S M L

जानिए कौन-कौन देखेगा बीसीसीआई में कामकाज

चार सदस्य देखेंगे कामकाज, जिनमें एक महिला क्रिकेटर शामिल

Updated On: Jan 31, 2017 08:01 AM IST

FP Staff

0
जानिए कौन-कौन देखेगा बीसीसीआई में कामकाज

सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व सीएजी विनोद राय, रामचंद्र गुहा, विक्रम लिमये और डायना एडुल्जी को क्रिकेट प्रशासन संभालने की जिम्मेदारी दी है. क्रिकेट प्रेमियों को जानना चाहिए कि आखिर ये चार हैं कौन और इन्होंने जीवन में क्या कुछ किया है. इस पर नजर डालते हैं.

विनोद राय

भारत के 11वें सीएजी विनोद राय ने सात जनवरी 2008 से 22 मई 2013 तक ये जिम्मेदारी संभाली थी. अभी वो रेलवे कायाकल्प काउंसिल के सदस्य हैं. सीएजी रहते हुए विनोद राय ने तमाम सरकारी विभागों को लेकर ऐसी रिपोर्ट तैयार कीं, जो इन विभागों के लिए मुश्किलें लाने वाली थीं. कॉमनवेल्थ खेलों और टूजी मामले पर भी उन्होंने रिपोर्ट तैयार की थीं.

डायना एडुल्जी

पूर्व महिला टेस्ट क्रिकेटर डायना एडुल्जी को महिला क्रिकेट का कपिल देव कहा जाता था. हालांकि उन्होंने कपिल देव से पहले अपना क्रिकेट करियर शुरू किया था. मुंबई में जन्मीं डायना टेनिस बॉल से क्रिकेट, बास्केटबॉल और टेबल टेनिस खेलते-खेलते क्रिकेट की ओर आकर्षित हुईं. डायना बाएं हाथ की स्पिनर रही हैं. घरेलू क्रिकेट में डायना रेलवे के लिए खेलती थीं.

उन्होंने पहला टेस्ट 1976 में खेला था. 1978 में वो कप्तान बनीं. डायना ने 20 टेस्ट में 63 विकेट लिए. 34 वनडे में 46 विकेट उनके नाम रहे. डायना को अर्जुन अवॉर्ड और पद्म श्री से सम्मानित किया जा चुका है. दिलचस्प है कि बीसीसीआई के कामकाज के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सिर्फ एक महिला क्रिकेटर को रखने का फैसला किया है. महिला क्रिकेट को लेकर बीसीसीआई का रवैया हमेशा दूसरे दर्जे के नागरिक जैसा रहा है.

रामचंद्र गुहा

New Delhi :**combo**(clockwise) Ex-women cricket captain Diana Edulji, IDFC official Vikram Limaye, ex CAG Vinod Rai and Historian Ramachandra Guha. Members of the 4 member-committee of administrators appointed by SC to run BCCI.PTI Phot/FILE (PTI1_30_2017_000134B)

इतिहासकार रामचंद्र गुहा तमाम मुद्दों पर लिखते हैं. इनमें क्रिकेट भी शामिल है. खासतौर पर उनकी किताब 'अ कॉर्नर ऑफ अ फॉरेन फील्ड : द इंडियन हिस्ट्री ऑफ अ ब्रिटिश स्पोर्ट' काफी चर्चित रही है. 'द स्टेट्स' और 'इंडियन क्रिकेट' भी उन्होंने लिखी है. हालांकि इतिहासकार और प्रशासक होने में फर्क है. देखना होगा कि नई जिम्मेदारी वो किस तरह निभाते हैं.

विक्रम लिमये

आईडीएफसी लिमिटेड के महानिदेशन विक्रम लिमये ने प्रोफेशनल करियर 1987 में शुरू किया था. उन्होंने चार्टर्ड अकाउंटेंसी का काम शुरू किया. सिटी बैंक से जुड़े. फिर एमबीए करने 1994 में अमेरिका चले गए. उन्होंने आठ साल अमेरिका में इनवेस्टमेंट बैंकिंग, कैपिटल मार्केट वगैरह के लिए काम किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi