S M L

विजय ने कैसे की गावस्कर और सहवाग की बराबरी

मुरली विजय ने चौथे टेस्ट में खेली 136 रन की पारी

Updated On: Dec 10, 2016 01:29 PM IST

Lakshya Sharma

0
विजय ने कैसे की गावस्कर और सहवाग की बराबरी

भारत के भरोसेमंद ओपनर मुरली विजय ने मुंबई टेस्ट की पहली पारी में शतक लगा कर बता दिया कि क्यों वह पिछले 2 सालों से भारत के सबसे सफल ओपनर हैं. राजकोट टेस्ट में शतक में बनाने के बाद से विजय का बल्ला कुछ शांत हो गया था. चौथे टेस्ट की पहली पारी में मुरली विजय ने अपने टेस्ट करियर का आठवां शतक लगाया. 136 रन की शतकीय पारी में विजय ने 10 चौके और 3 छक्के लगाए. राजकोट टेस्ट में 126 रन बनाने के बाद वह अगली 4 पारियों में केवल 35 रन ही बना पाए थे. जिसके बाद से उन पर सवाल उठने लगे थे. लेकिन कप्तान विराट कोहली को विजय पर पूरा भरोसा था. चौथा टेस्ट मैच शुरू होने से पहले कोहली ने विजय की जमकर तारीफ की थी. मुरली विजय ने ना केवल अपने आलोचकों का मुंह बंद किया बल्कि अपने कप्तान के भरोसे को भी सही साबित किया. मुरली विजय की इस पारी की अहमियत हम इसी बात से लगा सकते है कि वानखेडे पर शतक लगाने वाले वह केवल तीसरे भारतीय ओपनर है. इससे पहले 1978 में सुनील गावस्कर ने 205, 2002 में वीरेन्द्र सहवाग ने 147 रन बनाए थे. मुरली विजय ने अपने शतक ने ना केवल भारतीय बल्लेबाजी की अच्छी नींव रखी बल्कि अपनी टीम को एक अच्छी स्थिति में भी पहुंचा दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi