S M L

ओपनर की नाकामयाबी नहीं, चोट से परेशान हैं कुंबले

डीआरएस के इस्तेमाल को लेकर खुश भारतीय कोच, विराट की भी तारीफ की

Updated On: Dec 06, 2016 05:36 PM IST

FP Staff

0
ओपनर की नाकामयाबी नहीं, चोट से परेशान हैं कुंबले

तीन टेस्ट मैचों के बाद सीरीज में 2-0 से बढ़त ले लेना भी अनिल कुंबले की फिक्र कम नहीं कर पाया होगा. भारतीय क्रिकेट टीम के कोच की चिंता ओपनिंग जोड़ी की होगी, जो काफी समय से बिखरी हुई है. सीरीज के तीनों मैचों में टीम इंडिया अलग जोड़ी के साथ मैच में उतरी. न्यूजीलैंड और उससे पहले वेस्ट इंडीज के खिलाफ सीरीज में भी टीम में सलामी बल्लेबाजी को लेकर चिंताएं थीं.

भारतीय टीम के कोच कुंबले ने कहा कि हमारे पास तय सलामी बल्लेबाज हैं, लेकिन लगातार कोई न कोई चोटिल है. उन्होंने कहा, ‘चोट का आप कुछ नहीं कर सकते. यह हमारे नियंत्रण में नहीं. चोट खेल का हिस्सा होती हैं. केएल राहुल को वाइजैग में फील्डिंग के दौरान चोट लगी. वो चोटिल नहीं होते, तो विजय के साथ वह ओपनिंग जोड़ी बनाते हैं.’

RPT...Visakhapatnam: Indian cricketer KL Rahul dives to take a catch during a practice session ahead of the 2nd Test match against England in Visakhapatnam on Wednesday. PTI Photo by Ashok Bhaumik(PTI11_16_2016_000267B)

केएल राहुल.

समस्या इस बात की है कि जो भी सलामी बल्लेबाज खेले हैं, वे भी कोई बड़ा स्कोर नहीं कर पाए हैं. गौतम गंभीर और केएल राहुल फेल हुए हैं और मुरली विजय एक शतकीय पारी के अलावा कुछ खास नहीं कर पाए हैं. मोहाली टेस्ट में भी विजय फेल हुए थे. हालांकि मेकशिफ्ट ओपनर के तौर पर पार्थिव पटेल दोनों पारियों में उपयोगी रन बनाने में कामयाब हुए थे.

कुंबले ने पार्थिव की तारीफ करते हुए कहा, ‘जिन हालात में हम हैं, उनमें हमारा प्रदर्शन  अच्छा रहा है. पार्थिव पिछले मैच में आए और बढ़िया काम किया. मुझे पूरी उम्मीद है कि चौथे टेस्ट के लिए राहुल पूरी तरह फिट होंगे.’ पार्थिव पटेल आठ साल के बाद टेस्ट क्रिकेट में लौटे और दो पारियों में 42 और 67 रन बनाए.

कुंबले ने इन आरोपों को बेबुनियाद करार दिया कि जिम में जरूरत से ज्यादा वक्त बिताने की वजह से खिलाड़ी चोटिल हो रहे हैं. कुंबले ने कहा, ‘मैं इतना ही कह सकता हूं कि फिटनेस पैरामीटर के लिहाज से वर्तमान टीम शायद बेहतरीन है. मैं 90 के दशक में खेला हूं, जब फिटनेस का मुद्दा आपकी अपनी पसंद के लिहाज से तय होता था. 2000 के बाद कल्चर बदला और आप फर्क देख सकते हैं. चोट मॉडर्न क्रिकेट का हिस्सा है.’

Mohali: Indian cricket team's head coach Anil Kumble bowls  during a practice session ahead of the 3rd test match against England in Mohali on Thursday. PTI Photo by Vijay Verma (PTI11_24_2016_000199B)

कुंबले ने अपना उदाहरण देते हुए कहा, ‘अपनी बात करूं, तो कंधे की सर्जरी के बाद मैं सबसे फिट महसूस कर रहा था. मजबूती और मैदान पर क्या कर सकता हूं, इस लिहाज से मैं जल्दी उबरने में कामयाब रहा. इसलिए मुझे लगता है कि जो लोग आलोचना कर रहे हैं, वो उनकी व्यक्तिगत राय है.’

डीआरएस को लेकर खुश हैं भारतीय कोच

भारत को डीआरएस के लिए राजी होने में कुंबले का बड़ा रोल रहा है. 2009 में श्रीलंका दौरे पर अनुभव के बाद भारत हमेशा से इसके खिलाफ था. कुंबले ने कहा, ‘यह बहुत अच्छा रहा है. कुल मिलाकर खिलाड़ी इससे खुश हैं. अहम है सही समय पर सही फैसला लेना. मुझे लगता है कि पिछले तीन टेस्ट में हम ऐसा करने में कामयाब रहे हैं. इंटरनेशनल क्रिकेट में जिस तरह के बैलेंस की उम्मीद की जाती है, उसे डीआरएस ने बढ़ाया है.’

विराट की कप्तानी की तारीफ

कुंबले ने विराट कोहली की कप्तान के तौर पर तारीफ की. उन्होंने कहा कि जो बढ़त भारत को मिली है, उसमें गेंदबाजों और विराट कोहली ने जिस तरह फील्ड प्लेसमेंट की, उसका बड़ा हाथ है. कुंबले ने कहा, ‘सभी पांच गेंदबाजों का योगदान रहा है. हमने सीरीज में सिर्फ एक पारी में पांच विकेट का प्रदर्शन देखा. इससे समझा जा सकता है कि कैसे हर गेंदबाज ने अपना असर छोड़ा है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi