकेट का नया फॉर्मेट :  टी-20 के बाद अब टी-10 मुकाबले का रोमांच

इस फॉर्मेट का पहला टूर्नामेंट शारजाह में खेला जा रहा है, जिसमें 10-10 ओवर के मैच खेले जाएंगे

Neeraj Jha Updated On: Dec 15, 2017 11:18 PM IST

0
क्रिकेट का नया फॉर्मेट :  टी-20 के बाद अब टी-10 मुकाबले का रोमांच

क्रिकेट में जारी है बदलाव और प्रयोग का दौर. जहां क्रिकेट ने डे-नाइट टेस्ट मैच और पिंक बॉल को अपनाया है. वही कई नए फॉर्मेट्स को अपनाने में भी आईसीसी को कोई दिक्कत नहीं रही है. इस दौड़ में लेटेस्ट है टी-10. हम टी-10 की बात तो खैर विस्तार से करेंगे, लेकिन पहले बात करते है कैसे क्रिकेट टेस्ट से वनडे और वनडे से टी-20 तक पहुंचा और अब 10 ओवर्स का क्रिकेट यानी टी-10.

टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत 15 मार्च, 1877 में हुई, लेकिन वनडे की शुरुआत करने में करीबन 90 साल लग गए.  5 जनवरी 1971 को ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर पहला मैच खेला गया था. हालांकि कैरी पैकर ने सत्तर के दशक के उत्तरार्द्ध में इस फॉर्मेट को एक नया आयाम दिया. उस समय उन्होंने वर्ल्ड सीरीज टूर्नामेंट कराया और पहली बार इन मैचों में रंगीन कपडे, वाइट बॉल, काले साइट स्क्रीन का प्रयोग किया गया. इन दिन-रात के मैचों को करने के लिए पहली बार क्रिकेट स्टेडियम्स में फ्लड लाइट्स भी लगाए गए. टेलीविजन की नई तकनीक की वजह से लोगो के बीच उस समय ये काफी लोकप्रिय रहा.

वर्ल्ड क्रिकेट में टी-20 का आगमन

2002 की बेंसन एंड हेजेज सीरीज के बाद इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड युवाओं और स्पांसर्स को लुभाने के लिए एक दिन का मैच कराना चाहता था. ईसीबी के एक आला अधिकारी स्टुअर्ट रॉबर्ट्सन ने 20 ओवर के मैच का विचार कमिटी के सामने रखा, जो बहुमत से पास हो गया, और इस तरह टी-20  शुरुआत हो गई. हालांकि अगले दो साल तक यह घरेलू और काउंटी क्रिकेट में ही जगह बना पाई. बढ़ती लोकप्रियता को आईसीसी ने भी 2005 में अपनाया और ऑकलैंड में पहली दफा न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहला अंतरराष्ट्रीय टी-20 खेला गया, तारीख थी 17 फरवरी.

बीसीसीआई ने इस फॉर्मेट का शुरुआत से ही विरोध किया था, लेकिन वो भी आखिरकार 2006 में साउथ अफ्रीका के साथ एक मैच खेलने को तैयार हो गए. उस मैच को तो जीता ही टीम इंडिया ने, लेकिन उसके बाद तो उन्होंने 2007 में वर्ल्ड टी-20 जीत कर दिखा दिया की वही टेवेंटी-ट्वेंटी के किंग हैं.

टी-10 ने भी बजाया बिगुल

टी-20 रोमांच के बाद अब टी-10 क्रिकेट की दुनिया में धूम मचाने को तैयार है. एक ऐसी लीग जिसमें 10-10 ओवर के मैच खेले जाएंगे. इस फॉर्मेट का पहला टूर्नामेंट शारजाह में खेला जा रहा है. इस लीग के फाउंडर शाजि-उल-हक की मानें तो उन्होंने ऐसा  सोचा था कि क्या टी-20 से भी कोई छोटा फॉर्मेट हो सकता है? इसके बाद उन्होंने टी-10 का आयोजन कराने के बारे में प्लान बनाया.

चार दिनों तक चलने वाले इस टूर्नामेंट में दुनिया के बड़े से बड़ा खिलाड़ी हिस्सा ले रहा है. शाहिद अाफरीदी, वीरेंद्र सहवाग, ऑइन मोर्गन, एलेक्स हेल्स, शोएब मलिक, मिस्बाह उल हक, मोहम्मद आमिर,  ड्वेन ब्रावो, कार्लोस ब्रेथवेट जैसे दिग्गज खिलाड़ी इस नए फॉर्मेट को लोकप्रिय बनाएंगे. इस टूर्नामेंट को टीसीएल (टेन क्रिकेट लीग) का नाम दिया गया है. इसमें कुल 6 टीमों के बीच 13 मुकाबले खेले जा रहे है. मैच सिर्फ 90 मिनट में ही खत्म हो जाएगा.

खेल के नियम और शर्ते

10 ओवर पर साइड - इनिंग्स के बीच में 10 मिनट का अंतराल

पहले 4 ओवर्स होंगे पॉवरप्ले ओवर्स

कोई भी बॉलर 2 ओवर से ज्यादा नहीं फेंक सकता

मैच को पूरा करने के लिए दूसरी इनिंग्स में कम से कम 5 ओवर का होना जरूरी

स्ट्रेटेजिक टाइम आउट हर इनिंग्स में 5वें ओवर के बाद

जीतने वाले को मिलेगा शानदार इनाम

इस टूर्नामेंट में सबसे दिलचस्प बात यह है कि शतक और अर्धशतक लगाने वाले बल्लेबाजों की किस्मत खुलने वाली है. इस मैच में जो क्रिकेटर सेंचुरी मारेगा उसे दुबई में करीब 85 लाख रुपए का एक स्टूडियो अपार्टमेंट मिलेगा और जो हाफ सेंचुरी मारेगा उसे ह्यूबलॉट की घड़ी मिलेगी. इस घड़ी की स्टार्टिंग कीमत 5 लाख से शुरू होती है.

मराठा अरेबियंस टीम के मालिक अली तुंबी का कहना है की वो किसी और टीम के बारे में नहीं कह सकते, लेकिन उनकी टीम में जो भी बल्लेबाज यह कारनामा करेगा उसे अपार्टमेंट इनाम में दिया जाएगा. ऐसे में मराठा अरेबियंस की ओर से खेल रहे इस लीग में एलेक्स हेल्स,  वीरेंद्र सहवाग,  इमाद वसीम और कामरान अकमल जैसे दिग्गज क्रिकेटर्स के पास दुबई में उपहार पाने का शानदार मौका है. भारत की तरफ से केवल वीरेंद्र सहवाग ऐसे क्रिकेटर हैं जो इस टूर्नामेंट का हिस्सा होंगे.

पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर इंजमाम उल हक पंजाबी लीजेंड्स टीम के को-ओनर हैं. वो पाकिस्तान क्रिकेट टीम के चीफ सेलेक्टर भी हैं. वहीं, मराठा अरेबियंस टीम के को-ओनर बॉलीवुड एक्टर सोहेल खान हैं.

टीमें

मराठा अरेबियंस- वीरेंद्र सहवाग (कप्तान)

पंजाबी लेजेंड्स- मिस्बाह उल हक (कप्तान)

बंगाल टाइगर्स- सरफराज अहमद (कप्तान)

केरल किंग्स- ऑइन मॉर्गन (कप्तान)

पख्तून- शाहिद आफरीदी (कप्तान)

टीम श्रीलंका - दिनेश चंडीमल

ओलंपिक्स के लिए सही साबित हो सकता है ये फॉर्मेट

पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग और इंग्लैंड के कप्तान ऑइन मोर्गन ने कहा है कि चार साल में होने वाले ओलंपिक्स के लिए टी-10 प्रारूप उपयुक्त रहेगा. अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए मशहूर सहवाग ने कहा कि जब हम ओलिंपिक में क्रिकेट की बात करते है तो उन्हें लगता है टी-10 ही सही प्रारूप होगा, क्योंकि मैच सिर्फ 90 मिनट में खत्म हो जाएगा. यह फुटबॉल मैच की तरह होगा और मैच के नतीजे भी आएंगे. अगर आईसीसी अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति से क्रिकेट के बारे में बात करती है तो उन्हें लगता है कि यह सही प्रारूप होगा.

क्रिकेट का यह नया रूप कितना लोकप्रिय होता वो तो टीवी रेटिंग्स और स्पोंसर्स के रुझान से ही पता चल पाएगा. फिलहाल इतना तो कहा जा सकता है की इस नए फॉर्मेट ने पूरे यूएई में धूम मचा दी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi