S M L

IPL 2018, KXIP VS MI : लोकेश राहुल की शानदार पारी भी ना बचा सकी किंग्स इलेवन को हार से, मुंबई इंडियंस दौड़ में कायम

मुंबई इंडियंस ने आठ विकेट पर 187 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया, जवाब मैें पंजाब की टीम निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट पर 183 रन ही बना सकी

Updated On: May 17, 2018 12:55 AM IST

FP Staff

0
IPL 2018, KXIP VS MI : लोकेश राहुल की शानदार पारी भी ना बचा सकी किंग्स इलेवन को हार से, मुंबई इंडियंस दौड़ में कायम

मुंबई इंडियंस ने काइरन पोलार्ड की 23 गेंदों में पांच चौकों और तीन छक्के जड़ित 50 रन की अर्धशतकीय पारी बुधवार को इंडियन प्रीमियर लीग टी-20 मैच में किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ आठ विकेट पर 187 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया.  इसके जवाब में किंग्स इलेवन पंजाब सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल की 60 गेंदों में 10 चौके और तीन छक्के वाली पारी और एरोन फिंच (46) के साथ दूसरे विकेट के लिए 12.2 ओवर में 111 रन की शतकीय साझेदारी की बदौलत लक्ष्य के बेहद करीब पहुंच कर भी जीत से वंचित हो गया. किंग्स इलेवन पंजाब दिलचस्प मैच में मुंबई इंडियंस के हाथों तीन रन से हार का सामना करना पड़ा. पंजाब की टीम निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट पर 183 रन ही बना सकी.

मुंबई इंडियंस 13 मैचों में इस छठी जीत से 12 अंक लेकर चौथे स्थान पर पहुंच गई और प्लेऑफ में पहुंचने की दौड़ में बनी हुई है जबकि किंग्स इलेवन पंजाब 13 मैचों में 12 अंक से छठे स्थान पर खिसक गई है.

जल्दी चलते बने क्रिस गेल

किंग्स इलेवन पंजाब ने अपने विस्फोटक सलामी बल्लेबाज क्रिस गेल (11 गेंद में दो चौके और एक छक्के से 18 रन) का विकेट जल्द ही खो दिया, जो मिचेल मैक्लेनाघन (37 रन देकर दो विकेट) की बाउंसर गेंद को ज्यादा ही ऊंचा खेल गए. बेन कटिंग ने कोई गलती नहीं की और भागते उनका कैच आसानी से लपक लिया. शानदार फॉर्म में चल रहे राहुल और फिंच संभलकर खेले. राहुल जब 21 रन पर थे, उन्हें जीवनदान मिला था. उन्होंने इस मौके का पूरा फायदा उठाया और क्रुणाल पांड्या की गेंद पर लांग आन पर गगनचुंबी छक्का जड़कर 36 गेंद में छह चौके और एक छक्के से टूर्नामेंट के इस चरण में छठा अर्धशतक पूरा किया. वह अभी तक 13 मैचों में 651 रन जुटाकर ‘ऑरेंज कैच’ बरकरार रखे हैं.

जसप्रीत बुमराह ने बनाया दबाव 

इसके बाद अगले 12वें ओवर में जसप्रीत बुमराह (चार ओवर में 15 रन देकर तीन विकेट) के ओवर में महज चार रन बने जिससे किंग्स इलेवन पंजाब पर दबाव बढ़ता जा रहा था तथा जीत के लिए जरूरी रन रेट 11 तक पहुंच गया. दोनों बल्लेबाजों में राहुल आक्रामक थे और दबाव को कम करने के लिए उन्होंने युवा मयंक मार्कंडेय के तीसरे ओवर में लगातार दो छक्के जड़े जिससे 16वें ओवर में 18 रन जुड़े. पर फिंच अर्धशतक से चूक गए और बुमराह की गेंद पर आउट हुए. हार्दिक पांड्या ने शानदार कैच लपककर उनकी 46 रन (तीन चौके और एक छक्का) की पारी समाप्त की जिसके लिए उन्होंने 35 गेंद का सामना किया.

 राहुल के आउट होते ही खत्म हुई उम्मीद

अब जिम्मेदारी राहुल की कंधों पर थी, पर दूसरे छोर पर मार्कस स्टोइनिस इसी ओवर में विकेटकीपर ईशान किशन को कैच देकर पवेलियन लौट गए. अक्षर पटेल को युवराज सिंह से पहले बल्लेबाजी के लिए भेजा गया. 18वें ओवर में राहुल ने बेन कटिंग की गेंदों को धुना और आक्रामकता दिखाते हुए हर कोण से चौके जड़े जिससे वह आईपीएल सत्र में लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी भी बन गए. इससे पहले डेविड वार्नर ने 2016 में 468 रन बनाए थे. पर बुमराह की धीमी गेंद को राहुल समझ नहीं सके और कटिंग को कैच दे बैठे. बस अब मैच की 10 गेंद खेली जानी बाकी थी. अंतिम ओवर में जीत के लिए 17 रन की दरकार थी. युवराज भी आउट हो गए. अक्षर पटेल (नाबाद 10) ने छक्का जड़कर प्रयास किया, लेकिन हार से नहीं बचा सके.

एंड्रयू टाई की शानदार गेंदबाजी 

इससे पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने के बाद मेजबान टीम ने अच्छी शुरुआत के बावजूद ‘पर्पलकैप धारी’ एंड्रयू टाई की शानदार गेंदबाजी के सामने लगातार विकेट गंवा दिए. लेकिन पोलार्ड (23 गेंद में पांच चौके और तीन छक्के) और क्रुणाल पांड्या (32 रन, 23 गेंद में एक चौके और दो छक्के) ने पांचवें विकेट के लिए 65 रन की भागीदारी निभाकर उसे यह सम्मानजनक स्कोर बनाने में अहम भूमिका अदा की.  मुंबई ने 59 रन पर दो अहम विकेट गंवा दिए और पावरप्ले के छह ओवर में तीन विकेट पर 60 रन बनाए. टाई ने शानदार गेंदबाजी करते हुए पावरप्ले में अपने दो ओवर में महज पांच रन देकर तीन विकेट अपने नाम किएय इसके बाद रन गति धीमी होती रही.

 रोहित शर्मा  भी नहीं चल सके

अब कप्तान रोहित शर्मा (06) क्रीज पर उतरे, दर्शकों को उनसे काफी उम्मीद लगी हुई थी. रोहित भी ज्यादा देर तक नहीं टिक सके, राजपूत (46 रन देकर एक विकेट) की गेंद को टाइम नहीं करने से मिड आन पर खड़े युवराज सिंह ने उनका आसान कैच लपक लिया। टीम ने 71 रन पर चार विकेट खो दिए.  क्रुणाल और जेपी डुमिनी की जगह उतारे गये पोलार्ड के क्रीज पर आने के बावजूद तेजी से रन नहीं बन रहे थे. पहले पांच ओवर में जहां एक विकेट के नुकसान पर नौ बाउंड्री लगी तो अगले पांच ओवर में केवल एक बाउंड्री 10वें ओवर में पोलार्ड के बल्ले से लगी व तीन विकेट गिरे.

36 गेंद में 65 रन जोड़ दिए

इसके बाद वानखेड़े स्टेडियम की दो ‘लाइट टावर’ की बिजली गुल हो गई जिससे कुछ देर के लिये खेल रूक गया. बारहवां ओवर कुछ राहत लेकर आया जिसमें क्रुणाल ने स्टोइनिस की गेंदों पर लगातार दो छक्के और एक चौका जमाया जिससे 19 रन बने. पोलार्ड ने भी हाथ खोलते हुए अक्षर पटेल की गेंद पर अपनी पारी का पहला छक्का डीप मिडविकेट में लगाया. इसके बाद पोलार्ड ने तेजी से रन जोड़ना शुरू किया. इस तरह उन्होंने और क्रुणाल ने पांचवें विकेट के लिए महज 36 गेंद में 65 रन जोड़ दिए. लेकिन स्टोइनिस ने ऑफ कटर गेंद में क्रुणाल का विकेट हासिल किया. पर जैसे ही पोलार्ड ने अपना पचासा पूरा किया, वह पंजाब के कप्तान आर अश्विन की गेंद का शिकार बने. फिर अश्विन ने बीजे कटिंग के रूप में दूसरा विकेट हासिल किया. हार्दिक पांड्या (09) टाई का चौथा शिकार बने.  

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi