S M L

कोच से लगी आईफोन की शर्त ने कमलेश को बेहतर खेलने में की मदद

कमलेश नागरकोटी के कोच ने दो साल पहले उन्हें वादा किया

FP Staff Updated On: Feb 01, 2018 11:03 AM IST

0
कोच से लगी आईफोन की शर्त ने कमलेश को बेहतर खेलने में की मदद

18 साल के युवा तेज गेंदबाज कमलेश नागरकोटी न्यूजीलैंड में हो रहे आईसीसी अंडर-19 वर्ल्ड कप में खेल रहे हैं. उनकी 146.9 किमी की रफ्तार से दुनिया भर के बल्लेबाज खौफ में हैं लेकिन इस युवा का मकसद बल्लेबाजों को खौफ में रखना नहीं है, बल्कि अन्य युवाओं की तरह आईफोन खरीदना है.

दरअसल, नागरकोटी के कोच सुरेंद्र सिंह राठौड़ उन्हें दो साल से आईफोन दिलाने का वादा कर रहे हैं. कोच ने पहले अंडर-19 टीम में शामिल होने की शर्त रखी लेकिन टीम में शामिल होने के बाद भी फोन दिलाया नहीं.

उसके बाद जूनियर चैलेंजर ट्रॉफी में अच्छा प्रदर्शन करने की शर्त रखी, लेकिन कमाल के प्रदर्शन के बावजूद आईफोन का नाम तक नहीं लिया. फिर विजय हजारे ट्रॉफी के लिए राजस्थान की सीनियर टीम में चयन की शर्त रखी. वहां अपने राज्य के लिए सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज के रूप में नागरकोटी उभरे, लेकिन यह पड़ाव पार करने बावजूद आईफोन नहीं मिला.

इसके बाद भी कोच की शर्तों का अंत नहीं हुआ. लिहाजा नई और आखिरी शर्त अंडर-19 वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा बनना बन गई. वर्ल्ड कप में अब भारत फाइनल में है और सेमीफाइनल तक धमाल मचाने के बाद भी नागरकोटी को नहीं मिला है आईफोन.

Kamlesh Nagarkoti (IND)

जबकि 27 और 28 जनवरी को बेंगलुरू में हुई आईपीएल नीलामी के बाद कमलेश नागरकोटी अंडर-19 वर्ल्ड कप से आईपीएल में इंट्री लेने वाले इस श्रेणी में सबसे महंगे खिलाड़ी बन गए हैं. इस युवा की धारदार गेंदबाजी को देखते हुए कोलकाता नाइट राइडर्स ने उन्हें 3 करोड़ 20 लाख में खरीदा है.

बहरहाल, नागरकोटी की आईफोन खरीदने की इच्छा अब पूरी होती दिख रही है. इतने रुपए में वह अब 256 जीबी वाले 372 आईफोन-10 खरीद सकता है. बता दें कि 256 जीबी वाला आईफोन-10 तकरीबन एक लाख रुपए का है.

नागरकोटी के सभी साथियों के पास पहले से ही आईफोन हैं. नागरकोटी का कहना है, ‘जब भी मैं अपना फोन निकालता हूं, मेरी टीम के साथी मुझे कहते हैं 'भाई फोन बदल लो. दो साल हो गए, ये ही देख रहे हैं. अब कितनी गरीबी दिखाएगा. इतना तो नहीं है.’

(साभार- न्यूज18)

फोटो साभार- कमलेश नागरकोटी फैंस कल्ब

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi