S M L

टोक्यो ओलिंपिक से पहले वर्ल्ड रिकॉर्ड कायम करना चाहती हैं मीराबाई चानू

मणिपुर की 24 साल की मीराबाई के लिए डेढ साल में 10 किग्रा का सुधार करना आसान नहीं होगा

Updated On: Feb 12, 2019 10:42 PM IST

Bhasha

0
टोक्यो ओलिंपिक से पहले वर्ल्ड रिकॉर्ड कायम करना चाहती हैं मीराबाई चानू

चोट के बाद सफल वापसी करने वाली भारत की शीर्ष मीराबाई चानू को पता है कि अगर उन्हें तोक्यो ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतना है तो अपने प्रदर्शन में सुधार करने की जरूरत है. विश्व चैंपियनशिप 2017 में 48 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीतने वाली मीराबाई कमर की चोट के कारण आठ महीने तक टूर्नामेंटों में हिस्सा नहीं ले पाई. उन्होंने पिछले हफ्ते थाईलैंड में ईजीएटी कप में अपने नए 49 किग्रा वर्ग में गोल्ड मेडल जीता. वह 192 किग्रा वजन उठाकर शीर्ष पर रहीं. मीराबाई को हालांकि पता है कि अगर उन्हें अपने नए वजन वर्ग में दुनिया की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को चुनौती देनी है तो 200 किग्रा से अधिक वजन उठाना होगा.

मीराबाई ने कहा, ‘एक किग्रा वजन बढ़कर 48 से 49 किग्रा होने से अब सभी वेटलिफ्टिंग अपने कुल भार में इजाफा करने की कोशिश करेंगे. इसके अलावा 53 किग्रा में हिस्सा ले रहे कुछ वेटलिफ्टिंग अब 49 किग्रा वर्ग में आ जाएंगे. इसलिए अब प्रतिस्पर्धा अधिक कड़ी होगी.’

यह भी पढ़े- ICC T20 Ranking: टी20 में नंबर दो बल्लेबाज बनी 18 साल की जेमिमा रॉड्रिग्स

उन्होंने कहा, ‘मैं ट्रेनिंग के दौरान 199-200 किग्रा वजन उठा रही हूं और अगले कुछ महीनों में असल प्रतियोगिताओं में मुझे 200 किग्रा से अधिक वजन उठाने की उम्मीद है. मेरा लक्ष्य टोक्यो ओलिंपिक से पहले 210 किग्रा वजन उठाना है जो विश्व रिकॉर्ड होगा. यह आसान नहीं होगा लेकिन यह मेरा लक्ष्य है और मुझे पहले से अधिक कड़ी मेहनत करनी होगी.’ मणिपुर की 24 साल की मीराबाई के लिए डेढ साल में 10 किग्रा का सुधार करना आसान नहीं होगा. उनका 48 किग्रा में निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 196 किग्रा है जो उन्होंने पिछले साल गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान उठाया था. उन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप 2017 में 194 किग्रा के साथ स्वर्ण पदक जीता था.

mirabai chanu आईडब्ल्यूएफ ने पिछले साल ओलिंपिक और अन्य वैश्विक प्रतियोगिताओं के लिए पुरुष और महिला दोनों भार वर्गो में बदलाव किए थे. ओलिंपिक खेलों के महिला वर्ग में अब न्यूनतम वजन वर्ग 48 किग्रा से बढ़ाकर 49 किग्रा कर दिया गया है. तुर्कमेनिस्तान में 2018 विश्व चैंपियनशिप नए वजन वर्ग में हुई थी और गोल्ड सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाले खिलाड़ियों ने क्रमश: 209, 208 और 206 किग्रा वजन उठाया था. चौथे स्थान पर रहने वाली खिलाड़ी ने 201 किग्रा वजन उठाया था.

ये भी पढ़ें- थाईलैंड से रिहा हुए फुटबॉलर हाकीम पहुंचे मेलबर्न, लोगों से कहा शुक्रिया

मीराबाई ने कहा, ‘अगर मुझे स्वयं को टोक्यो ओलिंपिक के गोल्ड मेडल की दौड़ में बनाए रखना है तो 209 किग्रा से अधिक वजन उठाना होगा. एशियाई चैंपियनशिप (अप्रैल में चीन में) और 2019 विश्व चैंपियनशिप (सितंबर में थाईलैंड में) मुझे ऐसा करने का मौका देगी क्योंकि दुनिया की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी वहां होंगी.’

उन्होंने कहा, ‘मैं ऐसा कर सकती हूं लेकिन इसके लिए मुझे पहले से अधिक कड़ी मेहनत करनी होगी. मैं 209 किग्रा का विश्व रिकार्ड तोड़ना चाहती हूं.’ टोक्यो ओलिंपिक 2020 में महिला वर्ग में सात भारत वर्ग होंगे जिसमें 49 किग्रा, 55 किग्रा, 59 किग्रा, 64 किग्रा, 76 किग्रा, 87 किग्रा और 87 किग्रा से अधिक शामिल हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi