S M L

ऑस्ट्रेलिया को क्यों जाना पड़ा श्रीराम की शरण में...

श्रीराम और मोंटी पनेसर भारत के खिलाफ सीरीज के लिए स्पिन कंसल्टेंट

Shailesh Chaturvedi Shailesh Chaturvedi Updated On: Jan 17, 2017 02:36 PM IST

0
ऑस्ट्रेलिया को क्यों जाना पड़ा श्रीराम की शरण में...

क्या दो भारतीय मिलकर ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम को भारत में जीत का मंत्र सिखाएंगे? कम से कम ऑस्ट्रेलिया को ऐसा ही लगता है. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने भारत दौरे के लिए दो भारतीयों की मदद लेने का फैसला किया है. एक, जो भारत के लिए खेला और दूसरा, जो भारतीय मूल का है.

भारत के लिए खेले श्रीधरन श्रीराम और इंग्लैंड के लिए खेले भारतीय मूल के मोंटी पनेसर की मदद ऑस्ट्रेलियन टीम ने लेने का फैसला किया है. इंग्लैंड के बाएं हाथ के स्पिनर मोंटी पनेसर और भारत के लिए वनडे खेले श्रीराम को स्पिन बॉलिंग कंसल्टेंट बनाया गया है.

ऑस्ट्रेलिया शायद पनेसर के 2012-13 में भारत के कामयाब दौरे का फायदा उठाना चाहता है. उस दौरे में पनेसर ने 17 विकेट लिए थे. दिलचस्प है कि उस दौरे में पनेसर ने बिशन सिंह बेदी से मदद मांगी थी. बेदी ने उन्हें कुछ टिप्स दिए भी थे. पनेसर ने भारत के तीन दौरे किए हैं और 28 विकेट लिए हैं.

दूसरी तरफ 40 साल के श्रीराम भारत के लिए 2000 से 2004 के बीच आठ वनडे खेले हैं. पिछले साल जब ऑस्ट्रेलियाई टीम टी 20 वर्ल्ड कप के लिए भारत और फिर श्रीलंकाई दौरे पर गई थी, तब भी श्रीराम उनके कोचिंग स्टाफ का हिस्सा थे. वह 29 जनवरी से दुबई में टीम के ट्रेनिंग कैंप का भी हिस्सा होंगे. ऑस्ट्रेलिया ने भारत दौरे से पहले दुबई में ट्रेनिंग कैंप की योजना बनाई है.

SRIDHARAN SRIRAM OF THE BOARD PRESIDENT'S X1 ON HIS WAY TO CENTURY DURING GAME AGAINST ENGLAND IN HYDERABAD. Board President's XI captain Sridharan Sriram (R) bats his way to a century watched by England wicketkeeper James Foster during a three-day game on the test tour in Hyderabad, November 23, 2001. England were all out for 320 and the Board President XI were 256 for two in reply at the close of play on the second day. REUTERS/Darren Staples - RTR14W05

ऑस्ट्रेलियन मीडिया में छपीं रिपोर्ट के मुताबिक पनेसर ब्रिस्बेन में सेंटर ऑफ एक्सिलेंस के प्रमुख होंगे. वह बाएं हाथ के स्पिनर स्टीव ओ’कीफ को भारत दौरे के लिए तैयार होने में मदद करेंगे. मैट रेनशॉ को भी उनसे मदद मिलेगी.

टीम परफॉर्मेंस मैनेजर पैट हावर्ड ने ऑस्ट्रेलियाई अखबार द ऑस्ट्रेलियन से कहा है कि श्रीराम हमारे खिलाड़ियों को बहुत अच्छी तरह जानते हैं. उनका भारतीय सरजमीं पर लंबा अनुभव है. ऐसे में वह अनुभव हमारे काम आएगा. ऑस्ट्रेलिया ने भारतीय सरजमीं पर 2004 के बाद कोई टेस्ट नहीं जीता है. उसे भारत दौरे पर चार टेस्ट खेलने हैं.

ऑस्ट्रेलिया ने अपने दल में चार स्पिनर चुने हैं. 23 फरवरी से ऑस्ट्रेलिया का भारत दौरा पुणे में शुरू हो रहा है. स्पिन दल में स्टीव ओ’कीफ के साथ एश्टन एगर, नैथन लायन और करियर का आगाज कर रहे मिचेल स्वेपसन हैं.

नैथन लायन ने भारत में तीन टेस्ट खेले हैं. नौ विकेट उनके हिस्से आए हैं. 37.33 औसत है, जो करियर औसत से कमजोर है. एश्टन एगर और स्टीव ओ’कीफ ने तो भारत में या भारत के खिलाफ कोई टेस्ट ही नहीं खेला ही नहीं हैं. ओ’कीफ ने श्रीलंका और यूएई में जरूर एक-एक टेस्ट खेला है. ऐसे में चारों स्पिनर्स का भारत की धरती या भारत के खिलाफ खेलने का अनुभव महज तीन टेस्ट का है. सवाल यही है कि इतने अनुभवहीन स्पिन आक्रमण को क्या पनेसर और श्रीराम चैंपियन में तब्दील कर पाएंगे?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi