S M L

आखिर बीसीसीआई से क्यों नाराज हैं नॉर्थ-ईस्ट के क्रिकेट संघ!

मणिपुर क्रिकेट संघ में बोर्ड को चिट्ठी लिखकर सुप्रीम कोर्ट में बोर्ड के वकील की दलीलों पर जताया ऐतराज

Updated On: May 08, 2018 09:22 AM IST

Bhasha

0
आखिर बीसीसीआई से क्यों नाराज हैं नॉर्थ-ईस्ट के क्रिकेट संघ!
Loading...

सुप्रीम कोर्ट बीसीसीआई के मामले की सुनवाई ने मणिपुर क्रिकेट संघ को बीसीसीसआई से नाराज कर दिया है. दरअसल बोर्ड के अधिवक्ता पुनीत बाली की पूर्वोत्तर राज्यों के खिलाफ कथित ‘अपमानजनक टिप्पणी’ से नाराज मणिपुर क्रिकेट संघ ने बीसीसीआई को पत्र लिखकर बोर्ड को आगाह किया है कि वह अपने वकील को अनुचित टिप्पणी करने से रोके.

मणिपुर क्रिकेट संघ के सचिव सिंगम प्रियनंद सिंह ने बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी को पत्र लिखकर कहा, ‘पुनीत बाली की टिप्पणी से पीड़ा पहुंची है और इससे संबंधित संघों में ही नाराजगी नहीं है बल्कि इससे पूर्वोत्तर की क्रिकेट प्रेमी जनता की भावनाएं भी आहत हुई हैं विशेषकर एनएडीपी राज्यों की. ’

प्रियनंद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में बाली की दलीलों की सामग्री और लहजा नस्लीय रूप से पक्षपाती था.

प्रियनंद ने लिखा, ‘ यह काफी हैरानी भरा है कि अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नगालैंड और सिक्किम के भी बीसीसीआई का सदस्य होने के बावजूद, एक राज्य एक वोट के मसले पर  में बीसीसीआई का प्रतिधित्व कर रहे वकील को पांच पूर्वोत्तर - एनएडीपी राज्यों के हितों के विपरीत दलीलें देते सुना गया जो नस्लीय रूप से पक्षपाती सामग्री और लहजे के करीब थी.

पूर्वोत्तर के राज्यों को इस साल से कैसे भारत के घरेलू क्रिकेट में शामिल किया जाए इस पर बीसीसीआई में मतभेद हैं. तकनीकी समिति ने इसकी मंजूरी दे दी है और शायद रणजी ट्राफी सेकेंड डिविजन बनाया जाएगा जिसमें पूर्वोत्तर राज्य और बिहार हिस्सा लें.

प्रियनंद ने आरोप लगाया कि बीसीसीआई का वकील होने के बावजूद बाली सुप्रीम कोर्ट में जो दलीलें दे रहे थे वे पूर्वोत्तर राज्यों को उनके अधिकारों से वंचित करने के इरादे से थीं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi